इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

रविवार, 24 मार्च 2013

छत्तीसगढ़ी संस्कृति की गलत जानकारी अक्षम्य

- समीक्षक - कुबेर -
अध्यात्मिकता से प्रारंभ होकर, समकालीनता का निर्वहन करते हुए श्रृँगार को अंज़ाम देने वाले मुकुंद कौशल की ग़ज़ल संग्रह मोर ग़ज़ल के उड़त परेवा की छत्तीसगढ़ी ग़ज़लों को पढ़कर मन में सुखद अनुभूति होती है।
काया के का गरब करत हस,जब तक चले चला ले,
एक्केदारी घुर जाही,ये काया हवै बतासा।
(ग़ज़ल क्र. - 1, पृ. 10)
धरे कांसड़ा ऊपर बइठे, तेकर ग़म ल का पाबे,
जिनगी के गाड़ा ल वो हर, कोन दिसा मा मोड़ दिही।
(ग़ज़ल क्र. - 5, पृ. 13)
ये गरीब के कुरिया संगी, वो दाऊ के बाड़ा है।
ये मन सूतै लांघन वोती,चाँऊर गाड़ा-गाड़ा हे।
इन्कर अँधियारी कुरिया के चिमनी घलो बुता जाथे,
उन पोगराए हें अँजोर ल, ये कइसन गुन्ताड़ा हे।
(ग़ज़ल क्र. - 21, पृ. 29)
बादर अइसन छाए लगिस। सुरता उन्कर आए लगिस।
मन झूमे-नाचे कौशल, माँदर कोन बजाए लगिस।
(ग़ज़ल क्र. - 48, पृ. 56)
यह सुखद अनुभूति उसी तरह की होती है, जैसे दुश्यंत कुमार की साये में धूप को पढ़कर होती है; अत: यहाँ पर साये में धूप की संक्षिप्त चर्चा जरूरी है।
गजल की ताकत और नफासत के विषय में कुछ कहने की जरूरत नहीं है। परंतु इतना तो तय लगता है, और यहाँ ऐसा लगने में कोई अतिशयोक्ति भी नहीं होगी, कि इसे यह ताकत और नफासत उर्दू से मिलती है। उर्दू के अतिरिक्त दिगर भाषा से इसे ऐसी ताकत और नफासत मिलना मुश्किल है। यही वजह है कि ग़ज़ल ने जो ख्याति उर्दू में अर्जित किया है, अन्य भाषाओं में नहीं। इस कथन के विरोध में आप बेशक साये में धूप को सामने ला सकते हैं, परंतु ऐसा करने से पहले साये में धूप को पुन: पढ़कर देख लीजिये। और नहीं तो इसकी सबसे बेहतरीन और सर्वाधिक मक़बूल ग़ज़लों और शेरों को पढ़कर देख लीजिये। जैसे -
आज यह दीवार परदे की तरह हिलने लगी,
शर्त मगर यह थी कि बुनियाद हिलनी चाहिये।
सिर्फ  हंगामा खड़ा करना मेरा मक़सद नहीं था,
मेरी कोशिश थी कि सूरत बदलनी चाहिये।
यहाँ दीवार, बुनियाद, मक़सद, और सूरत की जगह भित्ति, नींव, उद्देश्य और परिस्थिति जैसे शब्द रखकर देख लीजिये। हंगामा के बदले में तो कोई दूसरा शब्द सोचा भी नहीं जा सकता।
साये में धूप को चाहें हम हिन्दी की गजल मानते रहें हैं, पर इसकी लोकप्रियता में हिन्दी का कोई बड़ा योगदान नहीं दिखता। इसकी लोकप्रियता इसकी विषयवस्तु और दुश्यन्त कुमार की शिल्पगत कुशलता में निहित है। आम आदमी अपने हक की जिन बातों को, या अपने मन के जिन आक्रोशों को व्यक्त नहीं कर पाता है,उन्हीं सारी बातों को शायर ने अपनी ग़ज़ल का विषय बनाया है। ज़ाहिर है, संग्रह को पढ़ते वक्त आम पाठक स्वयं को, स्वयं के आक्रोश को, अभिव्यक्त करता हुआ महसूस करता है। इस संग्रह की ग़ज़लों में कही गई बातें उन्हें अपनी ही बातें प्रतीत होती हैं। इस तरह दुश्यन्त कुमार ने साये में धूप के माध्यम से जनता की आवाज को ही बुलंद किया है और यही बात इस संग्रह की लोकप्रियता का सबसे बड़ा कारण है।
विषयवस्तु के स्तर पर यही बात मुकुंद कौशल की छत्तीसगढ़ी में लिखी मोर ग़ज़ल के उड़त परेवा की ग़ज़लों पर भी लागू होती है। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद, इसके लिये, और यहाँ की सवा दो करोड़ जनता के लिये,अमीर धरती के गरीब लोग उक्ति प्रचलित हुई।  इस उक्ति ने छत्तीसगढ़ का किसी तरह भला किया होगा, इसमें संदेह है। छत्तीसगढ़ राज्य की परिकल्पना एक आदिवासी राज्य के रूप में की गई थी। यहाँ आदिवासियों और पिछड़ों की संख्या लगभग बराबर है।  अनुसूचित जातियों की भी बड़ी संख्या यहाँ निवास करती है। जाहिर है, शुरू से ही यहाँ की जनता आर्थिक, शैक्षिक और धार्मिक शोषण का शिकार होती रही है। आजादी के बाद भी यही सूरत बनी रही। पृथक छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद कुछ उम्मादें जगी थी, परन्तु गैर छत्तीसगढ़ियों के द्वारा आज इस अमीर धरती के अमूल्य प्राकृतिक संसाधनों, जिन्हें यहाँ के लोग बड़े जतन से सहेजकर रखे हुए थे, को लूटने की होड़ मची हुई है। इन्हीं विषयों को, इन्हीं सारी बातों को, मुकुंद कौशल ने बड़ी खूबी और धारदार तरीके से अपनी ग़ज़लों का विषय बनाया है। कुछ उदाहरण प्रस्तुत है -
राज बनिस ते राज करे बर, बाहिर ले मनखे आवत हें,
हम मर-मरके चूल्हा फूँकेन, चुरे-पके म सगा हबर गे।
साहेब, बाबू, नेता जुरमिल, नाली-पुलिया तक खा डारिन,
गरूवा मन बर काहीं नइये, मनखें सब्बो चारा चरगें।
(ग़ज़ल क्र. - 18, पृ. 26)
भुँइया महतारी के जेमन, खुद ला समझिन मालिक,
आज उही मन हो गे हावैं, अपने घर मा दासा।
का गोठियावौं कौसल मैं हर, भुँइया के दुख पीरा,
भूख मरत हे खेती अउ, तरिया मरे पियासा।
(ग़ज़ल क्र. - 2, पृ. 10)
बने फायदा हावै संगी, राजनीति बैपार मा।
इही पाय के सबो झपाथें, ये पूरा के धार मा।।
ये कइसन सरकार हवै, का अइसन ल सरकार कथैं?
हमरे बिजली बेच के हमला, राखत हें अँधियार मा। 
(ग़ज़ल क्र. - 4, पृ. 12)
यहाँ कहना न होगा कि राजनीति की बाढ़ में झपाने वाले लोग कौन हैं और कहाँ के हैं। बिजली निश्चित ही यहाँ के प्राकृतिक संसाधनों और समृद्धि का प्रतीक है।
छत्तीसगढ़ बनने के बाद छत्तीसगढ़ियों का सपना किस कदर चूर-चूर हुआ है, यह शेर उसी की बानगी प्रस्तुत करता है, -
सुने रेहे हन छत्तीसगढ़ म, सूरूज नवा अवइया है,
खोजौ वो सपना के सूरूज, कोन दिसा म अटक गइस।
(ग़ज़ल क्र. - 20, पृ. 28)
पूरी तरह छत्तीसगढ़ी में लिखी गई मुकुंद कौशल के इस ग़ज़ल संग्रह ने छत्तीसगढ़ी भाषा के सामर्थ्य को भी स्थापित किया है। संप्रेषणीयता की ताकत और नफासत के मामले में मुकुंद कौशल की ये छत्तीसगढ़ी ग़ज़लें उर्दू गजलों से किसी भी माने में कम नहीं है। इस मामले में छत्तीसगढ़ी भाषा हिन्दी से बीस ही साबित हुई हैं। हाना छत्तीसगढ़ी भाषा की जान है। संग्रहीत ग़ज़लों में न सिर्फ  हाना का स्वभाविक प्रयोग हुआ है, जिससे इनकी सम्प्रेषणीयता बढ़ी हैं, अपितु शायर ने ऐसे नये-नये प्रतीकों और उपमानों का प्रयोग किया है, जिससे पाठक चमत्कृत हुए बिना नहीं रहता।
चिमटत हावै जूड़ हवा, अगहन बइठे पाँव पसार।
संझा बेरा सूरूज ल, खांद म बोहे चलिन कहार।
(ग़ज़ल क्र. - 47, पृ. 55)
जब देखौ तब गावत रहिथे, पुरवाही त हवै भजनही।
डहर रेंगइया संसो झनकर, पाँव रहत ले सौ ठन पनही।
(ग़ज़ल क्र. - 37, पृ. 45)
इसमें कोई संदेह नहीं है कि -
कौसल के संदेश लिखाए, मया-दया के पाती ल,
मोर ग़ज़ल के उड़त परेवा, गाँव-गली अमरावत हे।
(ग़ज़ल क्र. - 42, पृ. 50)
लेकिन लगता है कि शायर को छत्तीसगढ़ी संस्कृति का पूर्ण ज्ञान नहीं है। अपने पहले ग़ज़ल संग्रह में उन्होंने बैल को सोहई पहनाया था -
पीरा कांछन चघे, साँट लेवय जिनगी के मातर मां,
सुख संग दुख के बइला ल, तैं घलो सुहई पहिराए कर।
(छत्तीसगढ़ी ग़ज़ल, द्वितीय संस्करण, पृ. 29)
इसी तरह की अक्षम्य गलतियाँ मोर ग़ज़ल के उड़त परेवा में भी हुई हैं।
आँखीं फारे सबके आगू जे हर जादा अँइठे ते,
एक चरू दारू ला पीके, घेरी-बेरी गोड़ धरै।
(ग़ज़ल क्र. - 8, पृ. 16)
यहाँ चरू में दारू पीने की न तो परंपरा है और न ही चरू का उपयोग किसी पैमाने के लिये ही किया जाता है। इसका उपयोग मांगलिक कार्यों में किया जाता है।
जुच्छा चूरी होगे जब ले, एक बनिहारिन मोटियारी,
(ग़ज़ल क्र. - 9, पृ. 17)
यहाँ जुच्छा चूरी कहने की परंपरा नहीं है, अपितु जुच्छा हाथ, या खाली हाथ ही कहा जाता है।
कांड़ बंधाये डोरी धर के ढेंकी म उत्ता-धुर्रा,
ओरम-ओरम के अपन धान ल छरिन तहाँ ले भगवान।
(ग़ज़ल क्र. - 3, पृ. 11)
ढेंकी में धान कूटने वाले कार्य कुशलता और सहारे के लिये डोरी को मयार में बाँधते हैं, कांड़ में नहीं। इसी तरह धान को कूटा जाता है, छरा नही जाता। छरना क्रिया चाँवल, मेरखू या दाल के लिये किया जाता है। छरने का मतलब होता है,पालिस करना।
खरही ल राखे रहिथे रखवार असन,
ब्यारा के रूँधना ला राचर कहिथें।
(ग़ज़ल क्र. - 8, पृ. 16)
रूँधना और राचर, दोनों ही अलग-अलग चीजें है। रूँधना को कहीं भी राचर नहीं कहा जाता।
शायर से ये गलतियाँ चाहे अनजाने में हुई हों, पर भविष्य में ये गलतियाँ छत्तीसगढ़ की संस्कृति की गलत जानकारियाँ प्रस्तुत करेंगी। इस तरह की गलत जानकारी देने के लिये किसी भी लेखक या कवि को कभी माफ  नहीं किया जाना चाहिये।
पता - ग्राम - भोढि़या, पोष्‍ट - सुरगी, जिला - राजनांदगांव (छग)

storybykuber.blogspot.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें