इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

मंगलवार, 14 मई 2019

गोमती

भोलाराम सिन्हा गुरुजी

सोनसाय अपन गांव के बड़का किसान आय। एखर कन सब्बो खार म खेत अउ बोर रिहिस । बड़ घमंडी, घुस्सेलहा,कपटी रिहिस। नान नान बात म नानहे किसान मन बर भड़क जाय। भड़के त ओखर आँखी लाल लाल हो जाय, कर्रा - कर्रा मेछा ल अइड़त रेंगय। नौकर चाकर, बड़े- बड़े घर राहय। गॉव म कोनो किसान सोनसाय ल पूछे बिना काम नई कर सकय। कर्जा बोड़ी म गांव के नानहे किसान मन बोजावत रिहिस। समारू बड़ मेहनत करइयां गुणी नानहे किसान आय। ओखर खेत ह सोनसाय के खेत कना हावय। सोनसाय ह समारू ले बड़ जलय काबर कि ओह किसानी काम ल सुघ्घर करय। एको एको बछर एकात पानी टोर दे, त सोनसाय के भाग जाग जाय।
यहू बछर एक पानी टोर दे हे। मेछा अइठत पान खावत सोंचत हावय - अब नानहे किसान मन मोर कन ले पानी मागही।
समारू मुधरहा ले उठ जाय संगे संग ओखर बेटी गोमती तको उठय।
समारू अपन बेटी ल किहिस - बेटी गोमती झटकुन चाय बनादे, चाय पी के सोनसाय कना जाहू।
गोमती चाय बना के अपन ददा ल दिस।
- एक पानी पलोय ल लागही का ददा। गोमती किहिस।
- हव बेटी, सोनसाय कना जाथौं पानी मांगे बर।
टीबी म गाना देखत सोनसाय ह चाय पियत झुमत अपनो गात हवे।
- सोनसाय घर म हावस का जी। समारू चिल्लाइस।
- मोला कोन चिल्लावत हावय रे जा तो देख, सोनसाय अपन नौकर ल किहिस।
- समारू हरे मालिक। नौकर बताइस।
- ओला बैठक खोली म बैठार रे। सोनसाय किहिस
समारू बैठक खोली म गुणत रहय, कि यहू बछर एक पानी टोर दे हे,ये बछर मोला सोनसाय पानी दिही की नई दिही,के पानी लागही मोला।
- का सोचत हस समारू, काबर आहस तेला झटकुन बता,मोर कन अड़बड़  बुता काम हावय। सोनसाय किहिस।
पानी मांगे बर आ हो जी,खेत म एक पानी पलोय ल लागही,तेहां एक पानी पलो देबे त मोर धान ह सोला आना हो जही। समारू किहिस।
सोनसाय मेछरावत किहिस  - पानी पलोय बर  पलोहू फेर एकड़ पाछू चार हजार रूपया लुहू।
- अरे ददा रे, समारू किहिस, मन म।
- गांव म ठेका ले के पलोय के किमत चार हजार चलत हावय ओखर हिसाब से एक पानी के पइसा जादा ले जादा चार, पाँच सौ रुपया होही जी सोनसाय।
- त तोला पानी नई पलोना हे। सोनसाय किहिस।
मरइया का नई करय,आंसू डबडबाय समारू राजी हो जथे।
गोमती पढ़ई लिखई म होसियार राहय। हर बछर अपन कक्षा म पहली नम्बर ले पास होवय।
समारू अपन बेटी गोमती ल पानी पलोय के दाम ल बताइस त गोमती दंग रहीगे। उही दिन ले प्रण करथे कि मेह ये गांव म नहर लाय के उदिम करहूं।
गोमती बी. ए. म पूरा कालेज म पहली आहस। गांव भर म गोमती के सोर होगे।
गोमती अब दुख ल धर के नहर लाय के उदिम म लग जथे। बार बार कलेक्टर कन आवेदन देवय, फेर आवदेन के सुनवाई नई होय। नेतागिरी करके सोनसाय आवेदन ल दबवा दे।
गोमती तभो ले हिम्मत नई हारिस। केहे गेहे न कि घुरवा के दिन तको बहुरथे। नवा कलेक्टर मैडम आइस, वोहर इमानदार रिहिस,सासन के योजना ल पूरा करे के उदिम करय ओखर ले नेतागिरी कोसो दूर भागे।
गोमती के आवेदन ल देखिस अउ नहर बनाय बर सरवे करे के अधिकारी मन ल आदेस दिस।
सोनसाय नेतागिरी करे के उदिम करिस फेर नवा कलेक्टर कर काम नई आइस।
सोनसाय अब गांव के छोटे छोटे किसान मन ल भड़काय के चालू कर दिस कि तोर खेत हर नहर नाली म निकल जही त तेहर कामे खेती बाड़ी करबे जी।
सोनसाय कोती अड़बड़ अकन छोटे किसान मन खड़ाहोगे अपन कोती खड़ा होत देख के मेछा ल अइठन लागिस।
संजू कथे - हमर गांव म नहर नई चाहि। नहर बनाही त हमर गांव के कतको खेत, नाली म निकल जाही। बिहान दिन गोमती बुगरु, बबा के चौरा म सब्बो किसान मन ल बलाइस अउ समझाइस कि जेन कोती सरवे होय हावय ओ कोती सबले जादा खेत तो सोनसाय के हावय। इहां नहर झन बने कहि के तुमन ल भड़कात हावय। तुमन बने सोचो हर बछर एक, पानी टोरथे ताहन सोनसाय एकड़ पाछू चार हजार रुपया लेथे।
शासन ह हमर जमीन के मुआवजा तको दिही।
का पूरा जीवन ल गरीबी में बिताना हे।
संजू किहिस मेहर अपन खेत म नहर नाली दे बर राजी हाबौ।
संजू के संगे संग सब्बो किसान राजी हो जथे।
सब्बो किसान के गोठ ल सुन के गोमती कांध मलकाय लागिस।
थोड़िक दिन म नहर बनगे गांव म खुसहाली छागे। सोनसाय के अकड़ टूटगे।
समारू किहिस गोमती असन बेटी एहर गांव म जनम धरे।

भोला राम सिन्हा गुरुजी
ग्राम डाभा एपो0 करेली छोटी
मगरलोड जिला धमतरी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें