इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

गुरुवार, 27 जून 2013

संपत अउ मुसवा


- कुबेर  -
उतेरा एसो गजब घटके रहय। माड़ी - माड़ी भर लाखड़ी, घमघम ले फूले रहय। मेड़ मन म राहेर ह घला सन्नाय रहय। फर मन अभी पोखाय नइ रहय। फेर बेंदरा मन के मारे बांचय तब।
फुलबासन ह सुक्सा खातिर लाखड़ी भाजी लुए बर खार कोती जावत रहय। मेड़ के घटके राहेर के बीच चिन्हारी नइ आवत रहय। हरियर लुगरा, हरियरेच पोलखा, राहेर के रंग म रंग गे रहय।
राहेरेच जइसे वोकर जवानी ह घला सन्नाय रहय।
फुलबासन, जथा नाम, तथा गुन। फुल कस सुंदर चेहरा। पातर दुब्बर सरीर। कनिहा के आवत ले बेनी झूलत हे जउन म लाल फीता गुंथाय हे। महमहाती तेल, क्रीम अउ पावडर लगा के जब गली खोर म निकलथे, चारों मुड़ा ह आमा बगीचा कस महमहाय लगथे। करिया - करिया आंखी, कुंदरू चानी कस पातर - पातर ओंठ, भरे पूरे छाती, देखइया के लार चुचवा जाथे। सात - आठ बछर होगे हे ये गांव म बिहा के आय फेर लोग लइका एको झन नइ होय हे। वोकर घर वाला सुंदरू वोला अघातेच मया करथे। अपन आप ल भागमानी समझथे कि गांव भर ले जादा सुंदर बाई हे वोकर।
सुंदरू बारो महिना सहर म हमाली करे बर जाथे। भिनसरहच सायकिल धर के निकल जाथे। दिन भर खटथे। आठ - नौ बजे रात के लहुटथे। घाम पानी म दिनभर कमाथे। पाइ - पाइ जोड़थे। एक कप चहा भले नइ पीही फेर फुलबासन के फरमाइस ल जरुर पूरा करथे।
फुलबासान जतका सुंदर हे, वोतकेच मटमटही अउ फूलकझेलक घला हे। फैसन म रत्ती भर के कमी नइ होना चाही। मुंहबाड़िन अतेक कि गांव के कोनों वोकर संग नइ पूर सकय। फेर वाह जी सुंदरू, बाई के कोनों किसम के तकलीफ ल देख नइ सकय।
फुलबासन के मोहनी म सुंदरू ह तो मोहाएच हे, गांव भर के बुढ़वा - जवान मन घला मोहाय हें। फुलबासन के सुभाव घला फूलेच सरीख हे। फूल ह भला कते भंवरा ल मना करथे ? सब बर रस छलकत रहिथे।
मुड़ी म खाली टुकनी बोहे, राहेर मेड़ म मठरत - मठरत ददरिया झोरत, एती लेफुलबासन जावत रहय। ओती ले मुसमुसात मुसवाराम आवत रहय। बीच मेड़ म ओरभेटठा हो गे।
मुसवा राम बढ़ावल नाम आय। वोकर असली नाम हबे भुलवा राम। आदत सुभाव हे मुसवा सरीख। जेकर नहीं तेकर कोठी म बिला कर करके धान फोले  म माहिर। ताकइया मन ताकते रहि जाथें। गुल्लूकोस, पदीना अउ दराक्छस म सब किसम के बीमारी ल ठीक कर डारथे। लाख मर्ज के एके दवा। जउन बीमारी ह ये दवा मन म बने नइ होवय,तउन ह पक्का बाहरी हवा होथे। कोनो सोधे बरे के कारू - नारू। तब ? झाड़ - फूंक, तेला - बाती बर घला उस्ताद हे। दारू - कुकरी के जुगाड़ होनच हे।
मुसवा राम म अतकेच खूबी होतिस तब तो। वो आय पक्का गम्मतिहा। नाचा - पेखा म जोक्कड़ बन के परी मन संग जब बेलबेलाथे, देखइया मन म चिहुर उड़ जाथे। पेट रमंज - रमंज के हांसथे। समझ लेव हीरो नं. वन। असल जिंदगी म घला वो ह वइसनेच हे। वोकर बात सुन - सुन के कतरो जती - सती रहंय, मोहा जाथें।
फुलबासन ददरिया झोरे म मस्त रहय। मुसवा राम के गम ल नइ पाइस। फेर मुसवा राम मुसवच आय। दुरिहाच ले वो ह फुलबासन ल ओरख डारे रहय। जान सुन के गउखन बने रहय। ओरभेट्ठा करे के ताक म तो सबर दिन के रहय। गांव नता म फुलबासन ह मुसवा ल कुरा ससुर मानथे। कट खाय रहिगे। आसते ले खखार के मुसवा राम ह आगू म खड़े हो गे। रद्दा बंद। फुलबासन हड़बड़ा गे। एती मुंड के गिरत चरिहा ल संभाले के उदिम करिस, त ओती छाती के अंचरा ह कनिहा म झुल गे। सरम के मारे वोकर मुंहू - कान ह ललिया गे।
बारा घठौंदा के पानी पियइया मुसवा राम, फेर लहर - लहर लहरा मारत, अथाह गहिरी, अइसन घाट वो ह कभू नइ देखे रिहिस। देखिस त देखते रहि गे। जनम के बेलबेलहा, फेर चेत सुरता अइसे हराइस के सब भुला गे।
फुलबासन ह वोकर ले का कम हे ? भांप गे कि मुसवा राम ह बिला ले बाहिर निकले बर अकबकावत हे फेर रद्दा नइ पावत हे। थोरिक देर अउ अकबकावन दिस तब अपन अंचरा ल सोझियावत किहिस - टार हो बड़का, खांसो खखारो घला नहीं।
मुसवा राम अब अपन होस म आ गे रहय। कहिथे - ये ले, छोटकी के बात। काला टेंकाय हाबन भइ, तेला टारबोन। तुम्हीं बताव।
फुलबासन ह मुच ले हांस के कहिथे - मोर मुंह ल झन खोलवाव। काला टेंकाय के तुंहर नीयत हे, हम वहू ल जानथन।
- बने कहिथो। तुंहर जइसे सुंदर अउ समझदार नारी हमर गांव म अउ कोन हे।
मुसवा ह हांसत - हांसत कहिथे।
फुलबासन ह कहिथे - लुगरा ल छुवे हव। डांड़ लगही। एक ठन म नइ बनय, दू ठन नरियर लगही।
मुसवा ह कहिथे - हमर देवता ह नइ रुसाय। तुंहरे ह रुसाय होही। कहू त मनाय बर नरियर धर के संझा बेरा आ जाहूं।
फुलबासन कुछू नइ बोलिस। मुच ले हांस दिस। कनखही देखत, कनिहा ल मटकावत, मुसवा राम ल रगड़त आगू बढ़ गे। मुसवा राम ह पथरा कस मुरती जिहां के तिहां ठाढ़े रहिगे।
तीन - चार खेत के दुरिहा म संपत महराज के खेत हे। वहू ह चरवाहा - बनिहार मन संग ढेंखरा कंटवाय बर आय रहय। फुलबासन अउ मुसवा राम ल राहेर झुंझकुर ले निकलत देख डारथे। का गुलाझंाझरी होइस होही, समझे म वोला देरी नइ लगिस। मने मन कहिथे - आज तोला देखहूं रे मुसवा, कइसे बोचकबे ते।
संपत महराज के चरित्तर के का बखान करंव। पुरखा मन गांव के जमींदार रिहिन। ये गांव म उंखरे राज चलय। परिवार बाढ़त गिस, जमीन खिरत गिस। कका - बबा, भाई - भतीजा मन पढ़ लिख के डाक्टर इंजीनियर बन गे हें। नेतागिरी म तो इंखर मन के खंबा गड़ेच हे। सब झन सहर म जा के बस गे हावंय।
संपत महराज गांवेच म अटके पड़े  हे। पढ़इ - लिखइ म चेत नइ करिस। छोट - मोट नौकरी करे म इज्जत जातिस। सहर म दाल नइ गलिस तब इहां अपन रौब झाड़त रहिथे। जनम के अंखफुट्टा। ऊपर छांवा तो गांव भर ल नाता गोता मानथे, फेर मतलब के सधत ले।
मुसवा राम ह नांगनाथ आय त संपत ह सांपनाथ हरे।
फुलबासन के न तो सास - ससुर संग बनिस, न देरानी - जेठानी संग। पठोनी आय छै महिना घला नइ पूरिस, सुंदरू ल अइसे पाठ पढ़ाइस कि चुल्हा चक्की सब अलग हो गे। घर दुवार घला अलग हो गे।
सुंदरू ह गजब रात के लहुटथे। नरियर चढ़इया मन इही बेरा के अगोरा करत रहिथें।
बियारी के बेरा रिहिस। निझमहा देख के मुसवा राम ह फुलबासन देबी के मंदिर म नरियर चढ़ाय बर पहुंच गे। मुहाटी बंद रहय। जइसने खोले के उदिम करिस, अपने अपन खुल गे। संपत महराज ह तोलगी भीरत सुटुर - सुटुर निकलत रहय। दुनों के दुनों हड़बड़ा गें। संपत महराज ह कहिथे - अरे मुसवा, तहूं आय हस ? हाथ - गोड़  के पीरा म बिचारी ह गजब कांखत हे। फूंके बर बलाय रिहिस। फूंकत ले गजब जम्हाय हंव। बैरासू  धरे होही। तोरे ह काट करे त करे। जा तहूं फूंक देबे। अबड़ तकलीफ म हे बिचारी ह।
मुसवा राम सुट ले बिला म खुसर गे।
  • व्याख्याता, शा.उ.मा.विद्या, कन्हारपुरी, राजनांदगांव (छ.ग.) मो. 98279 -83896
storybykuber.blogspot.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें