इस अंक के रचनाकार

इस अंक के रचनाकार आलेख : साहित्य में पर्यावरण चेतना : मोरे औदुंबर बबनराव,बहुजन अवधारणाः वर्तमान और भविष्य : प्रमोद रंजन,अंग्रेजी ने हमसे क्या छीना : अशोक व्यास,छत्तीसगढ़ के कृषि संस्कृति का पर्व : हरेली : हेमलाल सहारे,हरदासीपुर दक्षिणेश्वरी महाकाली : अंकुुर सिंह एवं निखिल सिंह, कहानी : सी.एच.बी. इंटरव्यू / वाढेकर रामेश्वर महादेव,बेहतर : मधुसूदन शर्मा,शीर्षक में कुछ नहीं रखा : राय नगीना मौर्य, छत्तीसगढ़ी कहानी : डूबकी कड़ही : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,नउकरी वाली बहू : प्रिया देवांगन’ प्रियू’, लघुकथा : निर्णय : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,कार ट्रेनर : नेतराम भारती, बाल कहानी : बादल और बच्चे : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’, गीत / ग़ज़ल / कविता : आफताब से मोहब्बत होगा (गजल) व्ही. व्ही. रमणा,भूल कर खुद को (गजल ) श्वेता गर्ग,जला कर ख्वाबों को (गजल ) प्रियंका सिंह, रिश्ते ऐसे ढल गए (गजल) : बलबिंदर बादल,दो ग़ज़लें : कृष्ण सुकुमार,बस भी कर ऐ जिन्दगी (गजल ) संदीप कुमार ’ बेपरवाह’, प्यार के मोती सजा कर (गजल) : महेन्द्र राठौर ,केशव शरण की कविताएं, राखी का त्यौहार (गीत) : नीरव,लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की नवगीत,अंकुर की रचनाएं ,ओ शिल्पी (कविता ) डॉ. अनिल कुमार परिहार,दिखाई दिये (गजल ) कृष्ण कांत बडोनी, कैलाश मनहर की ग़ज़लें,दो कविताएं : राजकुमार मसखरे,मंगलमाया (आधार छंद ) राजेन्द्र रायपुरी,उतर कर आसमान से (कविता) सरल कुमार वर्मा,दो ग़ज़लें : डॉ. मृदुल शर्मा, मैं और मेरी तन्हाई (गजल ) राखी देब,दो छत्तीसगढ़ी गीत : डॉ. पीसी लाल यादव,गम तो साथ ही है (गजल) : नीतू दाधिच व्यास, लुप्त होने लगी (गीत) : कमल सक्सेना,श्वेत पत्र (कविता ) बाज,.

शुक्रवार, 14 जून 2013

इन्सान बिक रहे है


1
इन्सान बिक रहे है माटी के भाव में
कब तक जियेंगे आखिर वो भी अभाव में

कैसे करेंगे पार हम ये जुल्म की नदी
कुछ छेद दिख रहे है हर एक नाव में

नदियों के कूल पर है कुछ ठूंठ फिर खड़े
बरगद बड़े - बड़े भी बह गये बहाव में

नागों को दूध कितना पिलाया तो क्‍या हुआ
अन्तर नहीं है आया अब तक स्वभाव में

फिर पुण्‍य को मिलेगी देखो सजा कड़ी
अन्धी गवाहियों है उनके प्रभाव में

जब तक यहां बारूद का धुंआ न उठेगा
अन्‍िधयारे होके तब तक अपने जमाव में
(2)
दूसरों की जिन्दगी में झांकना अच्छा नहीं
चिट्ठियां औरों की पढ़ना बांचना अच्छा नहीं

ये जमाना बेबसी पर आपकी मुस्कायेगा
हर किसी से दर्द दुख अब बांटना अच्छा नहीं

सूर तुलसी और कबीरा से हुए ज्ञानी यहां
ज्ञान की बातें कहीं भी हांकना अच्छा नहीं

अपनी मयार्दा में रहना है हमारी सत्‍यता
रेखा लक्ष्मण की कभी भी लांघना अच्छा नहीं

परिन्दों को खुलके उड़ने दो गगन अब मित्रवर
आजादियों को पींजड़ों में बांधना अच्छा नहीं
  • (बजाज हास्पिटल के पीछे),सावरकर वार्ड, कटनी (मध्य प्रदेश)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें