इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

शुक्रवार, 17 नवंबर 2017

हरिवंश राय बच्‍चन की रचना

1
इस पार, प्रिये, मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

यह चाँद उदित हो कर नभ में
कुछ ताप मिटाता जीवन का।
लहरा - लहरा यह शाखाएँ
कुछ शोक भुला देतीं मन का।
कल मुरझाने वाली कलियाँ
हँसकर कहती हैं मगन रहो।
बुलबुल तरु की फुनगी पर से
संदेश सुनाती यौवन का।
तुम दे कर मदिरा के प्याले
मेरा मन बहला देती हो।
उस पार मुझे बहलाने का
उपचार न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

2
जग में रस की नदियाँ बहतीं
रसना दो बूँदें पाती है।
जीवन की झिलमिल - सी झाँकी
नयनों के आगे आती है।
स्वरतालमयी वीणा बजती,
मिलती है बस झंकार मुझे।
मेरे सुमनों की गंध कहीं
यह वायु उड़ा ले जाती है।
ऐसा सुनता, उस पार, प्रिये,
ये साधन भी छिन जाएँगे।
तब मानव की चेतनता का
आधार न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

3
प्याला है पर पी पाएँगे,
है ज्ञात नहीं इतना हमको।
इस पार नियति ने भेजा है,
असमर्थ बना कितना हमको।
कहने वाले, पर कहते हैं,
हम कर्मों में स्वाधीन सदा।
करने वालों की परवशता
है ज्ञात किसे, जितनी हमको।
कह तो सकते हैं, कह कर ही
कुछ दिल हलका कर लेते हैं
उस पार अभागे मानव का
अधिकार न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

4
कुछ भी न किया था जब उसका,
उसने पथ में काँटे बोये।
वे भार दिए धर कंधों पर,
जो रो - रो कर हमने ढोए।
महलों के सपनों के भीतर
जर्जर खँडहर का सत्य भरा।
उर में ऐसी हलचल भर दी,
दो रात न हम सुख से सोए।
अब तो हम अपने जीवन भर
उस जरूर कठिन को कोस चुके।
उस पार नियति का मानव से
व्यवहार न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

5
संसृति के जीवन में, सुभगे
ऐसी भी घड़ियाँ आएँगी।
जब दिनकर की तमहर किरणें,
तम के अन्दर छिप जाएँगी।
जब निज प्रियतम का शव, रजनी
तम की चादर से ढक देगी।
तब रवि  शशि पोषित यह पृथ्वी
कितने दिन खैर मनाएगी!
जब इस लंबे - चौड़े जग का
अस्तित्व न रहने पायेगा।
तब हम दोनों का नन्हा - सा
संसार न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

6
ऐसा चिर पतझड़ आएगा
कोयल न कुहुक फिर पाएगी।
बुलबुल न अँधेरे में गा - गा
जीवन की ज्योति जगाएगी।
अगणित मृदु - नव पल्लव के स्वर
मरमर न सुने फिर जाएँगे,
अलि अवली कलि  दल पर गुंजन
करने के हेतु न आएगी।
जब इतनी रसमय ध्वनियों का
अवसान, प्रिये, हो जाएगा।
तब शुष्क हमारे कंठों का
उद्गार न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

7
सुन काल प्रबल का गुरु - गर्जन
निर्झरिणी भूलेगी नर्तन।
निर्झर भूलेगा निज टलमल
सरिता अपना कलकल गायन।
वह गायक - नायक सिन्धु कहीं,
चुप हो छिप जाना चाहेगा।
मुँह खोल खड़े रह जाएँगे
गंधर्व, अप्सरा, किन्नरगणय
संगीत सजीव हुआ जिनमें।
जब मौन वही हो जाएँगे,
तब प्राण तुम्हारी तंत्री का
जड़ तार न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

8
उतरे इन आँखों के आगे
जो हार चमेली ने पहने।
वह छीन रहा, देखो, माली,
सुकुमार लताओं के गहने।
दो दिन में खींची जाएगी
ऊषा की साड़ी सिन्दूरी।
पट इन्द्रधनुष का सतरंगा
पाएगा कितने दिन रहने।
जब मूर्तिमती सत्ताओं की
शोभा - सुषमा लुट जाएगी।
तब कवि के कल्पित स्वप्नों का
श्रृंगार न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा!

9
दृग देख जहाँ तक पाते हैं,
तम का सागर लहराता है।
फिर भी उस पार खड़ा कोई
हम सब को खींच बुलाता है।
मैं आज चला तुम आओगी
कल, परसों सब संगीसाथी।
दुनिया रोती- धोती रहती।
जिसको जाना है, जाता है,
मेरा तो होता मन डगडग,
तट पर ही के हलकोरों से!
जब मैं एकाकी पहुँचूँगा
मँझधार, न जाने क्या होगा!

इस पार, प्रिये मधु है तुम हो।
उस पार न जाने क्या होगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें