इस अंक के रचनाकार

इस अंक के रचनाकार आलेख : साहित्य में पर्यावरण चेतना : मोरे औदुंबर बबनराव,बहुजन अवधारणाः वर्तमान और भविष्य : प्रमोद रंजन,अंग्रेजी ने हमसे क्या छीना : अशोक व्यास,छत्तीसगढ़ के कृषि संस्कृति का पर्व : हरेली : हेमलाल सहारे,हरदासीपुर दक्षिणेश्वरी महाकाली : अंकुुर सिंह एवं निखिल सिंह, कहानी : सी.एच.बी. इंटरव्यू / वाढेकर रामेश्वर महादेव,बेहतर : मधुसूदन शर्मा,शीर्षक में कुछ नहीं रखा : राय नगीना मौर्य, छत्तीसगढ़ी कहानी : डूबकी कड़ही : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,नउकरी वाली बहू : प्रिया देवांगन’ प्रियू’, लघुकथा : निर्णय : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,कार ट्रेनर : नेतराम भारती, बाल कहानी : बादल और बच्चे : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’, गीत / ग़ज़ल / कविता : आफताब से मोहब्बत होगा (गजल) व्ही. व्ही. रमणा,भूल कर खुद को (गजल ) श्वेता गर्ग,जला कर ख्वाबों को (गजल ) प्रियंका सिंह, रिश्ते ऐसे ढल गए (गजल) : बलबिंदर बादल,दो ग़ज़लें : कृष्ण सुकुमार,बस भी कर ऐ जिन्दगी (गजल ) संदीप कुमार ’ बेपरवाह’, प्यार के मोती सजा कर (गजल) : महेन्द्र राठौर ,केशव शरण की कविताएं, राखी का त्यौहार (गीत) : नीरव,लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की नवगीत,अंकुर की रचनाएं ,ओ शिल्पी (कविता ) डॉ. अनिल कुमार परिहार,दिखाई दिये (गजल ) कृष्ण कांत बडोनी, कैलाश मनहर की ग़ज़लें,दो कविताएं : राजकुमार मसखरे,मंगलमाया (आधार छंद ) राजेन्द्र रायपुरी,उतर कर आसमान से (कविता) सरल कुमार वर्मा,दो ग़ज़लें : डॉ. मृदुल शर्मा, मैं और मेरी तन्हाई (गजल ) राखी देब,दो छत्तीसगढ़ी गीत : डॉ. पीसी लाल यादव,गम तो साथ ही है (गजल) : नीतू दाधिच व्यास, लुप्त होने लगी (गीत) : कमल सक्सेना,श्वेत पत्र (कविता ) बाज,.

शनिवार, 1 जून 2013

मोर धरती के पूजा ...


  • गोपाल दास साहू
मोर धरती के पूजा करइया एक झन दिखथे गा
बाकी मोला दिखथे खुर्सी के टोरइया
नागर - कोप्पर लथपथ होथे, बइला - भइंसा सदबद होथे।
गोबर खातु राख गिल्ला हम कमाथन माई पिल्ला
भरे बरसात म बासी खाके
आगी के तपईया॥ मोर धरती के पूजा करइया ...॥

माड़ी भर पानी में खड़े रथे, मोरा - खुरमी ओढ़े रथे
नई डरे साँप डेरू ल धान के निंदइया
चिखला फुगड़ी खेले
जांगर के टोरइया॥ मोर धरती के पूजा करइया ...॥

झुमर - झुमर के धान लुवत रहिथे, सीत म पसीना चुहत रहिथे
निहर - निहर के भारा बांधे सुर के बोहइया
पड़की करमा सुवा ददरिया
खेत के गवईया॥ मोर धरती के पूजा करइया ....॥

ठक - ठक - ठक दांत बाजे, मारे जाड़ म चोला काँपे
खोररा खटियां गोरसी पहीरे लंगोटी पेरा भीतर
कहाँ पाही मच्छरदानी
कमरा के ओढ़इया॥ मोर धरती के पूजा करइया ....॥

धकधक, धकधक घाम लुरे, तीपत भोंभरा देहे लुथरे
सरी मंझनियाँ खेत - खार में कमाथे मुड़ी पछीना गोड़ चुहाथे
तामेश्वर संगी मोर
गोपाल संग रहईया॥ मोर धरती के पूजा करइया ...॥
भंडारपुर करेला,
पो.- ढारा, व्हाया - डोंगरगढ़, जिला - राजनांदगांव (छग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें