इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

बुधवार, 27 नवंबर 2019

विष्णु के चौथे अवतार : भगवान नृसिंह

पृथ्वीसिंह बैनीपाल बिश्नोई

     भगवान विष्णु ने समय - समय पर पाप का नाश कर पुनः धर्म की स्थापना की । समय - समय पर अवतार और रूप धारण कर इस धरा पर आए। श्री हरि विष्णु अवतार गुरु - जम्भेश्वर भगवान ने अपनी कालजयी अमरवाणी के सबद संख्या 94 में अवतारो का वर्णन करते हुए चौथे अवतार के बारे में कहते हैं ’ नृसिंह रुप धर हिरणाकुश मारयो,प्रह्लादो रहियो शरण हमारी। अर्थात सतयुग में हिरण्याकशिपू के अत्याचारों से जन - जीवन में हाहाकार मच गया था। गुरुजी कहते है जन - मानस की पुकार सुन कर विष्णु अर्थात मैंने नृसिंहावतार धारण करके दैत्यराज हिरण्याकशिपू का वध किया और निझ भक्तराज प्रह्लाद की रक्षा की। यही प्रयोजन था इस धरा पर नृसिंह अवतार लेकर आने का। 
      इस लेख के भीतर मेरी एक काव्य रचना के माध्यम से उनकी कथा और महिमा का गुणगान -
नृसिंह होय हिरणाकुश मारी, प्रह्लादो रहियो शरण हमारी।
विश्व के स्वामी प्रभु को मान, सबके दाता नृसिंह भगवान।
भक्त मित्रता होती पक्की है, भक्ति स्वार्थ रहित सच्ची है।।
प्राकट्य नृसिंह भगवान का, मार्ग है भक्य कल्याण का।।
रहे संग ईश हमसे दूर नहीं, सर्व समर्थ है मजबूर नहीं।।
ईश्वर नृसिंह शक्ति - पराक्रम के, वे सदा रहे संस्थापक धर्म के।।
           हिरण्याक्ष के वध के बाद हिरण्यकशिपू का गुस्सा भड़क कर सातवें आसमान चढ़ चुका था। सम्पूर्ण ब्रह्मांड में उसका डर और उसका ईश्वर के प्रति विरोध दिखाता यह अंश -
जब हिरण्याक्ष था वध हुआ, हिरण्यकशिपू था कु्रद्ध हुआ।।
वह मन में दुखी हुआ भारी, हुआ विरोधी ईश ललकारी।।
उसमें ईश्वर के प्रति घृणा थी, अजय बनने बहु कामना थी।।
कठोर बहुत उसने तप किया, ब्रह्मा से था उसने वर लिया।।
देव मानव पशु से न मरे वर था, उसे किसी का भी नहीं डर था।।
हिरणाकुश शासन कठोर था, देव - दानव उस आगे कमजोर था।
राज में उसका ही अभिनन्दन था, करे उसका ही चरण - वंदन था।।
ईश पूजे मिलता दण्ड कठोर था, उस आगे हर कोई कमजोर था।।
सब लोक थे उसके ही साये में, लोकपाल सभी तब घबराये थे।।
बढ़ता गया दैत्य का अत्याचार, ऋषि - मुनि सब हो गये लाचार।।
     जब हिरण्यकशिपू का अत्याचार अधिक बढ़ने लगा और विष्णु के भक्तों द्वारा भगवान की पूजा के बाद भगवान विष्णु द्वारा भक्तों को हिरणाकुश वध के वचन को बतलाता यह अंश
भक्त विष्णु - विष्णु थे जपने लगे, देवता भी ईश स्तुति करने लगे।।
विष्णु तब स्तुति से हुये प्रसन्न, देवों - भक्तों से पूछा था प्रश्न।।
हिरणाकुश वध का दिया वचन, भक्तन ह्रदय खिला था चमन।।
     हिरणाकुश के घर भक्तराज प्रह्लाद के जन्म और उसकी विष्णु भक्ति को दर्शाता काव्य का यह अंश-
हिरणाकुश के पुत्र प्रह्लाद हुये, भक्त सारे फिर से आबाद हुये।।
प्रह्लाद विष्णु को करै प्रणाम, जपता नित्य विष्णु का नाम।।
भक्त प्रह्लाद करै ईश ध्यान, समझते हिरणाकुश ये अपमान।।
असुर बालकों को देते उपदेश, संलग्न भक्ति में रहते हमेश।।
     भक्त प्रह्लाद की भक्ति से गुस्सा और भयभीत हुए दैत्य हिरणाकुश द्वारा प्रह्लाद को डराना - धमकाना और चेतवानी देता यह काव्यांश-
हिरणाकुश को गुस्सा आया, निज बाल बहुभांत समझाया।।
भक्त प्रह्लाद दरबार बुलाया, तरह - तरह से उसको डराया।।
प्रह्लादजी भक्ति पर अड़े रहे, जोड़ हाथ विनम्र वे खड़े रहे।।
कहे डाँट तू उदण्ड हुआ है, तुम्हे दें दण्ड जरूरी हुआ है।।
कैसे आज्ञा मेरी भंग करदी, कैसे शुरू विष्णु रटन करदी।।
     हिरणाकुश द्वारा प्रह्लाद को चेतावनी देने पर प्रह्लाद द्वारा विष्णु का महत्व बतलाना और पिताजी को सही मार्ग पर आने को समझाना -
बड़े शान्त तब बोले प्रह्लाद, कण - कण में विष्णु आबाद।।
छोटे - बड़े सब नित रटते ईश, सब में बसै विष्णु जगदीश।।
विष्णुजी सबका रचावनहार, विष्णुजी सबका पालनहार।।
करै रक्षा और सबका संहार, वही जगत का है राखनहार।।
छोड़ो पिताजी ये असुरभाव, वे सबसे रखते पूरा लगाव।।
छोड़ वैर अब उदार बनिये, उस ईश्वर की भक्ति करिये।।
     भक्त शिरोमणी प्रह्लाद के मुखारविन्द  विष्णु का महिमा गान सुन कर गुस्से में भरे हिरणाकुश द्वारा प्रह्लाद को ललकारना और विष्णु का प्रमाण मांगना -
सुनी बात प्रह्लाद भक्त की, लाल क्रोध में हिरणाकुश जी।।
बोले प्रह्लाद से दैत्य ललकार, निज जीवन पर करो विचार।।
सोच समझ तू मैं ही तेरा ईश, मैं देखूं कहाँ है तेरा जगदीश।।
      भगवान विष्णु की महिमा को आगे बतलाते हुए प्रह्लाद भक्त के द्वारा  विष्णु की उपस्थिति कहां - कहां है और उन्हें सर्वोपरी विद्यमान बताये जाने पर दैत्य हिरणाकुश द्वारा खम्बे पर वार -
हाथ जोड़ प्रह्लाद कहे विनम्र, तो में - मो में एवं विराजै खम्भ।।
हिरणाकुश क्या विराजै खम्भे, दिखे न मुझे क्या हम हैं अन्धे।।
कह कूद गये सिंहासन से नीचे, तलवार हाथ आँख खोले - मीचे।।
बड़े जोर से खम्भे पर मारा है, तमतमाये ईश को ललकारा है।।
      हिरणाकुश द्वारा खम्बे पर वार के बाद भगवान विष्णु द्वारा नृसिंहावतार लेकर हिरण्यकशिपू का वध करते हैं और अपने निजी भक्त शिरोमणी प्रह्लाद को शरण प्रदान करना -
खम्भ फाड़ हरि असुर संहारा, नृसिंहावतार हिरणाकुश मारा ।।
आधा मानव तन - आधा शेर का, किया काम तमाम नहीं देर का।।
लीलाधारी आये ले नृसिंहावतार, भक्त खुश था दिया दुष्ट संहार।।
प्रह्लाद भक्त रक्षक शरणाधार है, ’ पृथ्वी’ जप विष्णु से बेड़ा पार है।।


313,सेक्टर 14, हिसार (हरियाणा) 125001
मोबाईल : 9518139200, 9467694029
mail: bishnoi.psbeniwal29@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें