इस अंक के रचनाकार

इस अंक के रचनाकार आलेख : साहित्य में पर्यावरण चेतना : मोरे औदुंबर बबनराव,बहुजन अवधारणाः वर्तमान और भविष्य : प्रमोद रंजन,अंग्रेजी ने हमसे क्या छीना : अशोक व्यास,छत्तीसगढ़ के कृषि संस्कृति का पर्व : हरेली : हेमलाल सहारे,हरदासीपुर दक्षिणेश्वरी महाकाली : अंकुुर सिंह एवं निखिल सिंह, कहानी : सी.एच.बी. इंटरव्यू / वाढेकर रामेश्वर महादेव,बेहतर : मधुसूदन शर्मा,शीर्षक में कुछ नहीं रखा : राय नगीना मौर्य, छत्तीसगढ़ी कहानी : डूबकी कड़ही : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,नउकरी वाली बहू : प्रिया देवांगन’ प्रियू’, लघुकथा : निर्णय : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,कार ट्रेनर : नेतराम भारती, बाल कहानी : बादल और बच्चे : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’, गीत / ग़ज़ल / कविता : आफताब से मोहब्बत होगा (गजल) व्ही. व्ही. रमणा,भूल कर खुद को (गजल ) श्वेता गर्ग,जला कर ख्वाबों को (गजल ) प्रियंका सिंह, रिश्ते ऐसे ढल गए (गजल) : बलबिंदर बादल,दो ग़ज़लें : कृष्ण सुकुमार,बस भी कर ऐ जिन्दगी (गजल ) संदीप कुमार ’ बेपरवाह’, प्यार के मोती सजा कर (गजल) : महेन्द्र राठौर ,केशव शरण की कविताएं, राखी का त्यौहार (गीत) : नीरव,लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की नवगीत,अंकुर की रचनाएं ,ओ शिल्पी (कविता ) डॉ. अनिल कुमार परिहार,दिखाई दिये (गजल ) कृष्ण कांत बडोनी, कैलाश मनहर की ग़ज़लें,दो कविताएं : राजकुमार मसखरे,मंगलमाया (आधार छंद ) राजेन्द्र रायपुरी,उतर कर आसमान से (कविता) सरल कुमार वर्मा,दो ग़ज़लें : डॉ. मृदुल शर्मा, मैं और मेरी तन्हाई (गजल ) राखी देब,दो छत्तीसगढ़ी गीत : डॉ. पीसी लाल यादव,गम तो साथ ही है (गजल) : नीतू दाधिच व्यास, लुप्त होने लगी (गीत) : कमल सक्सेना,श्वेत पत्र (कविता ) बाज,.

मंगलवार, 23 फ़रवरी 2021

नवगीत : अशोक सिंह

बताओ हम कहीं ठहरे हैं


बताओ ! हम कहीं ठहरे कहाँ है!
वो अपने रात हो दिन हो,
भले  ये ज़िन्दगी  पिन हो।
बताओ। हम कहीं ठहरे कहां हैं?

बन्द दरवाजे  मिले, सब शहर के घर के,
धूप के जलते सफर में छाँह  तो मिलती।
पांव जख्मी टीसते थे,लड़खड़ाते थे,
इक तसल्ली को भली सी बाँह तो मिलती।


लोग हंसते थे मियां। हम सब समझते थे,
खूब सुनते कान हैं, बहरे कहां हैं?
बस्तियों के मौन सन्नाटे 
हवायें जड़ गयीं चांटे,


सभी गूँगे  भला  संवाद  किससे  हो 
भूख की आँखों भरी भाषा,
समझता कौन परिभाषा।
कि अंधे राज्य में अनुवाद किससे हो।


कभी हम ऊब जाते हैं
भ्रमित से डूब जाते हैं,
बताये कौन हमको ताल ये गहरे कहाँ हैं?


दुखी होकर जो चिल्लाये
वो आंखें लाल कर आये
कभी पूछा नहीं क्या दर्द है क्यों शोर करते हो
जो बोलें जान लेते हैं
भॄकुटियां तान लेते हैं
पुराना रोग कहकर  घूरते क्यों बोर करते हो


हमें दुर्गत नहीं झिलती
उन्हें फुर्सत नहीं मिलती
यों कहते जब चले आना यहां पहरे कहाँ हैं?

आज ठहाके ओठों के  ...

आज ठहाके ओठों के अनदर हैं मरे मरे !

पूरा  जीवन कटा  विहँसते  बाग  बगीचों में,
और सफर करते आ ठहरे बीहड़ मरुथल में,
जहाँ पेड़ सूखे, पत्थर, रेतीले टीले हैं।
दूर - दूर  तक  हवा  कँटीली  या सन्नाटे हैं
हमने तो उत्सव मेलों में ही दिन काटे हैं,
भूखी चीलों का  क्रंदन डर पैदा करता है।
घर में इक टूटा सा खंडहर पैदा करता है।


हम जीवन भर  चले घास के  नर्म ग़लीचों में,
अन्त पहर क्यों साँस घुटी ऐसे अन्धे कल में,
जहाँ दलदली मिट्टी है सब पेड कँटीले हैं 
आधे बादल  बरस  रहे  हैं  आधे सूखे हैं
सब अध्याय लगे जो मौलिक रस के भूखे हैं
बाहर के पतझर की  अब तू बात, न कर प्यारे
बाहर से अन्दर  के मौसम ज़्यादा रूखे हैं


हम हैं स्वर्ण खाल सी ओढ़े मृग मारीचों में,
बिंधे वाण से तड़प रहे हैं निर्जन जंगल में।
रावण के बंधक हैं सम्मुख राम रसीले हैं। 
वो  भी  था  परिवेश  कि  रीते  थे पर भरे भरे।
अब भौतिक सुख लदे कहीं अन्दर पर डरे डरे।
पहले  फक्कड़ थे शाहीपन  था,व्यवहारों में,
आज ठहाके  ओठों  के अन्दर  हैं,मरे मरे।


तिलक भजन की होड़ लगी है कपटी चेहरों में,
डूब  मरेंगे  सब  बहकर इस  गंगा  के जल  में।
ये विभीत्स चेहरे जो लगते नीले पीले हैं।


जनमत शोध संस्थान पुराना दुमका, 
केवटपाड़ा दुमका-814101 (झारखण्ड)
मो. न.ः 9431339804, 
ई मेल - ashok.dumka@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें