इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

बुधवार, 11 सितंबर 2013

मन की सुंदरता

कु. अंकिता शर्मा
दिव्या स्कूल से आयी। आते ही मां से लिपटकर रोने लगी। मां ने रोने का कारण जानना चाहा। दिव्या सिसकती बोली - मां, मैं अब स्कू ल नहीं जाऊंगी। सहेलियां मेरी हंसी  उड़ाती है, कहते हैं कि मैं कोयले के समान काली हूं।,
मां ने दिव्या के आंसू पोंछते हुए कहा - दिव्या तुम व्यर्थ ही आंसू बहा रही हो। सहेलियां है इसलिए मजाक कर देती होंगी। और फिर व्यक्ति का मूल्यांकन चरित्र के द्वारा किया जाता है न कि गोरे काले रंग से। अर्थातï् अपने गुणों के अनुरूप व्यक्ति अच्छा या बुरा कहलाता है, समझी ......।
दिव्या को मां की बातों से संतुष्टिï नहीं मिली। स्कूल के एक शिक्षक अरविन्द कुछ ही दिनों बाद पदमुक्त होने वाले थे। छात्र - छात्राओं ने उन्हें उपहार देने की सोची और अपने अपने कक्षा के मांनिटर को पैसा एकत्रित कर दे दिए। दिव्या के कक्षा की मानिटर मिताली थी। मिताली अन्य सहेलियों के साथ उपहार योग्य वस्तु खरीदने जाने लगी कि दिव्या ने भी साथ चलने की बात कही। मिताली ने उसकी हंसी उड़ा दी। कहा - तुम्हें अपने साथ ले जाकर अपनी हंसी उड़वानी है क्या? उचित तो यही है कि तुम किसी कोयले की खान में दुबक कर रहो।
सहेलयों के व्यवहार से क्षुब्ध दिव्या घर लौटने लगी कि उसके मन में विचार उठा मैंने गुल्लक में जो पैसे जमा किए है। क्यों न एक उपहार लेकर शिक्षक को दे दूं। इस विचार के उदास मन को खुशी प्रदान किया। दिव्या ने घर पहुंचकर गुल्लक को तोड़ दिया। उनमें कुल जमा रूपए गिने। एक सौ पचास रूपए थे। दिव्या ने सोचा - इतने रूपये तो कक्षा भर के विद्यार्थी भी जमा नहीं कर पाए होंगे। इतने रूपए से तो अच्छा से अच्छा उपहार लिया जा सकता है। दिव्या बाजार पहुंच गई।
मिताली सहेलियों के साथ उसी बाजार में खरीददारी करने आई थी। दिव्या ने उन लोगों को देख लिया। वह उन लोगों से इसलिए बचकर निकल जाना चाहती थी क्योंकि उसकी फिर से खिल्ली न उड़े। दिव्या आंख बचाकर निकलती कि मिताली ने उसे देख लिया। वह सहेलियों के साथ दौड़कर दिव्या के पास आई। उनके चेहरे उतरे हुए थे। मिताली की आंखों में आंसू भरे हुए थे। उनकी स्थिति का निरीक्षण कर दिव्या ने पूछा - तुम लोगों के चेहरे क्यों उतरे हुए हैं?
सहेलियों में से विनीता ने कहा कि हमने खरीददारी करने मिताली को रूपए दिए थे। उसे उसने कही गिरा डाले। दो घण्टे हो गये खोजते - खोजते पर रूपए नहीं मिल रहे। इस पर मिताली ने रू आंसू होकर मिताली ने कहा - यह सच है मगर सहेलियां मुझ पर विश्वास नहीं कर रही हैं, कह रही है मैं चोर हूं। मैंने वह रूपए रख लिए हैं। मिताली की आंखों से आंसू टपक पड़े।
उसकी स्थिति को देख दिव्या को दया आ गई। दिव्या जिन रूपयों से स्वयं खरीददारी करने आई थी उसे मिताली की ओर बढ़ा दिया। मितानी ने थोड़ा न नुकूर करने के बाद दिव्या से उसके रूपए ले लिए। मन ही मन सारी सहेलियां लज्जित थीं।
दूसरे दिन मिताली ने भरी कक्षा में दिव्या की उदारता की प्रशंसा की। उसने अपने द्वारा किए दुर्व्यवहार के लिए दिव्या से क्षमा मांगी। अन्य सहेलियों ने भी दिव्या से क्षमा मांगी। स्कूल के सभी छात्र - छात्राओं ने दिव्या की उदारता को सराहा। अब दिव्या को लगा कि मां सच कहती है - तन की नहीं, मन की उदारता सर्वोपरि होती है।   

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें