इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

शुक्रवार, 28 जून 2013

छत्तीसगढ़ी भासा के असली सवाल : सोझ - सोझ बात

  • दिनेस चौहान
छत्तीसगढ़ी भासा कइसना होय ये सवाल खड़ा होगे कहना ठीक नइ हे। ये सवाल खड़ा करे गे हे। असली सवाल तो दूसर आय। जब तक इसकूल म छत्तीसगढ़ी माध्यम ले पढ़ई सुरू नइ होही तब तक छत्तीसगढ़ी भासा के भलई के बात जागत आंखी के सपना छोड़ के कुछू नो हे। एला मंय डंका के चोंट में काहत हौं। अभी छत्तीसगढ़ी - छत्तीसगढ़ी के जउन गोहार परत हे वो ह नवा - नवा राज बने के परभाव आय। तइहा ले लेके आज तक  जतका छत्तीसगढ़ी लेखन होय हे अउ होवत हें तेखर लिखइया कोन आंय ? सब के सब हिन्दी माध्यम ले पढ़े - लिखे रचनाकार तो आंय। एखरे सेती ले दुनिया भर के बात ल छोड़ के सब धियान छत्तीसगढ़ी माध्यम ले पढ़ई सुरू करे कोती देय के जरूरत हे। रहिगे बात आने - आने भासा के सब्द मन ल छत्तीसगढ़ी म सामिल करे के। एमा कोनो ल आपत्ती नइ होना चाही। आपत्ती करइया मन कुआँ के मेचका आंय। फेर अइसन शब्द सम्मेलन में छत्तीसगढ़ी के पहिचान जरूर झलकना चाही। कोनो भी भासा के सबले खास पहिचान ओखर वर्नमाला आय। बियाकरन तो 125 बछर पहिली बन गे हे अइसे बड़का बिदवान मन के कहना हे। फेर उही बिदवान मन वर्नमाला म भ्रमित जान पड़थें। अइसन काबर हे ? वर्नमाला तो कोनो बियाकरन के पहिली अध्याय होथे। मय हर जउन छत्तीसगढ़ी बियाकरन देखे हौं ओमा देवनागरी लिपी के ङ,ञ, ण, ष, श, क्ष, त्र, ज्ञ, त्र ऋ अक्छर सामिल नइ हे। इही पाय के जब छत्तीसगढ़ी के एकरूपता के बात होथे तौ छत्तीसगढ़ी के अधिकृत वर्नमाला के बात घला होना चाही। ये बिसय म भासाविद मन ल अपन बिचार ल सार्वजनिक करना चाही। फेर एखर बर कोनों आगू नइ आवत हें। डॉ. चितरंजन कर ल घला मंय व्यक्तिगत पत्र लिखे रहेंव। ऊंखर ले ये बिषय म व्यक्तिगत जवाब के आसा घलोक रिहिस हे, फेर को जनी उन ल पत्र मिलिस हे के नइ मिलिस ? वर्नमाला ल अधिकारी बिदवान मन दतइया के छाता बरोबर डर्रावत काबर हें, ये समझ से बाहिर हे। सिरिफ सुशील भोले एकमात्र अइसे रचनाकार हे जेन देवनागरी के जम्मों वर्न ल सामिल करे के बात सार्वजनिक रूप म कहिथे। फेर स, ष, श ल लेके वहू भ्रमित हे अउ ओखरो कहना हे के वर्नमाला के बिसय म भासाविद मन ल अपन बिचार ल सार्वजनिक करना चाही।
ये बहस म नंदकिशोर तिवारी के कहना हे के सब्द के परयोग म एकरूपता आना चाही। एखर जवाब सुधा वर्मा कर हाजिर हे - जम्मो डाहर के सब्द ल पर्यायवाची के रूप म सामिल करना एकदम सही बिचार जान परथे। छत्तीसगढ़ी वर्नमाला अउ नाव ए बहस म मंय अभी तक के ज्ञात वर्नमाला अउ छत्तीसगढ़िया मन द्वारा सहज उच्चारित वर्न के मुताबिक कई झन नामी - गिरामी छत्तीसगढ़ी साहित्यकार मन के नाव के छत्तीसगढ़ीकरन करे रेहेंव, जउन ह कतको इस्थापित साहित्यकार मन ल नइ सुहाय रिहिस। वइसनेहे बात डॉ. चितरंजन कर घला ह मड़ई दिनांक 20 दिसंबर 2010 के अंक म करे हवैं के व्यक्तिवाचक नाव अउ पारिभासिक सब्द ल जस के तस लिखे जाथे। उनला मय पूछना चाहत हौं के भासा, सुद्धि, सब्द सच्छम, कारन आदी लिखे के कारन का ए ? इही न के छत्तीसगढ़ी म श, ष, क्ष, ण के उच्चारन नइ होय। अउ उच्चारन नइ होय तिही पाय के जुन्ना बिदवान मन ये वर्नमाला ल वर्नमाला म सामिल नइ करिन अउ छत्तीसगढ़ी वर्नमाला म ये वर्न मन हइच नइ हे तौ शंकर, सुरेश लिखना कइसे संभव होही ?  इंहा तक के छत्तीसगढ़ी के अउ जम्मों बोली मन म घला ये वर्न मन गैरहाजिर हे। तौ ये वर्न मन ल जब मन लगिस सामिल कर लौ अउ जब मन लगिस छंटिया दौ, ये नीती ल ठीक नइ केहे जा सकय। हां, यदि सब बिदवान मन हिन्दी के वर्नमाला बर बिना बदलाव के एकमत हो जाय तब बात दूसर रइही। तब अइसन म सब्द मन के दोहरा परयोग ले बांचे ल परही। जइसे - भासाा, राजभासा, सब्द, सिक्छा, कक्छा, परीक्छा, पाठसाला, छेत्र, सुद्धि आदी लिखे के का जरूरत रहि जाही ? ताहन व्यक्तिवाचक नाव अउ पारिभासिक  सब्द ल जस के तस लिखे के तर्क घलो सही हो जाही। जइसे बोले जाथे वइसे लिखे नइ जाय अउ जइसे लिखे जाथे वइसे बोले नइ जाय ये ह अंगरेजी भासा के पहिचान आय। हिन्दी के पहिचान बिसेसता बर तो ये केहे जाथे के एला  जइसे बोले जाथे वइसनेच लिखे भी जाथे। ये ह छत्तीसगढ़ी के घलो पहिचान आय। अइसनेहे छत्तीसगढ़ी म उच्चारन भेद घलो ओखर पहिचान आय। छत्तीसगढ़ी म हिन्दी के तुलना म मात्रा कभू दीर्घ तौ कभू लघू हो जाथे। इहू कोती धियान देना जरूरी हे। जइसे - 1.राष्ट्रपति ह रास्ट्रपती, ऋषि ह रिसी, मुनि ह मुनी, साधु ह साधू, हरि ह हरी, विष्णु ह बिसनु, लिपि ह लिपी आदि ह आदी हो जाथे।
2. मूर्ति ह मुरती, मालूम ह मालुम, शीतला ह सितला, दीदी ह दिदी, रघु ह रघू, नीति ह नीती हो जाथे।अधिकांस छत्तीसगढ़ी लेखन करइया मन के सोंच हिन्दी केन्द्रित जान पड़थे। ओमन पाठसाला, कार्यसाला सब्द मन म आपत्ति करथे। कहिथे के साला माने पत्नी के भाई होथे। हिन्दी म ये अर्थ सही हे, छत्तीसगढ़ी म तो एखर बर सारा सब्द हे। सोंच कइसे बदलही ? इही पाय के असली सवाल हे के पहिली छत्तीसगढ़ी के अधिकृत वर्नमाला तय करे जाय अउ प्रायमरी इस्कूल म ओखर विधिवत पढ़ई कक्छा पहिली ले चालू करे जाय तब सही मायने म छत्तीसगढ़ी के भलई होही। नहीं ते हिन्दी माध्यम ले पढ़के छत्तीसगढ़ी लेखन करइया के दुकाल नइ हे। हां, वो छत्तीसगढ़ी लेखन के पढ़इया के दुकाल जरूर चारों मुड़ा बियापे हे अउ दगदग ले दिखत हे। पूर्व सिक्छा सचिव सिरी नंदकुमार के कोसिस ले कक्छा तीसरी ले पांचवी तक बर छत्तीसगढ़ी भारती छपवाय गे हे। बहुत अकन अउ बोली म घलो छपवाय गे हे। फेर ये समझ म नइ आइस के ये कोसिस ल कक्छा पहिली ले काबर सुरू नइ करे गीस ? मोला लागथे, जेखर हाथ म बदलाव के ताकत हे उही मन खुद नइ चाहय के छत्तीसगढ़ी ह सरकारी काम - काज अउ जन - जन के परयोग के भासा बनय। यदि छत्तीसगढ़ी के सिरतोन भलई करना हे तौ वोला कक्छा पहिली ले पढ़ाय बर सुरू करना पड़ही अउ एखर बर सबले पहिली जरूरी हे छत्तीसगढ़ी के अधिकृत वर्नमाला तय करना अउ आगू चल के उही वर्नमाला के मुताबिक छत्तीसगढ़ी के सब्द ल लिखना। यदि अइसन नइ होय तौ छत्तीसगढ़ी साहित्यकार के भासा तो बन सकथे वो ह जन - जन के परयोग के भासा नइ बन सकय। वो ह बोलीच बने रिही।
आखिर म फेर जोर के केहे जात हे के जब तक छत्तीसगढ़ी भासा के अधिकृत वर्नमाला नइ बन जाही अउ ओमा ठप्पा नइ जाही न पारिभासिक सब्द के वर्तनी बदलई रूकय न छत्तीसगढ़ी भासा म एकरुपता आय।
  • पता - शीतलापारा, नवापारा, राजिम

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें