इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

शनिवार, 29 अगस्त 2015

अंधरी के बेटा

विट्ठल राम साहू '' निश्‍छल''

        एक झन राजा रिहिस। ओ हा अपन राज म बजार लगवाय। ओखर फरमान रिहिस कि जऊन जिनिस हा सांझ के होवत ले नई बेचाही तौन जिनिस ला राजा के खजाना ले पइसा दे राख लेय जाय। एक झन मूरति बनईया करा राक्छसिन के मूरति बांचगे ओला कोन्हों नई लीन। जानबूझ के माछी कौन खाय? पइसा दे के राक्छसिन ला कोन लेही। सांझ किन ओ मूरति ल राजा ल लेय बर परगे। राक्छसिन तो राक्छसिन ये। राक्छसिन हा राजा ला कहिथे - मोला पइसा डार के लेय हस, बने बात ए। फेर मैं जौंन कहूं तौन ला तोला माने बर परही।
        राजा किहिस - मानहूं का बात ये बता। त राक्छसिन कहिथे - तोर तीनों रानी के आंखी ल निकार के ओमन ला जंगल डाहार खेदार दे। राजा बपुरा का करय, अपन तीनों रानी के आंखी ला निकाल के खेद देथे। छोटे रानी हा पेट में रहिथे। बिचारी ह कटाकट जंगल मा एक ठन पीपर रूख के तरि मां बइठे पीपर के फर मन ला बीन - बीन के खावय अऊ डबरा - खोंचका के पानी ल पिए। एक दिन ओखर एक ठन बेटा होईस। ओखर नाव राखिस बिजयपाल। ओखर बेटा हा दिन के दिन बाढ़हत गिस। एक दिन एक झन राजा हा उही सोज ले जावत राहाय। ओखर मेर ले तीर - कमान मांग लिस। अब ओ हा सिकार करे लगिस। सिकार मा जौंन मिलय तेन ला अपन दाई मन ला अऊ अपनो खावय। एक दिन ओ हा अपन दाई मन के अंधरी होय के किस्सा ला सुनिस। सुन के ओ राक्छसिन मेर गिस। उहां जाके कहिथे - अब मैं हा इंहे रहूं। राक्छसिन डर्रागे।
        ओ किहिस - पहिली तैं मोर दाई मेर जा के ओखर सोर ले के आ तब राखहूं। राक्छसिन हा चाल चले रिहिस। ये टूरा हा ऊंहा जाही त मोर दाई येला बचावय नहीं। खा डारही। राक्छसिन के दाई के पता - ठिकाना ला पूछके बिजयपाल हा ऊहां पहुंचगे। ऊहां जा के ओ राक्छसिन ला ममादाई केहे लगिस अऊ ऊंहे रेहे लगिस। कुछ दिन बिते ले बिजयपाल हा पूछथे - कस ममादाई ये छै ठन आंखी हा टंगाय हे, तेन हा काखर ये? राक्छसिन हा कहिथे - ये हा एक झन राजा के तीन झन रानी मन के आय बेटा। तोर दाई हा ये आंखी ला निकलवा के इंहे भेजे हावय। ओखर ले फेर पूछिस - ये आंखी हा फेर कइसे लग जही ममादाई? राक्छसिन किहिस - एक जघा मा रोज नांवा - नांवा धान के खेत हावय ऊंहा रोज धान बोथें अऊ रोज धान लुथें। ओ धान के चाउर के पसिया मा ये आंखी ला चटका देय ले आंखी ले दिख जथे।
         अब का पूछबे। बिजयपाल हा ओ आंखी मन ला धर के ले लानिस अऊ धान के खेत मां पहुंचगे। खेत के पांच बाली ला टोर के धर लीस अऊ घर आगे। चार बाली ला कूट के भात रांधिस। ओखर पसिया मां अपन तीनों झन महतारी मन के आंखी ला चटका दिस। एक ठन बाली ला बो दिस। जब धान हा पाक के तियार हो गिस त लू के कूट - छर के रोज भात रांध - रांध के ओ मन ला खवाए लगिस।
        उंखर आंखी म दिखे लगिस। धीरे - धीरे ओखर खेती किसानी बाढ़ गे। नौकर - चाकर होगे। बड़े जनी घर घलो बना डारिस। एक दिन फेर अपन राक्छसिन ममादाई घर पहुंचिस। ओ हा राक्छसिन ममादाई घर एक ठन डंडा देखिस। डंडा के बारे मं पूछिस त ममादाई बतईस - ये हा अइसन डंडा आय बेटा, जेखर हांत मा ये डंडा रही तौन हा कतको ढोर - ढांगर अदमी ला अपन बस म कर सकत हे।
        बिजयपाल हा मऊका देख के ओ डंडा ला ले लानिस। घर आ के डंडा ला धर के बरदी के बरदी गाय, भईंस, बईला मन ला अपन घर ले लानिस। खेती - बारी मजदूरी करईया अउ ढोर चरईया कतको आदमी मन ला डंडा के बल म ले लानिस। अब ओखर कारोबार जोरदार चले लगिस।
        एक दिन एक झन राजा अईस। ओ हा अपन लड़की के बिहाव बिजयपाल से कर दिस। अपन राजपाठ तक ला दे दिस। बिजयपाल अब राजा बनगे। फेर सोचिस कि कहूं ओ राक्छसिन ला जनबा हो जही त मोला छोंड़य नहीं। तेखर ले उहू ल ठिकाना लगा देना चाही। ओ हा फेर राक्छसिन ममादाई करा पहुंचिस। दु ठन सेंदूर भरे के डबिया ला देख के पूछिस - कस ममादाई ये हा का के डबिया आय?
        राक्छसिन बतईस - बेटा एला झन छूबे। ये डबिया मां तोर दाई अऊ मोर जीव हे। डबिया ल खोलते साठ हम दूनों झन महतारी - बेटी मर जबो बेटा। एक दिन बिजयपाल हा कलेचुप ओ डबिया मन ला धर के ले लानिस। जइसे ओला खोलिस ओ राक्छसिन महतारी - बेटी मन मर गें। अब बिजयपाल अपन बाप मेर पहुंचिस। अपन परचय दिस। बाप - बेटा एक - दूसर ला पोटार के मिलीन। बाप के राजपाठ ह घलो बिजयपाल ला मिलगे। अब का पूछबे, ओखर दिन सोन के अउ रात चांदी के होगे।
कहिनी उरकगे मने -  मन येखर अरथ समझव। अंधरी के बेटा सहिक तुंहरो भाग जागे।
मौवहारी भाठा, महासमुन्‍द (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें