इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

मंगलवार, 12 फ़रवरी 2019

आइंदा अगस्त में आजादी नहीं लेंगे


कुबेर

सरकार ने मंत्रियों और अधिकारियों की आपात बैठक बुलाई है। समस्या आम है। मामूली है। पर भौंक-भौंककर लोगों ने नींद हराम किया हुआ है। बड़ी मजबूरी है। नींद के लिए भौंकनेवालों का भौंकना बंद करना जरूरी है। समस्या है - ’अस्पतालों में बच्चे थोक के भाव मर रहे हैं।’
मंत्री ने बैठक शुरू करते हुए प्रमुख सचिव से मामले का डिटेल पूछा। 
सचिव ने कहा - ’’सर! सरकारी अस्पताल में कुछ बच्चे मर गये हैं।’’
’’कब?’’
’’इसी महीने में।’’
’’मतलब?’’
’’अगस्त महीने में, सर।’’
’’कितने?’’
’’यही, कोई तीन-चार दर्जन।’’
’’तीन-चार दर्जन? बच्चों के माँ-बाप के कुछ डिटेल हैं?’’ 
’’गरीब थे।’’
’’गरीब थे?’’
’’हाँ सर, ये तो मरते ही रहते हैं। कोई बड़ी बात नहीं थी। लोगों ने बात का बतंगड़ बना रखा है।’’
’’हम भी जानते हैं। पर आप अपनी भाषा ठीक कीजिए। वरना फिर बतंगड़ बन जायेगा। समझा करो यार। मजबूरी है। अमीर-गरीब में फर्क नहीं कर सकते हम।’’ अधिकारी के जवाब से मंत्री महोदय कुछ विचलित से लगे। स्थिर होने के बाद कुछ सोचते हुए उन्होंने फिर कहा - ’’बच्चों का इलाज निजी अस्पतालों में क्यों नहीं कराया गया?’’ 
’’सर! उनके माँ-बाप गरीब थे।’’
’’ठीक है। पर बच्चे राष्ट्र की संपत्ति होते हैं। राष्ट्रीय संपत्ति की हिफाजत जरूरी है। अब से देशभर में किसी भी बच्चे का इलाज सरकारी अस्पतालों में नहीं होगा। डिलीवरी भी नहीं होगी। डिलीवरी और बच्चों का इलाज निजी अस्पतालों में ही होना चाहिए। आदेश जारी कीजिए।’’
’’सर! गरीब माँ-बाप इसे अफोर्ड नहीं कर सकेंगेे।’’
’’तो सरकारी खजाने से अफोर्ड कीजिए न। राष्ट्र की संपत्ति की सुरक्षा राजकोष से हो, इसमें आपत्ति क्या है?’’
’’यस सर।’’
’’और सुनिए। निजी अस्पतालवालों से इसके लिए डील तय कर लीजिए। अच्छे से। समझ गये न?’’
 ’’यस सर, हो जायेगा।’’
’’और सुनिए। क्या पिछली सरकारों के समय बच्चे नहीं मरते थे?’’
’’सर! मरते थे।’’
’’कब-कब मरे, किस-किस महीने में मरे। कुछ डिटेल है आपके पास।’’
’’यस सर। सब अगस्त के महीने में ही मरे हैं।’’
’’तो ये बात है। मतलब, ’अगस्त में तो बच्चे मरते ही है।’ ...... यार ये कैसा घांच-पांच है। बच्चे मरते हैं तो अगस्त में। बाढ़ आती है तो अगस्त में। बाढ़ में लोग मरते हैं तो अगस्त में। पुल, सड़कें और पटरियाँ बह जाती हैं तो अगस्त में। फसले बरबाद होती हैं तो अगस्त में। और हाँ, देश भी तो अगस्त में ही आजाद हुआ था न?’’ 
’’यस सर।’’ 
’’मतलब, इन सबका अगस्त के साथ जरूर कुछ न कुछ कनेक्शन है।’’ 
’’डेफिनिट सर।’’ 
’’तो ढूँढिए न कनेक्शन। देख क्या रहे हैं।’’  
’’सर, मिल गया। कनेक्शन मिल गया।’’
’’खाक मिल गया। हवाई बातों से काम नहीं बनेगा। इस अगस्त कनेक्शन का पता लगाना जरूरी है। जांच कमीशन बिठाइए। और तुरंत रिपोर्ट पेश कीजिए।’’

अगस्त कनेक्शन की जड़ों को ढूँढने के लिए तत्काल ’रूट रिसर्च आयोग’ का गठन किया गया। आयोग में देश हित में सोचनेवाले महान राष्ट्रवादियों, विचारकों और चिंतकों को शामिल किया गया। समस्या की गंभीरता को देखते हुए आयोग ने पूर्ण सहयोगात्मक भाव से दिन-रात एक करके काम किया। दिन-दिनभर पसीना बहाया। रात-रातभर यौगिक साधनाएँ की। देखते-देखते आबंटन का सफाया हो गया। फिर आबंटन मिला। फिर सफाया हो गया। आबंटन मिलते रहे और सफाया होते रहे। आयोग आबंटन से तृप्त होने का प्रयास करता रहा। पर जन्मों की अतृप्त आत्माओं को तृप्ति कैसे  मिलती? डकारों की बौछारे शुरू हो गई। पर तृप्ति मिलती नहीं थी। डकार की आवाजें बाहरवाले न सुन लें इसके लिए विशेष सायलेंसर लगाये गये थे। सायलेंसर की भी बर्दास्त की सीमा होती है। यह सीमा भी जाती रही। बड़ी मजबूरी में आयोग ने सिफारिशें पेश की। सिफारिशों में कहा गया था - 
- देश और अगस्त महीने की कुंडली का मिलान करके देखा गया। हर जगह काल बैठा मिला। अकाल और अकस्मात घटनेवाली घटनाओं के मूल में ये काल ही हैं। काल दोष निवारण हेतु घटना स्थलों पर अविलंब सतत् सालभर तक चलनेवाले धार्मिक अनुष्ठानों को शुरू किया जाना उचित होगा। 
- अगस्त महीने का ’अ’ बड़ा ही अशुभ, अमंलकारी और अनिष्टकारी है। यह असत्य, अहंकार, अकाल और आसुरी शक्तियों का प्रतीक है। देश के समस्त कैलेण्डरों से इस महीने को विलोपित कर देना चाहिए। परंतु ऐसा करना एक क्रांतिकारी कदम होगा। क्रांतिकारी कदम उठाना इस देश की परंपरा में नहीं है। इससेे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समस्याएँ पैदा हो सकती हैं। अतः व्यावहारिक रास्ता अपनाते हुए अगस्त के ’अ’ को ’स’ से विस्थापित कर इस महीने का नाम ’संघस्त’ कर दिया जाना उचित होगा। ’स’ सत्य, शुभ, सुमंगल और शक्ति का प्रतीक है। यह संगठन और संघ शक्ति का भी प्रतीक है।
- देश को अगस्त में ही आजादी मिली थी। आजादी के बाद से ही देश तरह-तरह की समस्याओं से घिरा हुआ है। अनैतिक और भ्रष्ट प्रवृत्तियाँ लोगों की मानसिकता में समाई हुई हैं। इन सबके मूल में भी यही, अगस्त का महीना है। इससे सीख ग्रहण करते हुए ’आइंदा अगस्त महीने में आजादी नहीं लेंगे’ ऐसा संकल्प पारित करना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें