इस अंक के रचनाकार

इस अंक के रचनाकार आलेख : साहित्य में पर्यावरण चेतना : मोरे औदुंबर बबनराव,बहुजन अवधारणाः वर्तमान और भविष्य : प्रमोद रंजन,अंग्रेजी ने हमसे क्या छीना : अशोक व्यास,छत्तीसगढ़ के कृषि संस्कृति का पर्व : हरेली : हेमलाल सहारे,हरदासीपुर दक्षिणेश्वरी महाकाली : अंकुुर सिंह एवं निखिल सिंह, कहानी : सी.एच.बी. इंटरव्यू / वाढेकर रामेश्वर महादेव,बेहतर : मधुसूदन शर्मा,शीर्षक में कुछ नहीं रखा : राय नगीना मौर्य, छत्तीसगढ़ी कहानी : डूबकी कड़ही : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,नउकरी वाली बहू : प्रिया देवांगन’ प्रियू’, लघुकथा : निर्णय : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,कार ट्रेनर : नेतराम भारती, बाल कहानी : बादल और बच्चे : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’, गीत / ग़ज़ल / कविता : आफताब से मोहब्बत होगा (गजल) व्ही. व्ही. रमणा,भूल कर खुद को (गजल ) श्वेता गर्ग,जला कर ख्वाबों को (गजल ) प्रियंका सिंह, रिश्ते ऐसे ढल गए (गजल) : बलबिंदर बादल,दो ग़ज़लें : कृष्ण सुकुमार,बस भी कर ऐ जिन्दगी (गजल ) संदीप कुमार ’ बेपरवाह’, प्यार के मोती सजा कर (गजल) : महेन्द्र राठौर ,केशव शरण की कविताएं, राखी का त्यौहार (गीत) : नीरव,लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की नवगीत,अंकुर की रचनाएं ,ओ शिल्पी (कविता ) डॉ. अनिल कुमार परिहार,दिखाई दिये (गजल ) कृष्ण कांत बडोनी, कैलाश मनहर की ग़ज़लें,दो कविताएं : राजकुमार मसखरे,मंगलमाया (आधार छंद ) राजेन्द्र रायपुरी,उतर कर आसमान से (कविता) सरल कुमार वर्मा,दो ग़ज़लें : डॉ. मृदुल शर्मा, मैं और मेरी तन्हाई (गजल ) राखी देब,दो छत्तीसगढ़ी गीत : डॉ. पीसी लाल यादव,गम तो साथ ही है (गजल) : नीतू दाधिच व्यास, लुप्त होने लगी (गीत) : कमल सक्सेना,श्वेत पत्र (कविता ) बाज,.

मंगलवार, 10 नवंबर 2015

दो गजलें : इब्राहीम कुरैशी

1
कहाँ जा रहे हो, अकेले अकेले
हैं हम भी अकेेले, हमें भी साथ ले ले।
हैं एक ही मंजिल, तो साथ चलें हम
न मैं तुझसे आगे, न तू मुझसे पहले।
ये जगमग महफिल, ये दिलकश नज़ारे
छलते हैं लोगों को दुनियाँ के मेले।
जग में जब आया , तो मासूम था मैं
फिर मैं था तन्हा, और लाखों झमेले।
जीवन सभी को, कुछ ऐसे मिला है
भोगा किसी ने, किसी ने है झेले
मोहब्बत की कोई, हद तुम बता दो
कि जन्मे कहाँ, और कहाँ तक वो फैले।
जुल्म को जब भी, ललकारा मैंने
अक्सर कहा सबने, चुपचाप सहले।


हालात है खराब, खुदा खैर करे आज
उठने को है नकाब, खुदा खैर करे आज
जैसे भी कट गई, कल तक ये जिन्दगी
अब आएगा इंकिलाब, खुदा खैर करे आज
हर ओर उठ रहे हैं, सवालात बेशुमार
क्या देंगे वो जवाब, खुदा खैर करे आज
शोलों की दोस्ती का, कुछ ऐसा हुआ असर
शबनम बनी है आग, खुदा खैर करे आज
महफिल में सब मिले, अफसोस न मिल सके
कोई शर्म न हिज़ाब, खुदा खैर करे आज
दुनियां से मय के बादल, कुछ इस तरह उठे
अब बरसेगी बस शराब, खुदा खैर करे आज
लुटने का काम रहबर, अंजाम दे रहे हैं
और मुहाफिज बना कस्साब खुदा खैर करे आज
ऐ आवाम तूने उसको पैदा किया तो क्या
नेता तुझसे है नाराज़, खुदा खैर करे आज
उम्र भर सज्द़े किए, और इनाम की घड़ी में
मिलने को है अज़ाब, खुदा खैर करे आज
बड़े शौक से किए थेे, तेरी रहगुजर को रौशन
अब बुझ रहे चिराग,खुदा खैर करे आज

पता
स्टेशन रोड, महासमुन्द ( छ.ग.)
पिन : 493445 मो. 08982733227

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें