इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

मंगलवार, 20 अगस्त 2019

असमानता के विरुद्ध अघोषित युद्ध है ’तो सुनो’

समीक्षक : नरेन्द्र वाल्मीकि ( पीएचडी शोधार्थी  )
 
                    पुस्तक -तो सुनो (काव्य संग्रह )
                    रचनाकार - शिव कुशवाहा
                   प्रकाशक - रश्मि प्रकाशन, लखनऊ।
                   पृष्ट संख्या -103,मूल्य. 150


         जो समाज अपने इतिहास को नही जानता हैं, जो समाज अपने इतिहास को भूल गया है, वह समाज अपनी आने वाली पीढ़ियों को अँधेरे की ओर ले जा रहा है। अपने लिए खुद ही खाई खोदने का कार्य कर रहा है। आज हमे अपने गौरवशाली इतिहास को जानने की, लिखने की एवं प्रचारित करने की बहुत आवश्यकता है। इस कार्य को हमारे सुधि विद्वान लोगो ने ही आगे बढ़ाना है। माध्यम कुछ भी हो सकता है। चाहे आप लेख लिखो, चाहे कविता के माध्यम से आमजन तक पहुँचाओ। इस कार्य को आज कवि शिव कुशवाहा जी अपनी लेखनी से बखूबी अंजाम दे रहे हैं। हाल ही में उनका काव्य संग्रह ’ तो सुनो’ रश्मि प्रकाशन, लखनऊ से प्रकाशित हुआ है। इस पुस्तक में आपको उनकी भावनाओं को पढ़ने को मौका मिलेगा। शिव कुशवाहा जी अपने इतिहास को लेकर बहुत सजग हैं। वह अपने आने वाली पीढ़ी को सचेत करना चाहते हैं कि उन मक्कार लोगो से सावधान रहो, जो आपके अतीत को ही बदलना चाहते हैं। जो आपकी प्रेरणा स्रोत विरासतों को धूमिल करना चाहते हैं।
          इसका उन्होंने अपनी रचना ’ पुरखों का वजूद’  में बहुत ही अच्छे से चित्रण किया है।
जब तुम खोजोगे
अपने पुरखों का वजूद
इतिहास के अंकित पन्नों में
तब तुम पाओगें
अपने पुरखों को इस
इतिहास से गायब ...।
        कवि उन विक्षिप्त मानसिकता वाले लोगों पर कड़ा प्रहार कर रहे हैं, जो आज विज्ञान को ना मानकर धर्मान्धता की ओर आकर्षित हैं। जो तर्क पर विश्वास नहीं करते हैं। जो उनके कहने पर सर झुकाये खड़े हैं, पत्थर की बनी मूर्तियों के समक्ष, जो उनसे कही कम योग्यता रखते हैं। जब बात - बात में आप योग्यता की बात करते हैं, तब क्यो सवाल नही उठाते हो, जब आपसे कम योग्य व्यक्ति आपका भविष्य बताता है और आप आँख बंद करके मान भी लेते हो। तब क्यूँ बोलती बंद हो जाती हैं आपकी। आप मानवता में क्यूँ विश्वास नहीं करते हो, क्या इसके पीछे आपको अपनी पुरानी गूढ़ व्यवस्था खो जाने का डर हैं? इन्ही सवालों को उठा रहे हैं कवि शिव कुशवाहा जी अपनी रचना ’ नव विहान’ में -
गहरे अँधेरे
अदृश्य पथों पर
असंख्य लोग कतारबद्ध चले जा रहे
गहरी खाई की ओर
वीक्षिप्त मनोदशा से पीड़ित
जंग लग चुकी बुद्धि को
या रख दिया है गिरवी
विज्ञान और तर्क से दूर
जो अब बन चुके हैं मानसिक गुलाम।
        शिव कुशवाहा जी तानाशाही ताकतों एवं धर्म के नाम पर मानवीय संवेदनाओं का तहस नहस करने वाले उन नपुंसक दरिदों के अमानवीय कार्यो पर भी अपनी रचनाओं के माध्यम से प्रकाश डाल रहे हैं और देश के जिम्मेदार नागरिकों को उनकी सोच और उनके खोखले षडयंत्रो से सचेत कर रहे हैं-
वे
फिर से
छीनना चाहते हैं
हमारी अभिव्यक्ति का
संवैधानिक अधिकार
शेर की खाल में
भेड़िया बनकर
खा जाना चाहतें हैं
हमारा निवाला
छदम राष्ट्रवाद का
झंड़ा उठाये
अहिंसा में
आकंठ डूबें
बढ़ रहे हैं
हमारी तरफ।
        वही दूसरी तरफ  शिव कुशवाहा जी ने अपने काव्य संग्रह ’ तो सुनो’ में हमारे महापुरुषों के कार्यो का यशोगान भी अपनी रचनाओं के द्वारा किया हैं। महात्मा ज्योतिबा फुले को समर्पित रचना ’ हे क्रांतिज्योति’ तथा ’ संत रविदास जी’ को समर्पित रचना बहुत ही महत्वपूर्ण है। जिसमें कवि ने महापुरुषों के सामाजिक जनजागरण के लिए किये गये कार्यों का चित्रण किया है।
        शिव कुशवाहा जी अपने काव्य संग्रह ’ तो सुनो’ में दलितों में सबसे पिछड़े वाल्मीकि समाज यानी सफाई कामगार समुदाय के लोगो की चिंता अपनी रचना ’ अछूत’ में करते हैं। कवि कहते है कि सफाई कामगार समुदाय महर्षि वाल्मीकि को अपने कुल गुरु के रूप में पूजते हैं। उनकी शिक्षाओ का अनुसरण करते हैं, मगर आज सबसे ज्यादा छुआछुत इसी समुदाय से होती हैं। इस समुदाय के आराध्य वाल्मीकि जी से वे लोग दूरी बनाते हैं, जो रामायण को अपना महान ग्रन्थ मानते हैं। ऐसा दोहरा मापदंड कैसे चलेगा? जिसने रामायण लिखी वो अश्पृश्य मान लिया गया। इन दोहरी नीति वालो के द्वारा। कवि सवाल उठाते हुए लिखता है -
हे महर्षि वाल्मीकि
आज के परिदृश्य में
देखता हूँ
आपके वंशजों को
जिन्हें धर्म नियंताओ ने
बना दिया अछूत
जिन्हें आज का समाज
देखता है हेयदृष्टि से ...
        हमारा देश एक कृषि प्रधान देश हैं, यहाँ पर लगभग 68 फीसदी जनता कृषि क्षेत्र से जुड़ी हुई हैं। देश की अर्थव्यवस्था में कृषि की एक महत्वपूर्ण भूमिका है।
        परन्तु आज सबसे ज्यादा शोषण किसान का हो रहा है। देश में किसान की स्थिति बहुत ही नाजुक बनी हुई हैं। उसे उसकी उपज का वाजिब दाम नही मिल रहा है। जिसकी वजह से वह बैंको से कर्ज लेने को मजबूर हैं। कर्ज को समय से ना चुका पाने के कारण, वह अन्य कदम उठा रहा है। आत्महत्या उनमें से सबसे बड़ा कदम है, जो पूरे के पूरे परिवार को तोड़ देता हैं। सत्ता के नशे में चूर नीति निर्माता उनकी ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। धरती पुत्रो के इसी दर्द को कवि ने अपनी रचना ’ ज्वालामुखीे’ में बखूबी रखा है-
झुंड के झुंड बनाये
हाथों में लिए हाथ
एक साथ
सड़को पर उतर आये लोगों के
माथे पर चमचमाती पसीने की बूंदें
माँगती हैं अब अपना हिसाब
भर गया
फौलादी जुनून
नसों में उबाल मारता लहू
अब नहीं सह सकता
सत्ता का दोगलापन
नहीं मिला धरती के
पालनहारों को
उनकी उम्मीदों का हक
वे हाशिये पर
कराहते
लड़खड़ाते
उठ खड़े हुए हैं
सत्ता से टकराने।
         कवि शिव कुशवाहा जी असहाय, साधनहीन, सामाजिक अधिकारों से वंचित लोगों को अपनी रचना ’ क्रांति का बिगुल’ के द्वारा प्रेरित करते हैं। उन्हें बताना चाहते हैं कि अपने हकों के लिए आपको खुद ही संघर्ष करना पड़ेगा। अन्य कोई आपके लिए नही लड़ेगा। कवि आह्वान करता है कि मेरे हाशिये के लोगों एक होकर, मजबूती से इन सामंतवादी ताकतों से लड़ो। इसका वर्णन कवि अपनी रचना में इस प्रकार करता है -
जब एक निरीह पक्षी को
घेर लेता हैं बाज
और
दबोच लेता हैं
अपने खूनी पंजो में
तब
पक्षी का हौसला ही
कराता है
बाज से मुक्त...
जब समाज में
बढ़ जाते हैं अत्याचार
कराह उठता है जनजीवन
तब
हाशिये पर खड़े लोग ही
करते हैं विद्रोह
फूँक देते हैं
क्रांति का बिगुल ...
        शिव कुशवाहा जी के इस काव्य संग्रह की अनेको रचनाएँ बहुत ही महत्वपूर्ण है, जो हाशिये के समाज की पीड़ा को उठाती हैं, वही उनकी रचनाएँ असमानता के विरुद्ध अघोषित युद्ध का भी बिगुल बजाती हैं। शिव कुशवाहा जी वर्तमान राजनीतिक दशा और दिशा पर भी अपनी रचनाओं के द्वारा प्रकाश डालते हैं, वहीं वे उन लोगों के लिए फिक्रमंद है, जो अभी तक मानव होने के अधिकारों से भी वंचित हैं।
अपने देश के
वे लोग हैं
सदियों से जिनके साथ
होता रहा अन्याय
अपने देश के
वे कौन लोग हैं
जिन्हें सदियों से
रखा गया है वंचित
अपने देश के
वे कौन लोग हैं
षडयंत्रो के जाल के मुहाने पर
खड़े हैं हाशिये पर
अपने देश के
वे कौन लोग हैं
जो जानवर से बदतर
जीवन जीने को हैं मजबूर ...।
        कवि शिव कुशवाहा जी अपनी लेखनी से वंचितों, मजदूरों, स्ति्रयों, असमानता के शिकार, ऊँच नीच के नाग द्वारा डसे गए लोगो के दर्द को बयां कर रहे हैं तथा करते रहने की भी कसम खा रहे हैं और अपने समकालीन एवं नवांगतुक कवियों को भी इनके दर्द एवं सचाई को लिखने के लिए प्रेरित कर रहे हैं -
ओ कवि !
कूद जाओ
संसार के महासमर में
लड़ो अघोषित युद्ध
तुम्हारी कलम की मसि
बन जाये
धधकता हुआ लावा ...
        अंत में मैं बड़े भाई कवि एवं समीक्षक श्री शिव कुशवाहा जी को उनके काव्य संग्रह ’ तो सुनो’ के सफल प्रकाशन पर हार्दिक बधाई देता हूँ और आशा करता हूँ कि आप निरन्तर अपनी लेखनी के द्वारा गरीब, मज़लूम, स्ति्रयों की समस्याओं को आमजन तक पहुँचाते रहेगें। 

संपर्क सूत्र : 09720866612

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें