इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

मंगलवार, 14 मई 2019

मजबूरी

सीमा जैन 

मंदिर में बहुत भव्य आयोजन हो रहा था। नये मंदिर का निर्माण हुआ था। सब ने दिल खोलकर दान दिया था। सच पूछो तो मुझे समझ नहीं आता पहले ही इतने मंदिर हैं। उनके रखरखाव ठीक से होते नहीं और नये मंदिरों का निर्माण करना क्यों आवश्यक है। खैर मम्मी जी ने एक लाख दान दिए थे और उनका मान - सम्मान हो रहा था स्टेज पर। उनकी इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए हमें भोपाल से गाजियाबाद बुलाया गया था। बच्चों की परीक्षा अगले हफ्ते से हैं। एक - एक पैसे को बहुत ध्यान से खर्च करने वाले, हम पर कितना अतिरिक्त बोझ पड़ रहा है इस यात्रा से, इसका उन्हें कोई अंदाजा नहीं। कहीं ना कहीं मुझे लगता है यह सब भक्ति वश नहीं किया गया बल्कि इस सम्मान की इच्छा से किया गया है। कल तक तो बिस्तर पर पड़ी थी और आज नई साड़ी में स्टेज पर खड़ी कितनी प्रसन्न हो रही हैं। शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता। मैं शादी के बाद पंद्रह साल मम्मी जी, पिताजी के साथ गाजियाबाद रह चुकी हूं। तब रमेश जी की पोस्टिंग यहीं थी, बहुत कम तनख्वाह मिलती है इनको इसलिए उस समय घर खर्चा मम्मी जी पिताजी चलाते थे। दोनों की नौकरी अच्छी थी। मैं नौकरी करना चाहती थी लेकिन मम्मी जी ने साफ  इंकार कर दिया - नहीं बहू ,घर का काम तुम संभालो, कमाने के लिए हम बहुत हैं।
इसका मुझे बहुत खामियाजा चुकाना पड़ा। घर के सारे काम धीरे - धीरे मेरे ऊपर लाद दिए, जो भी काम वाली लगा रखी थी सब निकाल दी। क्या जरूरत है कहकर। इस बीच दो बच्चों को भी जन्म दिया। बस पंद्रह दिन की छुट्टी लेकर मम्मी जी ने अपना कर्तव्य निभा दिया। उनकी धौंस और ताने सब सहने पड़ते, मजबूरी ऐसी थी। मजबूरी से बड़ा दुश्मन इंसान का कोई नहीं होता।
पंद्रह साल बाद रमेश जी का तबादला भोपाल हो गया। मम्मी जी चाहती थी, मैं बच्चों के साथ उनके पास गाजियाबाद में ही रहूं। पहली बार जिंदगी में मैं उनकी बात नहीं मान सकीं। रमेश जी की तबीयत ठीक नहीं रहती थी, उन्हें अकेला छोड़ना ठीक नहीं होता। बहुत कलेश किया मम्मी जी ने। लेकिन पति के लिए पहली बार चट्टान के समान खड़ा होना पड़ा। उनके ही अभिभावकों के सामने। बहुत गुस्सा हुई, एक साल तक बात नहीं की मम्मी जी ने। फिर भोपाल आईं हमारे घर कुछ दिन रहने। घर देखते ही मुंह बना कर बोली - क्या बेकार से घर में रह रहे हो। महाराजाओं की तरह रख रखा था, लेकिन कुछ लोग को अमीरी रास नहीं आती। अच्छा यह बताओ यहां घूमने के क्या स्थान है।
सरकारी आवास था बहुत निम्न स्तर का था। लेकिन हम शुक्रगुजार थे। सिर पर छत तो थी। धीरे - धीरे सामान भी इक्ट्ठा कर रहे थे। बच्चों की पढ़ाई का भी पूरा खर्चा था।
यहां पानी और साबुन से पता नहीं किस से एलर्जी हो गई हाथों में मेरे। डॉक्टर ने कहा- कम से कम पानी में हाथ डालो। दोनों बच्चे बड़े हो रहे हैं, समझदार भी हैं। काम बांट लिये। अपने - अपने कपड़े और खाने के बर्तन वे स्वयं धोने लगे। ऐसे ही पतिदेव भी जितने कामों में हाथ बटा सकते थे, मदद करते। कपड़े धोने की मशीन भी सोच रहे थे, खरीद लेंगे। अब मम्मी जी ने इस स्थिति पर भी बवाल मचा दिया। उन्होंने बड़बड़ाना शुरू कर दिया - पांच दिन के लिए क्या आई हूं , एक दिन का सुख नसीब नहीं बेटे के पास। कभी जिंदगी में कपड़े नहीं धोए, स्वयं यहां कपड़े और बर्तन भी धोओं।
मैंने प्रेम से कहा - नहीं मम्मी जी, पांच दिन की बात है। आप परेशान मत हो। मैं आपके और पिताजी के कपड़े और बर्तन धो दिया करूंगी। वे मुंह बनाकर बोली- मशीन क्यों नहीं ले लेते हो।
मैंने कहा - बस थोड़ी स्थिति संभल जाए फिर देखते हैं।
बाद में पिताजी की कमरे से फुसफुसाने की आवाज आ रही थी- दिला देते हैं मशीन, बेकार बच्चे परेशान हो रहे हैं। यहां आए हैं तो कुछ देकर भी तो जाना चाहिए हमें। मम्मी जी गुस्से में बोली - तुम्हारा तो दिमाग खराब हो गया है, बहुत अकड़ दिखा कर आए थे। हो सकता है अकल ठिकाने आ जाए, तो वापस आ जाएंगे। और बहू की आदत मत खराब करो। एक बार कुछ देकर जाएंगे। हर बार उम्मीद लगा कर बैठी रहेगी।
मशीन तो खैर हमने उधार पर तीन महीने बाद ले ली और मैंने एक छोटी सी नौकरी भी कर ली। धन्ना सेठ तो नहीं हो गए लेकिन घर खर्चे में कुछ आराम मिल गया। मम्मी जी का आदेश आया था तुरंत टिकट करा कर गाजियाबाद आओ। इतना बड़ा सम्मान मिल रहा है। परिवार के सब सदस्यों का होना आवश्यक है। सम्मानित होकर मम्मी जी मेरे पास आकर बैठ गई और बड़े शान से बोली - देखा समाज में कितनी इज्जत मिल रही है हमको? हमने निश्चय किया है अब अपने ऊपर खर्च करेंगे। अपने शौक पूरे करेंगे। आखिर तुम लोगों पर लुटा कर हमें मिलना क्या है। हमारे मरने के बाद तो तुमको सब मिल ही जाएगा।
समझ नहीं आता इस औरत का मान मैं अपने दिल से कैसे करूं? मैंने अपना चेहरा अपने बच्चों की तरह मोड़ लिया। वे हंस हंस कर अपने हमउम्र बच्चों के साथ बतिया रहे थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें