इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

बुधवार, 4 सितंबर 2013

जब आइस बादर करिया ।

श्यामलाल च तुवेर्दी
जब आइस बादर करिया ।
तपिस बहुत दू महिना तऊन सुरूज मुंह तोपिस फरिया ।
जउन समे के ढ़ंग देख के,
पवन जुड़ाथे तिपथे ।
जाड़ के दिन म सूरार् हो,
आँसू निकार मुँह लिपथे ।।
    गरम के महिना झाँझ होए,
    आगी उगलय  मनमाना ।
    तउने फुरहुर सुघर च लिस,
    जैसे सोझुआ अनजाना ।।
राम भेंट के संवरिन बुढ़िया कस मुस्यिाइस तरिया,
जब आइस बादर करिया ।
    जमो देंव्ह के नुनछुर -
    पानी बाला सोंत सुखागे ।
    थारी देख नानकुन लइका -
    कस पिंरथिवी भुखागे ।
मेघराज के पुरूत पुरूत के,
उलझत देखिन बुढ़वा ।
3 हा ! ददा बाँच गे जीव कहिन, 4
सब डउकी, लइकन, बुढ़वा ।
3 नइ देखेन हम कभू ऐंसो कस, कुहुक न पुरखा परिया 4
जब आइस बादर करिया ।
    रात कहै अब कोन ? दिनों म,
    घपटे हे अंधियारी ।
    करिया हंड़िया केंरवँछहा कस,
    करिस तोप के कारी ।
सुरूज दरस के कोनो कहितिन,
बात कहां अब पाहा ?
3  हाय  हाय  4 के हवा गइस,
च ौंगिरदा 3 ही ही 4 3 हा हा 4।।
खेत खार म जगा जगा, सरसेत सुनांय  ददरिया,
जब आइस बादर करिया ।।
    का किसान के सुख कइहा,
    बेटवा बिहाव होए जइसे ।
    दौड़ - धूप सरजाम सकेलंय ,
    काल लगिन होइ अइसे ।
नांगर ,बिजहा, बैला, जोंता,
नहना सुघर तुतारी ।
कांवर टुकना जोर करैं,
धरती बिहाव के तियारी ।
    बस कस बिजहा छांट पछिनय ,
    डोला जेकर कांवर ।
    गीत ददरिया भोजली के,
    गांवय  मिल जोंड़ी जांवर ।।
झेंगुरा धरिस सितार बजाइस,
मिरदंग बेंगवा बढ़िया ।
बजै निसान गरज बिजली -
छुरछुरी च लाय  असढ़िया ।
राग - पाग सब माढ़ गइस हे, माढ़िस जम्मों घरिया,
जब आइस बादर करिया ।।
    हरिय र लुगरा धरती रानी,
    पहिर झमक ले आइस ।
    कोतरी बिछिया मुंदरी कस,
    फेर झुनुक झेंगुरा गाइस ।
कुंड के चँउक पुराइस ऐती,
नेंग म लगे किसानिन ।
कुछ पूछिहा बुता के मारे,
3  कहिथें - हम का जानिन ।। 4
    खाली हाथ अकाम खड़े,
    अब कहां एको झन पाहा ।
    फरिका तारा लगे देखिहा,
    जेकर घर तूं जाहा ।
हो गै हे बनिहार दुलम, सब खोजय  खूब सफरिहा,
जब आइस बादर करिया ।।
    पहरी उपर जाके अइसे,
    बादर घिसलय  खेलय  ।
    जइसे कल्लू परबतिया संग,
    कर ढ़ेमचाल ढ़पेलय  ।
मुच मुच ही दांत सही,
बिजली च मकय  अनचेतहा ।
जगम ले आंखी बरय  मुंदावय ,
करय  झड़ी सरसेतहा ।।
    तब गरीब के कलकुत मातय ,
    छान्ही तर तर रोवय  ।
    का आंसू झन खंगै समझ,
    अघुवा के अबड़ रितोवय  ।
अतको म मुस्यिावय  ओहर,
लोरस नवा समे के ।
अपन दुख के सुरता कहां ?
भला हो जाए जमे के ।
सुख संगीत सुनावै 3 तरि नरि ना, मोरि ना अरि आ 4
जब आइस बादर करिया ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें