इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

शनिवार, 22 नवंबर 2014

बेंगवा के टरर टरर

विटठल राम साहू ' निश्‍छल ' 

एक समे के बात ये, पानी नी गिरीस। अंकाल पर गे। सब कोती हाहाकार मचगे। सब ले जादा पानी म रहवइया जीव - जंतु मन के करलई होगे। एक ठन बेंगवा ल अपन भाई - बंधु के याहा तरहा दुख ल देख के रेहे नी गीस। ओ मन ल ये केवा ले उबारे बर इंद्र देवता मेर पानी मांगे बर जाये के बिचार करीस। एक कनिक दुरिहा गेय राहय त ओला एक ठन बिच्छी भेंट पारिस अउ पूछथे - बेंगवा भईया तैं लकर -लकर कांहा जावत हस गा?
बेंगवा अपन मन के बात बतईस। बिच्छी ह सुन के बड़ खुस होइस। किथे - भईया तैं तो बड़ा पुन्न के काम के बीड़ा उठाय हस। महू ल तोर संग ले चल, सायद मैं तो तोर काम आ सकव। बेंगवा ल भला का इतराज होतिस। बिच्छी घलो ओकर संग चलिस। आगू जा के उही होइस जउन अइसन मामला म होवत आवत हे। कोनो लोकहित के काम बर सहयोगी के कमी नइ राहय। जइसे आज - काल अन्ना हजारे ह देस ले भ्रस्टाचार ल मेंटाय बर अनसन करत हे। ओकर संग रामदेव बाबा जइसन लाखों लोगन मन खुद ले प्रेरित हो के ये आन्दोलन म सामिल होगे तइसे। बेंगवा अउ बिच्छी संग मंजूर, मधुमक्खी, भेड़िया, सेर, भालू, चीता सबो ये पुनीत काम म सामिल होगें।
जंगल, झाड़ी, नदी, पहाड़, घाटी छेरी - बेरी इंकर रस्ता रोके रहाय। फेर ये मन हांसत - हांसत सबे दुख ल तापत रात - दिन यात्रा चालू रहय। भूख - पियास थकान और मुसकील ल झेलत आगे बढ़ते गिन। काबर कि ये मन पर उपकार बर कमर कस ले रहीन। आखिर एक दिन इन्द्र देवता के महल के आगू म पहुंचगें। अपन जम्मों संगवारी मन ल येती - ओती लुकाय बर कहि दिस अउ बेंगवा ह महल के दुवारी म लगे घंटा ल टन - टन - बजा दिस।
- देख तो कोन आय हे ? इन्द्र ह एक झन हट्टा कट्टा अउ भीम करिया सेवक ल कहिथे। सेवक ह कपाट ल खोल के बाहिर अइस, त बेंगवा ह बड़ा आत्मविश्वास ले हुकुम दिस - जा के अपन मालिक ल बता दे, मंय धरती ले पानी के बाबत चरचा करे बर आय हाववं।
- अच्छा सरकार। दीन - हीन के भाव देखावत सेवक ह ओकर हंसी उड़इस। फेर अपन हांसी ल रोकत भीतरी कोती चल दिस।
ओकर गोठ ल सुनके इन्द्र घलो खलखला के हांस डारिस। इन्द्र देवता ह अपन बगइचा ले कालिया नाग ल बलईस अउ किथें - जस महल के दुआरी म तोर सुवादिस्ट भोजन बइठे हे।
कालिया शान म अंटियावत बेंगवा ल लीले बर अइस। ओतके बेरा झुंझकुर म लुकाय मंजूर हा कालिया ऊपर झपट्टा मार के ओकर कहानी खतम कर दिस। इन्द्र देवता घुस्सा म लाल - बाल होगे। मंजूर ल मारे बर जंगली कुकुर मन ल भेजिस। बिचारा कुकुर मन ल भालू, बेंदरा, कोलिहा मन मार डारथें। इन्द्र देवता ह अपन सेवक ल बड़ जबर तलवार धरा के भेजथे ओला बिच्छी ह डंक मार के घायल कर देथे। अपन गोड़ ल धर के उही मेरन चिचियावत गिर परथे। मधुमक्खी ह ओकर देंह भर ल चाब -चाब के ओकर बारा बजा देथे। ओकर हात ले तलवार फेंका जथे उही बेरा म सेर, भालू, चीता, कोलिहा मन ओकर ऊपर माछी सहीक झूम जथें। देखते - देखत उही मेर ओकर सरी अंग ल तिड़ी - बिड़ी कर देथे। इन्द्र देवता ह खतरनाक स्थिति ल देखके गुरु बृहस्पति मेर सुलाव मांगथे।
बृहस्पति महाराज समझाथे - कोनो महान उद्देस बर जाति, धरम अउ वर्ग के भेदभाव ल भुलाके जब कोई संगठन आगू आथे त ओकर पुकार ल दबाय नइ जा सकय मोर सुलाह हे के तैं समझौता कर ले।
इन्द्र देवता सलाह ल मान जथे। बेंगवा ल भीतरी म बलाथे चरचा के बाद इन्द्र देवता पानी बरसाय बर तियार हो जथे। बेंगवा खुसी म तुरते किथे - महाराज! मंय तो नानकीन जीव आंव। ये उपकार के बदला नी चुका सकंव, फेर जब भी तैं पानी बरसाबे मंय हर आभार माने बर नी भुलावंव।
ये किस्से तो जुग - जुग जुन्ना हे फेर आज घलो पानी गिरथे त बेंगवा टरर - टरर के भासा म इन्द्र देवता ल धन्यवाद देय बर नी भुलाय।
मौवाहारी,महासमुन्द [छ.ग.] 
www.gurturgoth.com से साभार

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें