इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

शनिवार, 29 अगस्त 2015

कभी- कभी ऐसा होता है

अजय ठाकुर

तीन महीने बाद आज नैना को वो लम्हा मिला था जो एक जगह कहीं ठहर जाने जैसा था। कॉफी शॉप में कप थामे, उसकी नज़र शीशे के बाहर भींगी शाम के अँधेरे में खुद को उतारना चाहती तो आसमान में टंगे यादों के काले बादल, उसे रोक लेते। बाहर गिरती बारिश की बूंदों के शोर से नैना का एक ऐसा दर्द जुडा था, जो उसके दिल की सारी मस्तियाँ, सारी जिंदादिली छीन चुकी थी। बच गई थी, तो उसके अंदर सिर्फ  एक चुभती हुई खामोशी, एक दर्द। जिससे दूर जाने के लिए, उसने शहर बदला, नौकरी बदली। पर दूर तो दूसरों से जाया जाता है, अपने दिल से, खुद से नहीं। अर्णव और उसकी यादें भी तो कोई दूसरी नहीं थी।
        बारिश की इस शाम ने नैना के उन जख्मों को कुरेद दिया। जिसको दिल्ली आने के बाद वह अपने मसरूफियत से भरने की कोशिश कर रही थी। फोन की घंटी बजी, उठाया तो - कहाँ हो नैना, पार्टी शुरू होने वाली है।
- सॉरी अंजलि, मैं नहीं आ पाऊँगी। ऑफिस के बाद बारिश में फँस गई हूँ।
- पर इधर तो नहीं हो रही।
- बारिश तो हर वक्त कहीं न कहीं होती ही है, पर भींगता कोई - कोई है।
नैना ने अपने ज़ज्बात को उन लम्हों से जोड़ा तो अंजलि ने सवाल की।
- मैं समझी नहीं, क्या बोल रही है तू?
- श्वेल लीव दिस, इधर तो बहुत हो रही है, तुम सब एन्जॉय करो। वन्स अगेन हैप्पी बर्थडे टू यू डिअर।
        सच कहा था नैना ने भींगता कोई -कोई ही है। यहाँ बैठे - बैठे, वह भी तो भींग ही रही थी अर्णव की यादों में, और बाहर बारिश रुक सी गई थी।
        कानपुर में वह बरसात का ही दिन था। जब नैना कॉलेज से अपनी एमबीऐ की डिग्री लेकर, रोहन के बाइक पर सवार होकर भींगते हुए अर्णव के पास पहुँची थी। जिसे अर्णव ने न जाने किन बातों से जोड़ दिया। तुम रोहन के साथ वो भी इस हालत में आई हो। क्या है ये? कब से चल रहा है ये सब। अर्णव इतने पर कहाँ रुका था। उसने तो रोहन को भी क्या - क्या कह दिया, उन दोनों की दोस्ती के रिश्ते को गालियाँ तक दे दी - तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई, मेरी गर्ल फ्रेंड को अपने बाइक पर बैठाने की। अर्णव के इस तमाशे ने वहाँ कितने चेहरे को खड़े कर दिए थे। जैसे किसी फिल्म की शूटिंग चल रही हो। नैना को ये देख जब रहा नहीं गया तो वह बोली - अर्णव क्या हो गया तुम्हें। अर्णव चिल्लाते हुए कहा -तुम चुप रहो,मैं तुमसे बाद में बात करता हूँ। फिर वह बाद कहाँ, नैना उसी वक्त वहाँ से चली आई।
        यह अच्छी बात है कि सामने वाला पज़ेसिव हो पर इतना न हो कि पज़ेसिवनेस शक का रूप इख्तियार कर ले। रिश्तों को खाक कर देता है ये शक। उस दिन के बाद, फिर न कभी नैना ने उससे संपर्क किया और न ही अर्णव ने।
        आज तीन महीने के बाद दोपहर में ऑफिस के टेलीफोन पर अर्णव का कॉल आया था, नैना आई एम सो सॉरी, न जाने उस दिन मुझे क्या हो गया था। रोहन के साथ तुमको देखने के बाद। सो प्लीज फोर्गिव मी। मैं आज शाम के फ्लाइट से दिल्ली आ रहा हूँ। मुझे वहाँ जॉब मिल गई है। प्लीज एअरपोर्ट आ जाना नौ बजे। नैना ने बिना जवाब दिए रिसीवर रख दिया।
        उसके लिए जितना अर्णव का कॉल आना सवाल नहीं बना, उतना ये आखिर अर्णव को यहाँ का नंबर कहाँ से मिला। दिमाग पर जोर दिया तो याद आया करीब सप्ताह भर पहले फेसबुक पर उसका रिक्वेस्ट आया था। जिसे उसने अब तक पेंडिंग छोड़ रखा है। शायद वहीं से मिला होगा।
        घड़ी को देखा तो सात बज रहे थे। वक्त तो दौड़ रहा था मगर बारिश ने दिल्ली को रोक दिया था। ठहर गई थी दिल्ली पर जो कुछ नहीं ठहर था, तो वह थी- हर बीतते लम्हों के साथ नैना के दिल की बेचैनी। फोन उठा कर एक नंबर मिलाया - हेल्लो इजी कैब।
- यस, हाउ मे आई असिस्ट यू मेम।
- आई एम नैना अग्रवाल ।
        नैना ने पिकअप और ड्राप पॉइंट नोट करवाया तो अगले पन्द्रह मिनटों में कैब कॉफी शॉप के बाहर आ कर खड़ी हो गई। नैना के बैठते ही कैब सड़क पर जमे पानी को तेज रफ़्तार के साथ हवा में उछालते दौड़ने लगी। वो अपने प्यार को एक ऐसा ही रफ़्तार देने को निकली है, जो तीन महीने से कहीं ठहर गया था। ठहरे पानी में तो काई भी लग जाती है, और वह अपने प्यार को शक की आग में खाक होते नहीं देखना चाहती।
        सीपी से एअरपोर्ट के इस स$फर में वह बहुत खुश थी। तेज़ रफ़्तार से दौड़ती कैब के विंडो से हाथ बाहर निकालती और बारिश की बूंदें हथेलियों पर जमा कर अंदर कर लेती। ये बूंदे उसकी तीन महीने से जाया होने वाले वे आँसू थे। जिसे समेटने का उसे आज मौका मिल रहा था।
         एअरपोर्ट पर कैब से उतर कर, वह एराइवल के गेट नंबर तीन पर एक फूलों का गुलदस्तां ले कर खड़ी हो गई। अर्णव के इंतजार में। गेट से एग्जिट करते हुए नैना ने अर्णव को देख लिया था, मगर लोगों की भीड़ में अर्णव नैना को नहीं देख पाया। नैना ने उसे आवाज लगाया - अर्णव, दिस साइड।
        नैना को तलाशती अर्णव की नज़रें जब एक जगह ठहरी तो उसे मुस्कुराती हुई नैना दिखी, जिसका उसने कभी दिल दुखाया था। उसकी नज़रे शर्म से झुकी तो नहीं पर नैना की प्यार से भरे जरुर दिखे। नैना के सामने पहुँच कर जब उसने अपना सनग्लास उतारा तो लगा अब छलक जायेंगे।
        नैना ने फूलों का गुलदस्तां अर्णव को देते हुए बोली - वेलकम बेक।
         अर्णव लोगों के भीड़ के सामने नैना से फिर से माफी माँगने की कोशिश की तो नैना ने उसके होठों पर हाथ रखते हुए बोली- मुझे यकीन था, तुम एक दिन आओगे। तुम आये यही काफी है। और हँसते हुए कहा- यार, प्यार में कभी - कभी ऐसा होता है।
        अर्णव ने आगे बढ़कर नैना को बाँहों में भरा और माथे को चूमते हुए बोला -हाँ, कभी - कभी ऐसा होता है। फिर तो बिजली की तेज करकराहट के साथ पूरी रात बारिश होती रही।
मधेपुरा, बिहार

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें