इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

गुरुवार, 9 मई 2013

त महूं बनेव समाज सुधारक



  • आनंद तिवारी पौराणिक
परन दिन बल्लू नाऊ के सेलून म समाज सुधारक संगी संग भेंट होगे। वो हा बीड़ी के धुंगिया ल मोर डहर फूंकत मोला ताना मारिस - अरे यार, तंय का कवि बने हावस, तोर कविता लिखे ले का समाज ह सुधरही। वोखर बर मोर कस समाज सुधारक बन जा, तभे देस, दुनिया के बुराई मन मेटाही। मोला वोखर बात बानी ह काँटा कस गड़गे वो हा त मोला चना के झाड़ म चघा दिस। चना के त नान - नान पौधा होथे। फेर दुनिया वाले मन वोखर झाड़ घलो बना देथें। एक ठन कहिनी म पढ़े रेहेंव के खीरा के रूख म अब्बड़ खीरा फरे रिहीस। त ये बात ह वो दिन मोर समझ म नइ आइस, आज समझ गेंव के जब चना के झाड़ होथे त खीरा के रूख काबर नइ होही। मंय ह बन गेंव  समाज सुधारक। खद्दर के सफेद कुरता, पैजामा पहिरेंव अऊ कांध म डारेंव लटकू झोला। संवागत समाज सुधारक बनगे, फेर ये समझ नई आइस के समाज सुधार ल कती ले चालू करंव। त मोला सुरता आइस के कोनो भी कारज ल अपन परोस ल चालू करना चाही।
नगर पालिका ह सड़क अऊ रद़दा के तिर - तिर, खराब पानी बोहाय बर नाली बनाय हे। फेर लोगन डारथें वोमा कचरा, कागद अऊ जम्मों गन्दा जिनिस। नाली ह बजबजा जाथे। बस्साये, माखी, मच्छर, कीरा मकोड़ा हो जाथे। डेंगू अऊ मलेरिया फइल जाथे। त सबो झन गारी देथय सरकार ल। मंय ह परोसी मन ल इही बात बतायेंव अऊ नाली ल साफ राखे बर कचरा डारेबर बरजेंव त लड़ंकिन परोसी डोकरी ह मोर सात पुरखा ल बखान डारिस अऊ मोर आँखी के देखते कचरा ल बाहरिस अऊ नाली म झर्रा दिस। तभो ले मंय ह हिम्मत नइ हारेंव। नल म पानी भरइया माई लोगन ल लाईन म पानी भरे बर कहेंव त मोरे बर पानी बंद होगे। पढ़इया मन ल टी.वी. देखे बर बरजेंव त मोरे टी.वी. देखना बंद होगे। इसकुल के लइका मन ल माखुर, गुटका, सिगरेट बर बरजेंव त वोमन ह लहुट के मोला किहिन - पहिली तंय ह दिन भर चाय पियई ल बंद कर त हमन ल सिक्क्षा देबे। मंय ह अपन जम्मो पीरा ल समाज सुधारक संगी ल बतायेंव त वोहा मोर पीठ ल ठोंकत बोलिस - तंय फिकर झन कर यार, हिम्मत ले काम कर। चल पान खाबोन। अइसन कहत मोला खींचत पान ठेला म लेगे। वोहा जरदा, माखुर वाला पान ल चबाईस, पाऊच ल दाँत म काट के वोमा भराये जर्दा ल मुँह मं फाँका मारिस। मंय ह लौंग, इलाइची चबात रेहेंव। वोहा पचाक ले थूकिस। बाजू म खड़े मनखे के फुलपेंट म थूक छटकगे। माखुर- गुटका के गंध ह हवा म बगरगे। मोर जीव खलबलागे, लगिस के मंय ह उछर डरहूं फेर रूमाल ल मुँह म ढाँके अपन मन ल समझायेंव। मंय संगी ले बिदा मांगेंव त किहिस - अरे सुन न यार, काली मोर इंजीनियर टुरा ल देखे बर लड़की के ददा - दाई मन आहीं, मंझनियां बेरा। तहूं आबे।
बिहान दिन मंझनिया मंय ह समाज सुधारक संगी के घर म गेंव। थोरिक बेर म चमचमात कार म सगामन पधारिन। समाज सुधारक संगी ह अपन घरवाली संग, वोमन के सुआगत करिस। सोफा म बइठाइस। लस्सी, ठंडा सरबत अऊ नमकीन - मिठई रखिन। सगामन ह लड़का ल देखिन त परसन्न हो गे। वोमन किहिन - हमन ल ये रिस्ता ह पसंद हे। वोमन जाय बर ठाढ़ होइस त समाज सुधारक संगी ह बोलिस - आप बने फोर के गोठ बात त नइ करेव सगा।
सगा किहिस - भई, आप मन तो ये छेत्र के समाज सुधारक हव। सादा ढंग ले आदर्स बिहाव करबो, अऊ समाज ल नवा रद़दा देखाबों। ओखर गोठ ल सुनके समाज सुधारक संगी ह बगियागे अऊ अपन हाथ के मिठई के पलेट ल पटक के किहिस - मंय ह आप मन ल समझदार समझत रेहेंव, फेर अइसन नइ लागय। सुन लव अपन कान ल खोल के, दुनिया ल देखाये बर भले हमन आदर्स बिहाव करबो फेर भीतरी - भीतरी तुमन तीन लाख नगदी, एक ठन कार अऊ पन्द्रह  तोला सोना देहू। कहव, तुमन ल मंजूर हे के नहीं ? टुरी के दाई - ददा मन रूआँसू होगें, फेर का करतिन वोमन तईयार होगे। समाज सुधारक संगी के ये दे बेवहार मोला बने नइ लागिस, फेर पर के घरेलू गोठ म महूं नइ गोठियाय सकेंव।
मोर समाज सुधारक वो संगी ह थोरिक दिन बाद म समाज सुधारक मन के एक ठन बड़े सभा म सहर लेगिस। बड़े - बड़े पण्डाल लगे रहय। जगर - मगर बिजरी झालर सजे रहय। दुरिहा - दुरिहा ले समाज सुधारक मन बड़े - बड़े गाड़ी, मोटर, कार म आइन। महंगी होटल म दारू, कुकरी खाईन। भासन ऊपर भासन देइन। कतक ो रूपिया पानी कस बोहागे। मंय ह समाज सुधारक संगी ल कहेंव = संगी ये देखावा अउ ढोंग करे ले का फायदा ? हमरे कथनी अउ करनी एक नइये त दुनिया ह कइसे सुधरही ? संगी हंस के गोठ ल हल्का बना दिस। किहिस - देख भाई, जईसन हलवाई ह अपन मिठई ल नइ खावय, वइसने हमर सिक्छा ह हमर मन बर नोहय।
तभे मंय ह समझेंव के मनखे मन पाठ पूजा करथे। फेर जिनगी म बेईमानी, छल, कपट अऊ सोसन ल नइ छोड़य। दूध म पानी मिलई, खाय पिये के जिनिस अऊ दवई म मिलावट करके पइसा कमाय देखाय बर जग, हवन, परबचन कराथें। तरिया ल पाटके काम्पलेक्स बनाथे। किराया म लाखों कमाथें। रूख, राई ल काटके घर म प्लास्टिक के फूल सजाथे। सबो त गड़बड़ हे रे भाई। कथनी आन, करनी आन। तइहा के सियान मन तरिया बनवावंय, पेड़ पौधा लगवावंय। गरमी म पियाऊ खोलय, पियासे मन ल पानी पियावंय। मोर नजर ह एक ठन किताब म लिखे ये गोठ म परिस - अरे बइहा, तंय ह दुनिया ल सुधारने वाला कोन होथस ? तंय खुद सुधर जा, दुनिया ह सुधर जाही।
मंय ह तुरते समाज सुधारक के बाना ल छोड़देंव, अऊ अपन जुन्ना रद्दा म रेंगे लगेंव।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें