इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

शुक्रवार, 23 अगस्त 2019

ईमानदारी का ईनाम

कल्‍पना  कुशवाहा


एक गाँव में कृष्णा नामक व्यक्ति रहता था। वह बहुत गरीब था। वह कम पढ़ा लिखा था और गाँव के ही सेठ जी के अनाज के गोदाम में हिसाब - किताब का काम किया करता था। उसके घर में उसकी पत्नी विमला दो बच्चे नन्दू और नन्दिनी थे। नन्दिनी दो साल की और नन्दू छह साल का था, जो गाँव के ही एक विद्यालय में दूसरी कक्षा में पढ़ता था। कृष्णा का बड़ा अरमान था कि वो अपने दोनों बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाकर बेटे को बड़ा अफसर और बेटी को डॉक्टर बनाएगा मगर उसका गुजारा बड़ी मुश्किल से होता था।
कृष्णा की पत्नी इस बात से हमेशा उदास रहती थी।
एक दिन उसने कृष्णा से कहा - अजी कब तक ऐसे ही चलेगा? आप कुछ करते क्यों नहीं?
कृष्णा ने कहा - मैं और क्या करूँ? जितना जो बन पड़ता है, सब करता हूँ फिर भी पूरा ही नही पड़ता।
- अरे सेठजी से कर्ज़ ही ले लीजिये या फिर मदद माँग लीजिये। देखिए, अपने पड़ोसी रामू को आपके साथ काम करता था आज उसके दो बीघे खेत हैं। और हमारे पास क्या है?
- अरे भाग्यवान, कर्ज लेना भी चाहें तो कौन देगा? हमारे पास कुछ गिरवी रखने को भी तो नहीं है। और वो दो महीने की सजा भी तो काट के आया है जेल में, हेराफेरी के चक्कर में। देखो भाग्यवान, हमें ईमानदारी से अपना काम करना चाहिए और जो है उसी में खुश रहना चाहिए बाकी सब भगवान पर छोड़ देना चाहिए।
- भगवान पर छोड़ दो, ईमानदार रहो, घर में चाहे बच्चे भूख से मर जाएँ। कहते कहते विमला आँखों में आँसू लिए घर के बाहर चली गयी।
नन्दू ने पूछा - पिताजी, ये ईमानदारी क्या होती है?
कृष्णा ने उसे अपनी गोद में बिठाकर कहा - हमें अपना हर काम सही से करना चाहिए। किसी से बगैर पूछे उसकी चीज नहीं लेनी चाहिए। झूठ नहीं बोलना चाहिए। बेईमानी नहीं करनी चाहिए। कभी रिश्वत नहीं लेनी चाहिए। चाहे कितनी भी बड़ी समस्या हो हमें हमेशा ईमानदार रहना चाहिए।
नन्दू ने कहा - अच्छा पिताजी।
कृष्णा ने कहा - हाँ अब जाओ और जाकर खेलो।
कृष्णा के गाँव बगल के गाँव के एक मास्टर जिनका नाम दीनानाथ था। उनकी गाँव में काफी जमीन जायदाद थी मगर फिर भी उन्होंने अपना काम नहीं छोड़ा था वो रोज विद्यालय के बाद साइकिल से उसके गाँव के विद्यालय में पढ़ाने के बाद साहूकार के घर बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने आते थे।
नन्दू हर रोज आते - जाते उनको नमस्ते किया करता था। मास्टर जी भी नन्दू को आशीर्वाद देकर चले जाते।
आज भी ठीक वैसा ही हुआ मास्टर जी अभी कुछ दूर ही पहुंचे थे कि उनकी जेब से एक लिफाफा नीचे गिर गया। नन्दू जोर से बोला - मास्टर जी आपकी जेब से कुछ नीचे गिर गया।
जो कि मास्टर जी को सुनाई नहीं दिया और वो साइकिल लेकर आगे बढ़ गए। नन्दू दौड़कर गया और वो लिफाफा उठाया। मास्टर जी अभी भी उसे दिखाई दे रहे थे।
वो उनके पीछे चिल्लाते हुए दौड़ने लगा और रास्तेभर चिल्लाता रहा, मगर मास्टर जी ने उसकी आवाज नहीं सुनी।
रास्ते में मास्टर जी एक चाय की दुकान पर चाय पीने के लिए रुके कुछ ही देर में नन्दू दुकान पर पहुंच गया और हांफते हुए बोला - मास्टर जी! मास्टर जी ये आपकी जेब से नीचे गिर गया था। मैंने बहुत आवाज लगाई मगर आपने सुनी नहीं इसलिए मैं दौड़कर आपको ये देने के लिए आया हूँ।
मास्टर जी ने नन्दू के हाथ से लिफाफा लिया और नन्दू को अपने पास बिठाया। उसे पानी पिलाया और उसके लिए कचौड़ी भी मंगाई मगर नन्दू ने खाने से इंकार कर दिया और कहा - मुझे घर छोड़ दीजिए मैं घर नहीं जा पाऊंगा।
मास्टर जी ने उससे पूछा - नन्दू मैं तो रोज तुम्हारे घर के सामने से निकलता हूँ, तुम ये लिफाफा कल भी तो मुझे दे सकते थे। उतनी दूर से यहाँ तक दौड़कर आने की क्या जरूरत थी।
नन्दू ने बड़ी ही मासूमियत से उत्तर दिया - मास्टर जी, ये आपका था इसे मैं कैसे रख सकता था। पिताजी ने कहा था दूसरे की चीज कभी नहीं लेनी चाहिए और कैसी भी स्थिति हो हमें हमेशा ईमानदार रहना चाहिए।
मास्टर जी ने नन्दू की बातें सुनकर उसे शाबाशी दी और अपनी साइकिल पर बिठाकर वापिस उसके घर ले गए। नन्दू के माता - पिता बहुत परेशान थे उन्होंने नन्दू को देखा तो कृष्णा ने झट से उसे अपनी गोद में उठा लिया और कहा - कहाँ चला गया था तू और मास्टर जी आप यहाँ।
नन्दू ने उन्हें सारी बात बताई फिर मास्टर जी बोले वाह भाई कृष्णा, तुम्हारा बेटा नन्दू तो बहुत ही होशियार और ईमानदार है। उन्होंने कुछ पैसे कृष्णा को देते हुए कहा - मैं तुम्हारी समस्याओं से वाकिफ  हूँ। तुम चाहो तो मेरे यहाँ नौकरी कर सकते हो।
कृष्णा ने कहा - अरे नहीं मास्टर जी इन पैसों की कोई जरूरत नहीं है। मैं कल से ही काम पर आ जाऊंगा।
मास्टर जी ने कहा - रख लो, और मेरे बेटे का शहर में विद्यालय है तुम्हारे दोनों बच्चे अपनी प्राथमिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद वहीं पढ़ेंगे अगर तुम्हें कोई आपत्ति न हो तो।
कृष्णा ने कहा - आपकी बहुत दया होगी मास्टर साहब, आप बड़े दयालु हैं। हमें कोई आपत्ति नहीं है।
विमला बोली - मास्टर साहब, हम आपका ये अहसान मरते दम तक नही भूलेंगे।
- नहीं - नहीं बेटी, ये अहसान नहीं। ये नन्दू की ईमानदारी का इनाम है। इतना कहकर मास्टर साहब अपनी साइकिल से अपने गाँव की तरफ चल पड़े।
- आप सही कहते थे जी ईमानदारी कभी नही छोड़नी चाहिए। विमला ने कहा।
तभी नन्दू बोल पड़ा - पिताजी आपने ये नहीं बताया था कि ईमानदारी का इनाम भी मिलता है।
कृष्णा ने हँसते हुए कहा - मिलता है बेटा, मिलता है। ईमानदारी का इनाम मिलता है। जैसे आज तुम्हें मिला ईमानदारी का दामन कभी ना छोड़ना कहते हुए कृष्णा ने नन्दू को गले से लगा लिया।
पुरवा, उन्‍नाव ( उत्‍तरप्रदेश )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें