इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

शनिवार, 13 जुलाई 2013

व्यवस्था


-  शिव नारायण -
एक शहर के मुख्य चौराहे पर एक नौजवान भीख माँग रहा था। उसकी हथेली पर एक सिक्का रखते हुए मैंने दबे स्वर में पूछा - एक युवा प्रधानमंत्री के देश में नौजवान होकर भीख माँगते तुम्हें शर्म नहीं आती? उसने मेरी बातों का कोई उार नहीं दिया। शाम के झुटपुटे में इधर - उधर देखकर जब मैंने पुन: अपनी बात तिहराई तो उसने मुझे आपादमस्तक निहारा और एक ओर चलने का इशारा किया। फुटपाथ पर पहुँच उसने सधे ढंग से उार दिया- मेरे पिता, बाबा सभी भीख माँगते थे। जिनका अनुसरण कर मैंने अपने पूर्वजों की परपंरा की रक्षा की है। यह मेरा पेशा है, जिसे निभाना मेरा धर्म है, फिर शर्म कैसी?
- एक युवक होकर भीख को धर्म मानते हुए तुम्हें लज्जा नहीं आती? मेरी बात से उसके चेहरे पर एक विद्रूप मुस्कराहट तैर गई। मुझे उपेक्षा की नजर से देखते हुए वह बोला- जब पेट में दाने डालने और अपनी कूवत बनाने की चिंता होगी तो सब मालूम हो जाएगा बाबू। इस बार मुझे उस पर क्रोध हो आया। मैंने तनकर कहा- कुछ भी होने पर तुम्हारी तरह कोई भीख नहीं माँगने लग जाएगा। बर्बादी के अंतिम क्षण में भी मुसीबतों से जूझते रहने में भीख माँगने से ज्यादा सुख मिलेगा, समझे!
इस बार उसके भीतर कहीं कुछ टूटा ....थोड़ी देर की चुप्पी के बाद वह बुदबुदाने लगा - हाँ, तुम्हारी बात शायद ठीक हो .... मेरे पिता यही कहते थे पेशे से कुली मेरे पिता दो आखर पढ़े भी थे, किन्तु उन्हें भी अंतिम दिनों में भीख ही मांगनी पड़ी थी। अपनी भयंकर बदहाली की स्थिति में भी उन्होंने मुझे पढ़ाया और खूब पढाया। वे किसी दफ्तर में मुझे क्लर्क देखना चाहते थे और इसी सपने को लेकर मर गए। मेरी माँ और बहन भी मेरे छुटपन में ही हैजे में मरी थी। पिता ने मरने पर उनके सपने को पूरा करने के लिए छोटे - छोटे ट्यूशन कर अपनी पढ़ाई जारी रखी। पढ़ाई खत्म होने पर नौकरी के लिए भटका और भटकता ही रहा। नौकरी के लायक अब उम्र भी जाती रही। हर जगह पैरवी, घूस, भ्रष्टाचार,एक कुली के बेटे को भला कौन नौकरी देता। दो दिन से मेरे पेट में दाने नहीं पड़े। भीतर से बेतरह टूटे मन ने मुझे पूर्वजों के पेशे को ही अपनाने के लिए बाध्य किया। मान अपमान की कई - कई परतों को तोड़कर आज पहली बार मैंने इस पेशे को अपनाया और तुम इस रूप में मिल गए। उसकी आवाज बहुत धीमी हो गई, जिसे अब सुनना भी मुश्किल हो रहा था। हाँ, उसकी अंतिम बात बहुत मद्धिम स्वर में सुनाई पड़ी - लेकिन अब मैं भीख नहीं माँगूँगा मेरे भाई, भीख नहीं माँगूँगा ।् मैंने करुण स्वर में उससे पूछा- तुमने कहाँ तक की शिक्षा पाई है? पहले वह हिचका लेकिन फिर संयमित आवाज में उार दिया-  मैंने फिलॉसाफी से एम किया है। लगा मेरे सामने किसी ने दर्पण रख दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें