इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

सोमवार, 24 जून 2013

जिम्‍मेदारी


  • भावसिंह हिरवानी 


उस दिन अचानक बैंक में हरीश मा.सा. से मुलाकात हो गई। बैंक के कर्मचारी किसी जरूरी काम से उलझ गए थे जिसकी वजह से मा.सा. को प्रतीक्षा करते बहुत देर हो गई थी। मेरे अभिवादन के बाद उन्होंने बड़ी तल्खी से कहा - अज्जु जानते हो। इन दोनों लड़कों को मैंने विद्यालय में पढ़ाया है। आज ये अफसर बनकर कुर्सी पर बैठे हैं और आज मैं इनकी मेहरबानी की बाट जोहता बहुत देर से खड़ा हूं। इनकी कृतध्नता तो देखो, मेरा सम्मान करना तो दूर, किस तरह मेरी उपेक्षा कर रहे हैं ?
मैंने सहमति से सिर हिलाते हुए कहा - सच कहते हैं मा.सा.। पता नहीं आज की पीढ़ी को क्या हो गया है ? अब उज्जैन महाविद्यालय की घटना को ही देख लीजिए न। छात्रों ने अपने ही प्राध्यापक को पीट - पीट कर मार डाला और वजह भी क्या थी - उन्होंने छात्र संघ का चुनाव स्थगित कर दिया था, बस।
- यही तो मैं कह रहा हूं। एक जमाना था जब गुरू को सारे देवताओं से श्रेष्ठï पद की प्रतिष्ठïा मिली हुई थी। लेकिन आज हमारी क्या स्थिति है, आप स्वयं अपनी आंखों से देख रहे हैं।
मैंने एक दीर्घ सांस लेकर कहा - लेकिन इसका दूसरा पहलू भी है मा. सा.। जरा सोचिए, अपने बच्चों को विद्यालय क्यों भेजते हैं। इसीलिए न कि वे वहां से एक सभ्य, सुशिक्षित इंसान और योग्य नागरिक बनकर निकलेंगे और देश तथा समाज की सेवा करेंगे। लेकिन यह कैसी पीढ़ी तैयार कर रहे हैं आप लोग, जो आपका ही सम्मान नहीं करती। बच्चे को अच्छे संस्कार देने की जिम्मेदारी तो आप गुरूजनों की है न ?
मेरी बातें सुनकर हरीश मा. सा. एक क्षण के लिए निरूत्तर हो गए। तभी कैशियर अपनी सीट पर आकर बैठ गया और बोला - मा. सा. आईये। कम्प्यूटर की खराबी के कारण आप लोगों को अनावश्यक रूप से परेशान होना पड़ा।
हरीश मा. सा. झट से काउन्टर की ओर लपके, लेकिन उनका चेहरा अब भी खीझ से भरा हुआ था।
  • पता - कबीर प्रिंटिंग प्रेस, गुरूर, जिला - दुर्ग ( छग )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें