इस अंक के रचनाकार

इस अंक के रचनाकार आलेख : साहित्य में पर्यावरण चेतना : मोरे औदुंबर बबनराव,बहुजन अवधारणाः वर्तमान और भविष्य : प्रमोद रंजन,अंग्रेजी ने हमसे क्या छीना : अशोक व्यास,छत्तीसगढ़ के कृषि संस्कृति का पर्व : हरेली : हेमलाल सहारे,हरदासीपुर दक्षिणेश्वरी महाकाली : अंकुुर सिंह एवं निखिल सिंह, कहानी : सी.एच.बी. इंटरव्यू / वाढेकर रामेश्वर महादेव,बेहतर : मधुसूदन शर्मा,शीर्षक में कुछ नहीं रखा : राय नगीना मौर्य, छत्तीसगढ़ी कहानी : डूबकी कड़ही : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,नउकरी वाली बहू : प्रिया देवांगन’ प्रियू’, लघुकथा : निर्णय : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,कार ट्रेनर : नेतराम भारती, बाल कहानी : बादल और बच्चे : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’, गीत / ग़ज़ल / कविता : आफताब से मोहब्बत होगा (गजल) व्ही. व्ही. रमणा,भूल कर खुद को (गजल ) श्वेता गर्ग,जला कर ख्वाबों को (गजल ) प्रियंका सिंह, रिश्ते ऐसे ढल गए (गजल) : बलबिंदर बादल,दो ग़ज़लें : कृष्ण सुकुमार,बस भी कर ऐ जिन्दगी (गजल ) संदीप कुमार ’ बेपरवाह’, प्यार के मोती सजा कर (गजल) : महेन्द्र राठौर ,केशव शरण की कविताएं, राखी का त्यौहार (गीत) : नीरव,लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की नवगीत,अंकुर की रचनाएं ,ओ शिल्पी (कविता ) डॉ. अनिल कुमार परिहार,दिखाई दिये (गजल ) कृष्ण कांत बडोनी, कैलाश मनहर की ग़ज़लें,दो कविताएं : राजकुमार मसखरे,मंगलमाया (आधार छंद ) राजेन्द्र रायपुरी,उतर कर आसमान से (कविता) सरल कुमार वर्मा,दो ग़ज़लें : डॉ. मृदुल शर्मा, मैं और मेरी तन्हाई (गजल ) राखी देब,दो छत्तीसगढ़ी गीत : डॉ. पीसी लाल यादव,गम तो साथ ही है (गजल) : नीतू दाधिच व्यास, लुप्त होने लगी (गीत) : कमल सक्सेना,श्वेत पत्र (कविता ) बाज,.

मंगलवार, 1 मई 2007

पानी माढ़े ह नइ गावय खल - भल - खल - भल गाना



     
जीवन यदु
जीयत - जागत मनखे बर जे, धरम बरोबर होथय  ।
एक साँस आजादी के सौ - जनम बरोबर होथय  ।
            
जेकर चेथी मं जूड़ा कस , माढ़े रथे गुलामी ,
जेन जोहारे बइरी मन ल, घोलंड के लामा - लामी,
नाँव ले जादा जग मं ओकर, होथे गा बदनामी,
अइसन मनखे के जिनगी, बेसरम बरोबर होथय  ।
एक साँस आजादी के सौ - जनम बरोबर होथय  ।
            
लहू के नदिया तउँर निकलथे, बीर ह जतके बेरा,
बेर निकलथे मेट के करिया बादर वाला घेरा,
तभे उसलथे उजियारी ले अंधियारी के डेरा,
सबो परानी बर आजादी, करम बरोबर होथय  ।
एक साँस आजादी के सौ - जनम बरोबर होथय  ।
            
जेला नइ हे आजादी के, एकोकनी चिन्हारी,
पर के कोठा के  बइला मन चरथँय  ओकर बारी,
आजादी के बासी आगू बिरथा सोनहा थारी,
सोन के पिंजरा मं आजादी, भरम बरोबर होथय  ।
एक साँस आजादी के सौ - जनम बरोबर होथय  ।
            
माढ़े पानी ह नइ गावय , खल - भल - खल - भल गाना,
बिना नहर उपजाय  न बाँधा, खेत मं एको दाना ,
अपन गोड़ के बंधना छोरय , ओला मिलय  ठिकाना,
आजादी ह सब बिकास के, मरम बरोबर होथय  ।
एक साँस आजादी के सौ - जनम बरोबर होथय  ।
कहे नइ पायेवँ अउ का बेरा आगे ?
( जुद्ध अउ प्रेम के संदर्भ में )
धरती कस सुन्दर हस तँय  ह संगवारी,
आने सुन्दरता ह लागय  लबारी -
- कहे नइ पायेवँ अउ का बेरा आगे ?
धरती के छाती ह बम ले कुचरागे ।

        

    मनखे के भीतर जब जागिस जिनावर,
    माँस के पहाड़ खोजयँ, लहू के चितावर,
    होगे भसान सही गाँव - देस - बस्ती,
    मन मं कइसे गहसे परसा अउ गस्ती ?
महमहाये तन - मन तोर, जइसे फुलवारी,
साँस ह लगे तोर बिन मोला लबारी -
- कहे नइ पायेवँ अउ का बेरा आ गे ?
फूल - पान रूख - राई, जम्मो झंवागे ।

        

    चारों खुंट घटाघोप, छा गे अउ सनाका,
    बरसे गोला - गोली, धाँय  - धुम - धनाका,
    लहू ह बोहावत हे, पानी कस रेला,
    मनखे के कीमत, जस कौड़ी अधेला,
तन हरियर,  मन हरियर, उम्मर मोटियारी,
धान के नवा खेत लागय  लबारी -
- कहे नइ पायेवँ अउ का बेरा आ गे ?
धनहा डोली बिन बियासे लुवागे ।

        

    हो कोनो रूसी - चीनी अउ इराकी,
    धरती के नाता ले मोर कका - काकी,
    जुद्ध म मरय   कोनो मनखेच  ह मरथे
    कोनो घर भसके, मोर भिथिया ओदरथे,
बोली गुलाल, तोर हाँसी पिचकारी,
इन्द्रधनुस रंग लगय  जुच्छा लबारी -
- कहे नइ पायेवँ अउ का बेरा आगे ?
धरती के धुँगिया ले बादर करियागे ।

        

    बरपेली झगरा अउ जुद्ध खेल हो गे ।
    पिकरी कस झगरा ह आज बेल हो गे ।
    देस आने - आने पन धरती हे एके ।
    मया के मयारू दू खंभा मं टेके ।
देखे हवँ जब ले तोर अँगना - दुवारी,
लागय  सरग तब ले मोला लबारी -
कहे नइ पायेवँ अउ का बेरा आगे ?
धरती के फोटू के कोनहा चिरागे । 
                            पता दाउ चौरा, खैरागढ़ 
जिला - राजनांदगांव (छत्‍तीसगढ़)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें