इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

शनिवार, 13 अप्रैल 2013

स्‍वर्गीय कृष्‍ण कुमार नायक की कुछ रचनाएं


खुद को तपाया था।
  • कृष्‍ण कुमार नायक
अपने पैदा होने के साथ मैं
लोहा हो गया
मेरी मां ने मुझे कोख में लेने के पहले
बहुत दिनों तक भठ्ठी में
खुद को तपाया था।
        मुझे नहीं मालूम -
        अपनी रिक्तता में मेरी मां
        कहां - कहां नहीं भटकी।
        पर यकायक उसके जिस्म में
        सुर्खी उभरी शायद उन दिनों मैं
        भ्रूण हो गया था - मां के महीन इरादों का।
जब मैंने मां के पेट में आंखें खोली थीं
मैंने भीतर ही भीतर
मां के जिस्म को जांचना शुरू कर दिया था
और गहरे भू - कम्प के साथ बाहर आ गया।
        दूध पीते बच्चे मुझे मूर्ख लगते हैं
        मैं लोहा हूं अपनी पैदाइश के साथ
        मैं कुतरता हूं मिट्ïटी के बड़े - बड़े ढेले
        और पचा जाता हूं अपनी अतड़ियां
        कि बारीक से बारीक संवेदन की बूंद
        मेरे इरादों को मां के इरादों से
        कहीं कमजोर न कर दे मुझे।
तपते ज्वार में उफनकर
जैसे मेरी मां मर गई
मैंने उसके ज्वार की गर्मी को
अपने हौसलों से बांध लिया है
और मैं अब अपने लोहे से खड़ा हूं
श्मशान के घेरे में
किन लोगों ने मेरी मां को दफनाया है
अपनी जमीन से हटाकर - कब्र में!!
गजल
पर्दे की ओट में क्या कुछ नहीं होता।
उनकी नजर में है हर कोई सोता॥
    चंदन की खुशबू छिपाने से क्या होगा।
    गालों की सुर्खियाँ छिपाओ तो जाने॥
    ना - ना कहोगे जमाने के डर से।
    आँखों में बसी तस्वीर छिपाओ तो जाने॥

सवालों की झड़ियाँ लगा सकते हो।
इल्जाम मुझ पर अनेकों लगे हैं॥
जवाब तुम्हारे ख्वाबों में कैद हो गए।
साफगोई के इरादे मचलने लगे हैं॥

    औपचारिकताएं टूट जाएं तो बेहतर।
    पहचान गर रिश्तों में जुड़े तो क्या हो॥
    अमानत में बदनीयती अब ठीक नहीं।
    दो अलग राहें एक ही तरफ मुड़े तो क्या हो॥
    ग़ज़ल
चलो चल कर टहल आएं
शायद कोई सड़क निकल आए

खनकता बर्तन मजूर का
घर में घूस जंगल आए

भीड़ बहुत है नदियों की
मछली में एक बदल आए

रहट - जूते बादलों के संग
काला पानी मुकम्मल आए

तरसे हुए चरण उम्र के
संसद ओढ़कर चप्पल आए

गर्म चर्चा फंसी उंगलियों में
क्रोशिए से बुन गजल आए
कविता 
बाहर - ए - रूवाईयात
नगर के पार तो चलें
गांव के कोठार पर ठहरें
मौसम की उदासी की चिंता
रंगीन लगते आसमां के नखरे॥
    आदमी का दर्द को देखने की जरूरत नहीं
    उसे समझा या महसूसा जावे
     मरहम पट्टी बांध कर दर्द दूर करने वालों
    गरीबों की भावनाओं को अब न चूसा जावे॥
माना हमसे कटकर रह सकते हो
आखिर कब तक आवरण में रहोगे
लेकिन आप अपने से अलग जा रहे हो
सोयी आँखों से भी जागरण में रहोगे॥
    गीतिका
उस दिए तले अंधेरा है
आज अंधेरा जलता है
दिए की यह सफलता है।
    है तो यह रात अमावस की।
    पर धरती पर दिन निकलता है॥
    आजाद होगी लक्ष्मी आज।
    उल्लुओं को यह खलता है॥
मत दिए को दिए से लड़ाओ
अपना ही हाथ जलता है॥
उस दिए तले अंधेरा है
जिसमें गल्त हिसाब चलता है॥
    कोई फूलझड़ी ऐसी छेड़ो
    जिसमें झूमकर प्यार पलता है॥
    मेरी ग$जल है उन्हें समर्पित,
    रौशनी को जिनका मन तरसता है।
ग़ज़ल
जो दवा थी वो बेअसर है
और गरीब सारे बेखबर है
    ये लोग सपने की चर्चा कर रहे
    जरूर इनके पास बिस्तर है
कौतूहल में है भीड़ किनारे पर
इस तालाब में कोई मगर है
    मुआइना किया जा रहा है आजकल
    ये किस सदी का खण्डहर है
लोग जिसको पूजते थे शीश झूकाकर
वो किसी फरिश्ते की कबर है
    ग़ज़ल
एक अलगनी - सा है मन
बस नागफनी - सा है जीवन।
बेरोजगार - से हो गए इरादे
अवैध आगजनी - सा है सपने।
बर्खास्त हो गई सादी हकीकत
पुरानी दुश्मनी - सा है अभिनंदन।
मूर्ख, प्यार एक जेबकतरा है
ऊपरी आमदनी - सा है यौवन।
भूख बेताब गर्भपात के लिए
अखबारी सनसनी - सा है राशन।
कविता
जे.पी.कसम
मम्मी ने डांटते हुए
अन्नू से पूछा -
तुमने कन्नू की पुस्तक के पन्ने
फाड़ दिया है क्या ?
नहीं मम्मी विद्या कसम
धरती माता कसम मैंने
नहीं फाड़ी है।
ये कसम और सौगंध
बड़े ही सहज ढंग से
बात - बात में उठाये जाते हैं
आजकल हर प्रदर्शन और
आन्दोलन में
जयप्रकाश नारायण का आर्शिवाद
बराबर उल्लेखित रहता है।
लगता है जे . पी. कसम
भी सच्चाई की प्राथमिकता हेतु

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें