इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

बुधवार, 27 नवंबर 2013

आनन्द एवं प्रेरणा के स्त्रोत : बाल गीत

- समीक्षक -  डॉ. सुरेन्द्र कुमार जैन -
समीक्ष्य कृति  धूल भरे हीरे आनन्द बाल मनो विज्ञानी कवि डा. जयजयराम आनन्द कृत बालोपयोगी काव्‍यकृति है जिसे पढ़कर बालक बालिकायें अति आनन्द की अनुभूति करते है। जैसा कि आप सब जानते है कि आजकल बचपन छीना जा रहा है माता- पिता परिजन भी उनके शत्रु जैसे बने हुए है उन्हे अपने व्यक्तित्व सुख के आगे अपने बच्चों का हित भी नही दिखता। उनके पास संस्‍कार के नाम पर मात्र टी.वी.कार्टून है, डरावनी हारर फिल्में है या आयाघरों में प्रेम अपनत्व से दूर बासी भोजन, डांट- फटकार। ऐसे में जरूरी है बाल साहित्य। डा. जयजयराम आनन्द की यह कृति बच्चों को  उनका बचपन सौंपती है और सहज ही अपनत्व की मिठास, प्यार और संस्‍कार  देती है। वे अपनी पहली कविता- विनती में ही सच्चाई का पाठ पढ़ाते है-
माँ वरदान मुझे दे दो।
जो कुछ बोलूं सच सच बोलूं
सोच समझकर रूक रूक बोलूं
बचपन कविता में उनकी प्रेरणा है कि
पढ़े लिखे हम सब बचपन में,
खेले कूदे मगन रहें
संगी साथी सब अच्छे हों
जीवन पथ में सफल रहें।
कविताओं में आगत महापुरूषों के नामों यथा भामाशाह, ध्यानचंद्र, विन्द्रा, ·पिलदेव, सानिया मिर्जा, विवेकानन्द, सीता, सत्यवती आदि बाल पाठको के मन में जिज्ञासा जगाते है और वे उनके चरित्र को जानने का प्रयास करेंगे, ऐसा मेरे विश्वास है।
  डा. आनन्द आधार शिला कविता में लिखते है कि-
  बचपन कोरा कागज जैसा
  जो चाहो सो लिख दो।
  लेकर रंग- बिरंगी ची
  मनमाने रंग भर दो।।
यदि इसी सोच पर स्‍कूल  शिक्षा मिले तो बच्चों की आधारशिला मजबूत हो सकती है। कवि अब पुरातन पंथी नही है वह आधुनिक तकनीक  से भी बच्चों को जोडऩा चाहता है तभी तो दिशा कविता में वह चिठिया लिखने के स्थान पर दूरभाष करने की सलाह देता है जो क्यों न परिचित करवाया जाये। बच्चों माता- पिता के प्रति आदर भाव से जुड़े रहे उनकी अच्छाइयों को ग्रहण करें इसलिए अम्मा की पहचान कवि इस रूप में कराते है-
हार- खेत का हिसाब रखना
खाद- बीज की किताब रखना
लाभ हानि की चिन्ता करना
बापू के संग जीना मरना
कौन बीज किस खेत उगेगा
कौन कहाँ या नकद मिलेगा
अम्मा को है ज्ञान
आज टूटते परिवारों को बचाना समय एवं समाज की जरूरत है। आज के बच्चे बड़े  होकर कल का भविष्य बनते है और जब वे देखे कवि उनके माता- पिता की उपेक्षा कर रहे हैं तो कल वे भी उनका अनुसरण करेंगे। यह स्थिति न बने इसलिए पुश्तैनी घर कविता में आनन्द कहते है कि -
घर के मुखिया दादा- दादी
सबकी चिन्ता दादा- दादी
चूल्हा- चौंका सबका ए·
सबके पीछे दादा- दादी।
कभी किसी का कौर बंटा न किश्तों में।।
डा. जयजयराम आनन्द मात्र बच्चों की पसंद का ही विचार नही करते अपितु वह बच्चों को यह भी देना चाहते है जिससे वे अपना मानस बना सके कि उन्हे कैसा समाज चाहिए और उन्हे स्वयं कैसा बनना है। वे विज्ञापन में औरत के उथरे तन- मन पर यह कहकर प्रश्न उठाते है कि विज्ञापन में औरत नाचे उथरे तन मन लिखती देह निबन्ध पैसों से अनुबन्ध बंधुआ मजदूरी आओ हम सब दीप जलाएं आदि प्रसंग उठाकर वे अनेक प्रश्नों के समाधान प्रस्तुत करते है- अच्छी बात सिखाई होती जीवन में सुखदायी होती। इस तरह धूल भरे हीरे आनन्द कर सभी कविताएं सरस, सहज, भावना प्रधान, प्रेरणास्पद एवं उपयोगी है। कृति का  कवर पृष्ठ बच्चों के हंसते, मुस्‍कुराते, गंभीर, जिज्ञासा भरी आंखो युक्त चेहरों से बाल आनन्द की सृष्टि कर रहा है। मैं समझता हूँ कि ऐसा बचपन बना रहें तो कृतिकार डा. जयजयराम आनन्द का श्रम सफल होगा। मेरी हार्दिक बधाई।

पता 
सहायक प्राध्‍यापक 
प्रवर : हिन्‍दी विभाग 
सेवा सदन महाविद्यालय, बुरहानपुर ( म़ध्‍यप्रदेश )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें