इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

सोमवार, 22 फ़रवरी 2021

नवगीत : देवेन्द्र कुमार पाठक

हम सावन मन हरयाये


हम सावन में न हरयाये,
और न जेठ मुरझाये,
हाँ,रैली, घेराव, धरने में
डंडे खाये, अघाये।


हम अपनी क्या कहे कहानी,
इसमें कोई न राजा - रानी!


कहो तुहारी पॉलिटिक्स क्या,
कॉमरेड इस दौड़ - होड़ में,
कूद - फाँद बहुत कर रहे तुम
खींच - तान में,जोड़ - तोड़ में,


आग लगाकर चिल्लाते हो,
दौड़ो - दौड़ो कुआं खोदने,
जले न राजभवन,सिंहासन,
जली जा रही है रजधानी!


मर - खप गये,पालकी ढोते
लेकिन कुम्भ नहा न पाये,
उनके हाथ - अँगुलियाँ महकें
जिनके पुरखों ने घी खाये,


आत्मदाह कर मरे पोखरे,
हम नदियों की रेत निचोड़ें
चढ़ी दुपहरी स्वेद नहाये,
तप करते हम औघड़दानी!
रहे सींचते खेत खून से


लस्त - पस्त पाँव के छाले,
हाड़ जुड़ाती लम्बी रातें
काट रहे उम्मीदे पाले,


पाला पीटी ख्वाहिशों की
भरपाई दहाई - सैकड़े के चेक,
अच्छे दिन के दावे करती
लचर दलीले पीटें पानी!


खेत जोतते कब तक आखिर,
लबरों के हल कितने चलते,
भई गति साँप छछूँदर केरी
लीलत बने,न बने उगलते


चीख - चीख दे रही गवाही,
चश्मदीद ये पाँतें - सड़कें
लहू प्रसव या कटे - मरे का
करता सच की नीमबयानी,


न्याय चढ़ा नीलाम पक्षधर
सच के करने लगे दलाली,
प्रतिरोधों के वाहक लाइव
फेचकुर फेंकें करें जुगाली


करते हैं विष - वमन सँपोले,
गाँधी को तौले गोड़से से,
रीढ़ तोड़कर उर्वरता की
दैवी विधी की व्यथा बखानी

श्रमजीवी, श्रमसाधक हूं

मेरे अपने घर - गाँव, देश और
धरती का आराधक हूँ,
श्रमजीवी श्रमसाधक हूँ!
जेठ तपे, सावन बरसे
या पूस - माघ हिमवात चले,
हर ऋतु,हर मौसम में
ये दो पाँव मेरे दो हाथ चले,
मैं क्या जानूँ रुख बाज़ारु
हानि - लाभ की दशा दिशा,
मैं श्रम - सेवा,त्याग प्रेम और
समता का प्रतिपादक हूँ!
हाँ,मैं ही इस जग - जीवन का
वर्तमान,आगत,गत हूँ
पर अपने कृतित्व के मूल्यांकन
से विरत कर्मरत हूँ
प्रभुता के पवर्त - शिखरों पर
चढ़ना मेरा ध्येय नहीं
मैं जन - जन की भूख - प्यास,
दुख.पीड़ा का संहारक  हूँ!
पलटे कई सिंहासन, कितने
मुकुट गिरे मैंने देखा,
गुजरे कितने दुर्दिन कितने
सुदिन फिरे मैंने देखा
पदमर्दित हो गयीं ध्वजायें
और कई यशगगन चढ़ी
मैं भू सुत हर बार हर कही
नव सिरजन अवधारक हूँ।

नदी पसीनें की बहती है

धूप लकलका जब तपती है,
मेहनतकश की देह - धरा पर
नदी पसीने की बहती है,


इस श्रम नद नेही मुहावरा गढ़ा
भगीरथ प्रयत्नों का है,
इसके बलबूते ही सच साकार
हुआ सुख स्वप्नों का है,


यह श्रम.सलिला ही
बंजर को उर्वर करती है,
इस बेरंग स्वेदजल ने ही
बहुरंगी संसार रचा है,


इसके श्वांस के बल पर
जीवन पर विश्वास बचा है,
हर उन्नतित प्रगति की इससे 
राह निकलती है


इसी स्वेद -शिव ने ही दुख,
दुर्दिन के दुगर्म शिखर ढहाये,
इसने कई सफलताओं के
धरती पर आकाश झुकाये,
बदले ताज -तख्त कितने,
यह अविरल बहती है।

रचनाकार परिचय

जन्म : 02,03,1955, ग्राम भुड़सा,कटनी (म.प्र.) 
शिक्षाः एम. ए. बी.टी.सी.(हिन्दी अध्यापन) दो उपन्यास,
चार कहानी संग्रह, दो व्यंग्य संग्रह,दो कविता संग्रह पत्रिकाओं
 में रचनाएं प्रकाशित। (महरुम तख्¸ाल्लुस से गजलें कही) आकाशवाणी, दूरदर्शन से प्रसारण भी।
1315,साईंपुरम कॉलोनी, रोशन नगर,
कटनी 483501 (म.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें