इस अंक के रचनाकार

इस अंक के रचनाकार आलेख : साहित्य में पर्यावरण चेतना : मोरे औदुंबर बबनराव,बहुजन अवधारणाः वर्तमान और भविष्य : प्रमोद रंजन,अंग्रेजी ने हमसे क्या छीना : अशोक व्यास,छत्तीसगढ़ के कृषि संस्कृति का पर्व : हरेली : हेमलाल सहारे,हरदासीपुर दक्षिणेश्वरी महाकाली : अंकुुर सिंह एवं निखिल सिंह, कहानी : सी.एच.बी. इंटरव्यू / वाढेकर रामेश्वर महादेव,बेहतर : मधुसूदन शर्मा,शीर्षक में कुछ नहीं रखा : राय नगीना मौर्य, छत्तीसगढ़ी कहानी : डूबकी कड़ही : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,नउकरी वाली बहू : प्रिया देवांगन’ प्रियू’, लघुकथा : निर्णय : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,कार ट्रेनर : नेतराम भारती, बाल कहानी : बादल और बच्चे : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’, गीत / ग़ज़ल / कविता : आफताब से मोहब्बत होगा (गजल) व्ही. व्ही. रमणा,भूल कर खुद को (गजल ) श्वेता गर्ग,जला कर ख्वाबों को (गजल ) प्रियंका सिंह, रिश्ते ऐसे ढल गए (गजल) : बलबिंदर बादल,दो ग़ज़लें : कृष्ण सुकुमार,बस भी कर ऐ जिन्दगी (गजल ) संदीप कुमार ’ बेपरवाह’, प्यार के मोती सजा कर (गजल) : महेन्द्र राठौर ,केशव शरण की कविताएं, राखी का त्यौहार (गीत) : नीरव,लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की नवगीत,अंकुर की रचनाएं ,ओ शिल्पी (कविता ) डॉ. अनिल कुमार परिहार,दिखाई दिये (गजल ) कृष्ण कांत बडोनी, कैलाश मनहर की ग़ज़लें,दो कविताएं : राजकुमार मसखरे,मंगलमाया (आधार छंद ) राजेन्द्र रायपुरी,उतर कर आसमान से (कविता) सरल कुमार वर्मा,दो ग़ज़लें : डॉ. मृदुल शर्मा, मैं और मेरी तन्हाई (गजल ) राखी देब,दो छत्तीसगढ़ी गीत : डॉ. पीसी लाल यादव,गम तो साथ ही है (गजल) : नीतू दाधिच व्यास, लुप्त होने लगी (गीत) : कमल सक्सेना,श्वेत पत्र (कविता ) बाज,.

बुधवार, 12 जून 2013

गढ़ के गढ़हईया


  • ध्रुव कुमार वैष्णव
छत्तीसगढ़िहा गढ़ के गढ़हईया, सऊहत बिसकरमा जान रे ।
लहू - पछिना के धार बोहइया, भागीरथी जेखर नाव रे ।।
पथरा ह देख के पथरा जथे, नदिया - नरवा ह ठड़िया जथे,
डोंगरी - डिलवा पहाड़ ह कपथे, पांव - पांव म समुंद ह नपथे ।
कहिथे पाया ह कारखाना के , इहि ह हमर सियान रे ।।

दांदर भर जांगर ह च लथे, कारी - पछिना गिरत ले लड़थे,
झड़ी - जाड़ अऊ घाम म बाहिर, गिरा के लहू कहानी लिखथे ।
दूंद ऊघरा अउ बिरबिट करिया, भिलई के लोहा जान रे ।।

रापा, गैती,तूतारी धरके, करमा, ददरिया के पाठ पढ़थे,
जांगर के संग नागर च लथे, भुइयां ह सोन के दाना उगलथे ।
धान कटोरा के चिन्हारी करईया, सऊहत अनदाता जान रे ।।

नरवा - नदिया के धार उतरथे, समुंद म आके कालेचुप,
जांगर के तर - तर धार चढ़थे, उत्ती, बुढ़ती, भंडार रखसऊ ।
गांव के जोगी ल जोगड़ा कहिथे, परदेश म जोग जगात रे ।।

दया - मया बर पाग ए गुड़ के, गोठ बर गुरतुर खेड़हा ए ,
नता - गोता म गोलइन्दा भाटा, सहिनाव, मितान अऊ ढ़ेड़हा ए ।
दही - मही अऊ पताल कस फदका, लरा - जरा म फदके जान रे ।।

पर बर जिइस, पर बर मरिस, गरूवा अस जिनगानी,
जिते - जिय त जिनगी रहिस दोनगा, फूंक दिस बड़हर बर जवानी ।
घर - कुरिया ह मडू हावे, महल ल छुआ दिस अगास रे ।।
  • ममता नगर, राजनांदगांव (छ.ग.)मोबाइल - 93296 - 92671

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें