इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

शनिवार, 29 जून 2013

औरत



- श्रीमती सुधा शर्मा -

मैं औरत नही सदी हूँ ,अनवरत बहती नदी हूँ।
शिशु की प्रथम बोली हूँ गृहस्थ की रंगोली हूँ।
बाबूल के आंगन की तुलसी हूँ,मां की ममता से हुलसी हूँ,
नवयौवना जब बनती तो ,बन जाती लजवंती हूँ।
मैं औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ।
पीहर से जब, नैहर में जाती हूँ,छोड़,
बाबूल की गलियाँ, नये रिश्ते निभाती हूं।
साजन के दिल की धड़कन बन, मन ही मन इतराती हूँ।
दोनों कुल का संगम करती,मै वो महानदी हूँ।
मैं औरत नदी हूँ ,अनवरत बहती नदी हूँ।
पिता की आंखों का तारा हूँ, भाई के आंखो का पानी।
माँ के नयनों के छलते सपने,मेरे वजूद की यही कहानी।
जन्म लेती बार- बार,और बारम्बार मरती हूँ।
मैं औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ।
वंशबेल बढ़ाने खातिर, धरती सा बोझ उठाती हूँ।
मरणासन्न दारूण सहकर भी, सदा मुस्काती हँू।
अपना जीवन धन्य मानती, माँ का रूप जब पाती हूँ।
अपनी छाती चीरकर, अमृत पान कराती हूँ।
कर्तव्य वेदी पर अपने, पल- पल जीती और मरती हूँ।
मै औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ।
राम- कृष्ण और लवकुश को, मैने ही जन्म दिया है।
भक्ति रस में डूब गई तो, मीरा बन गरल पीया हैं।
जाने कितने विभूतियों को , कोख में मैने पाले हैं।
चीरकर देखो मेरे कलेजा को, जाने कितने छाले है।
मैं ही राधा मैं ही दुर्गा, मैं ही तो सरस्वती हूँ।
मैं औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ।
देवकी बनकर मैने, कितने लाल कुर्बान किये
बड़े- बड़े वीरों ने मेरी, शक्ति को प्रणाम किये
लाज और मर्यादा खातिर, कर्ण जैसे सुत खोती हूँ
ओठों पर मुस्कान सजाये, चुपके- चुपके रोती हूँ
कैकयी जैसी माता बनकर, भी मैं कालजयी हूँ
मै औरत नही सदी हूँ,अनवरत बहती नदी हूँ
तुलसी की रत्ना हूँ मैं, वाल्मिकि की रामायण हूँ
लड़ती रही जन्म से मैं, करती नहीं पलायन हूंं
कठोरता सी बात करो तो, धरती सी कठोर हूं मैं
त्याग तपस्या और बलिदान की, अंतिम छोर हूं मैं
सत्य मार्ग पर चली हमेशा, मैं तो तारामती हूं
मैं औरत नहीं सदी हूं,अनवरत बहती नदी हूं
वीरता की बात आई तब जौहर मैंने दिखलायी
हौसला बुलंद किया है सदा, बनकर लक्ष्मी बाई
ईश्वर को भी झुकाया मैंने, जब - जब गुहार लगाई
महाभारत के चीरहरण की, नि:सहाय द्रोपती हूं
तो यमराज को झुकाती, सत्यवान की सावित्री हूं
मैं औरत नहीं सदी हूं,अनवरत बहती नदी हूं
जीवन के महासमर में, जीत का वरदान हूं
पति का अभिमान हूं मैं, पुत्र का सम्मान हूं
अबला मुझे कभी न समझो, मैं शक्ति की खान हूं
जीत सका न कोई मुझे, मैं तो अनवरत संग्राम हूं
आ जाऊं अपने पर तो, कराल क्रोध रणचंडी हूं
मैं औरत नहीं सदी हूं,अनवरत बहती नदी हूं
दहेज वेदी पर सदा जलती हूं, हूं मासूम फुल, कांटो में पलती हूं
जाने कितने जन्म गुजरे, फिर भी आती - जाती हूं
नित नूतन रूप बनाती, अपना फर्ज निभाती हूं
अखिल विश्व की जन्मदात्री, मैं ही तो गायत्री हूं
पतिव्रता बन चिता सेज पर, जलती वही सती हूं
मैं औरत नहीं सदी हूं,अनवरत बहती नदी हूं
  • पता -ब्राम्हण पारा, राजिम, जिला - रायपुर [छ.ग.]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें