इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

गुरुवार, 22 मई 2014

हाना न केवल छत्तीसगढी भाषा की प्राण है अपितु यह इस भाषा का स्वभाव और श्रृँगार भी है - कुबेर

गंडई पंडरिया में साकेत साहित्य परिषद् सुरगी का पंद्रहवाँ सम्मान समारोह एवं वैचारिक संगोष्ठी सम्पन्न
राजनांदगांव। 23 फरवरी 2014 को गंडई पंडरिया में साकेत साहित्य परिषद् सुरगी का पंद्रहवाँ सम्मान समारोह एवं वैचारिक संगोष्ठी सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रगतिशील विचारधारा के सुप्रसिद्ध समालोचक - साहित्यकार डॉ. गोरेलाल चंदेल (खैरागढ़) ने की। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सुप्रसिद्ध भाषाविद्, साहित्यकार व संपादक डॉ. विनय कुमार पाठक (बिलासपुर) एवं विशिष्ट अतिथि डॉ. जीवन यदु, डॉ. दादूलाल जोशी, डॉ. पीसीलाल यादव, डॉ मा
घीलाल यादव, आचार्य सरोज द्विवेदी, श्री हीरालाल अग्रवाल तथा डॉ. सन्तराम देशमुख थे। ’छत्तीसगढ़ी जनजीवन पर हाना का प्रभाव’ विषय पर केन्द्रित संगोष्ठी के प्रारंभ में आधार वक्तव्य देते हुए परिषद् के संरक्षक कथाकार कुबेर ने कहा कि छत्तीसगढ़ी भाषा में मुहावरों, कहावतों और लोकोक्तियों को ’हाना’ कहा जाता है। हाना न केवल छत्तीसगढी भाषा की प्राण है अपितु यह इस भाषा का स्वभाव और श्रृँगार भी है। आम बोलचाल में छत्तीसगढिय़ों का कोई भी वाक्य हाना के बिना पूर्ण नहीं होता। कभी - कभी तो पूरी बात ही हानों के द्वारा कह दी जाती है। छत्तीसगढ़ी हाना लक्षणा के अलावा व्यंजना शब्द शक्ति से भी युक्त होती है। इसके अलावा लोकोक्तियों के रूप में प्रयुक्त हानों में अन्योक्ति अलंकार का भी समावेश होता है। एक उदाहरण देखिये - आगू के भंइसा पानी पीये, पाछू के ह चिखला चांटे। इसका आशय है, सामूहिक भोज के समय पीछे रह जाने वालों के लिए भोजन कम पडऩे की संभावना रहती है।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. विनय पाठक ने कहा कि हाना पूर्णत: अपने परिवेश और जनजीवन पर आधारित होते हैं। एक ऊक्ति है - ’कानून अंधा होता है।’  छत्तीसगढ़ में लोग कहते हैं - ’कानून होगे कनवा अउ भैरा होगे सरकार।’ यह लोक की निरीक्षण-शक्ति से उत्पन्न ऊक्ति है, जो उनके भोगे गये यथार्थ से आती है और इसीलिए यह ’ कानून अंधा होता है’ जैसे बहुप्रचलित ऊक्ति से कहीं अधिक मारक और तथ्यपरक है। लोकमान्यता में कानून अंधा नहीं बल्कि  काना होता है जिसकी खुली आँख निम्न वर्ग की ओर रहती है, उसे उसके छोटे-मोटे हर अपराध के लिए तुरंत दण्डित करती है परन्तु बंद आँख उच्च वर्ग की ओर रहती है, और उनके बड़े से बड़े अपराध को भी अनदेखा करने के आरोप से खुद को बचाती है। आजकल शोधार्थियों द्वारा शब्दकोश से किसी हाना का छत्तीसगढ़ी में अनुवाद करके प्रस्तुत करने का गलत प्रचलन बढ़ रहा है। ’ऊँट के मुँह म जीरा’ इसका उदाहरण है। छत्तीसगढ़ में न तो ऊँट होते हैं और न ही जीरा। इस आशय का छत्तीसगढ़ी हाना है ’हाथी के पेट म सोहारी।’ साकेत साहित्य परिषद ने हाना का संकलन व इस पर संगोष्ठियों की शुरूआत कर सराहनीय कार्य किया है।
अपने अध्यक्षीय वक्तव्य में डॉ. गोरेलाल चंदेल ने कहा कि हाना लोकभाषा और लोकजीवन के गाढ़े अनुभव से पैदा होते हैं। वस्तुतत्व को अतिशय प्रभाव से प्रस्तुत करने की कला ही हाना है। इसमें अनुभव और निरीक्षण, दोनों ही प्रभावी ढंग से परिलक्षित होते हैं। हाना में निश्चित ही व्यंजना होती है जिसके प्रभाव से यह अपने परिवेश से निकलकर वैश्विक रूप धारण कर लेता है। एक हाना है - ’कोढिय़ा बइला रेंगे नहीं, रेंगही त मेड़ फोर।’’ यह हाना ग्राम्य परिवेश में जितना सार्थक है उतना ही आज के तथाकथित बाहुबलियों और महाशक्तियों की राष्ट्रीय और वैश्विक परिवेश के लिए भी सार्थक है।
हाना बनने की स्वाभाविक प्रक्रिया और शब्द शक्तियों के अंतर्संबंधों को हीरालाल अग्रवाल ने रोचक प्रसंगों के माध्यम से प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा; डॉक्टर जब मरीज से पूछता है - ’’तोला कइसे लागत हे ? ’’ तब मरीज जवाब देता है - ’’कइसे लागत हे।’’ डॉक्टर और मरीज के शब्द ’कइसे लागत हे’ एक जैसे हैं, पर मरीज का जवाब, ’’कइसे लागत हे’’ उसकी अभिव्यक्ति कौशल के कारण, नया अर्थ ग्रहण करके एक हाना बन जाता है; ठीक वैसे ही, जैसे - ’’ऐसे-वैसे कैसे-कैसे हो गए, कैसे-कैसे, वैसे-वैसे हो गए।’’
आचार्य सरोज द्विवेदी ने कहा कि यदि मैं कहूँ - ’’एक रूपया चाँऊर’’ तो आपको इशारा समझने में कोई दिक्कत नहीं होगी और आजकल ’’पप्पू’’ और फेंकू’’ का क्या मतलब है, इसे भी आप बखूबी जानते हैं। हाना ऐसे ही बनते है। डॉ. जीवन यदु ने कहा कि हाना प्रथमत: भाषा का मामला है। इसमें देश, समाज और अर्थतंत्र के अभिप्राय निहित होते हैं।
डॉ. दादूलाल जोशी ने कहा कि हाना में ’सेंस ऑफ  ह्यूमर’ होता है, इसीलिए हाना में कही गई बातों का लोग बुरा नहीं मानते हैं। यशवंत मेश्राम ने कहा कि हाना में ’हाँ’ और ’न’ अर्थात स्वीकार्यता और अस्वीकार्यता दोनों निहित होते हैं। हाना की अर्थ-संप्रेषणीयता और मारकता इन्हीं दोनों के समन्वित प्रभाव से आती है। प्रारंभ में डॉ. पीसीलाल यादव ने ’जिसकी लाठी उसकी भैंस,’ ’आँजत-आँजत कानी होगे’ तथा ’पान म दरजा हे फेर हमर म नहीं’, जैसे हानों की उत्पत्ति के संभावित प्रसंगों को रोचक कहानियों के द्वारा समझाया।
सम्मान की कड़ी में साहित्यकार श्री बी.डी.एल श्रीवास्तव, लोककलार-गायक श्री द्वारिका यादव (शिक्षक) तथा कवि-उद्घोषक श्री नन्द कुमार साहू (शिक्षक) को 2014 का साकेत सम्मान प्रदान किया गया। इस अवसर पर हाना पर केन्द्रित पत्रिका ’साकेत स्मारिका 2014’ तथा कथाकार-संपादक सुरेश सर्वेद की छत्तीसगढ़ी कहानियों का संग्रह ’बनकैना’ का विमोचन भी किया गया।
हाना पर केन्द्रित इस महत्वपूर्ण संगोष्ठी के लिए सभी अतिथियों ने साकेत साहित्य परिषद् सुरगी के प्रयासों को सराहा जिसके माध्यम से इतनी गहन, महत्वपूर्ण व सार्थक परिचर्चा संभव हो सकी। इस संगोष्ठी में साकेत साहित्य परिषद के सदस्य व पदाधिकारियों के अलावा कथाकार-संपादक सुरेश सर्वेद, डॉ. सन्तराम देशमुख, डॉ. माघी लाल यादव, राजकमल सिंह राजपूत तथा बड़ी संख्या में साहित्य प्रेमी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन ओमप्रकाश साहू ’अंकुर’ तथा आभार प्रदर्शन लखन लाल साहू ’लहर ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें