इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

मंगलवार, 23 फ़रवरी 2021

फासला

बबीता कुमारी 


- खाना भी नहीं खाने दोगी तुम? तरस खाओ मुझ पर ? सारा दिन बिज़ेनस की टेंशन लो। तुम लोगों के लिए कोल्हू का बैल बने रहो और जब कुछ पल चैन के जीने घर आओ तो तुम्हारी किचकिच सुनो। आदमी ही हूँ यार मशीन नहीं।
- हाँ हाँ मंै ही सब करती हूं। तुम दूध के धुले हो ? पैसा जीने के लिए कमाया जाता है, पैसा कमाने के लिए नहीं जिया जाता राघव। हम सब ही नहीं रहेंगे तो इस पैसे को ले कर चाटना तुम। याद भी है तुम्हें कि आखरी बार बच्चों और मेरे साथ कब तुमने अच्छा समय बिताया था? ऐसा ही रहा तो  मै बता देती हूं ... बात पूरी भी नहीं हुई थी शिवानी की तब तक राघव ने कार की चाबी उठाई और बाहर आ गया। मगर वो कार में ना बैठ कर पैदल ही निकल गया। कहाँ ये उसे भी नहीं मालूम था ।
        कॉलोनी के आखिर मे चौकीदार का क्‍‍‍‍‍‍‍वार्टर था।  अन्दर से आ रहीं कुछ कुछ आवाज़े सुन कर राघव के कदम अपने आप रुक गए। शायद चौंकीदार और उसकी बीवी की थीं आवाज़ें।
- खाना नही खाई तुम?
- आपके बिना पहले कब खाए जो आज खाते?
- तुम ना पागली हो? इतना नहीं किया करो बिमार हो जाओगी।
- आप हैं ना, आपको देखते सब ठीक हो जाता है।
      फिर कुछ देर आवाज़ नहीं आई। शायद चौकीदार ने अपनी बीवी को गले लगा लिया था। राघव सोच रहा था - शायद मेरी अमीरी और इनकी गरीबी को बीच सुकून भर का ही फासला है।
राघव ने फोन निकाला और शिवानी का नंबर डायल किया ।
      उधर से शिवानी ने फोन उठाया मगर कुछ बोली नहीं। शायद अपनी सिसकियों को दबाने की कोशिश कर रही थी। कुछ पल में खुद को सम्भालते हुए शिवानी ने भर्राए हुए गले से कहा - हाँ।
- आई एम सॉरी शिवानी, आई एम रियली सॉरी। तुम सही कहती हो मैं तुम सबके ही कमाता हूँ और तुम सबको ही भूल जाता हूँ। अब ऐसा नहीं होगा। प्लीज़ मुझे लास्ट टाईम माफकर दो। शिवानी के आँखों की नमी अब राघव के शब्दों में झलक रही थी।
- तुम पागल हो एक दम। ऐसे कोई रोता है बच्चों जैसे। अब घर आ जाओ खाना खाते हैं। 
- नहीं मैं यहाँ कॉलोनी के मेन गेट पर खड़ा हूँ तुम बच्चों को ले कर आजाओ आज कहीं बहार खाने चलते हैं। जो घर में खाना बना है वो गौरी को दे देना।
      थोड़ी देर में शिवानी रिया और अभय को लेकर राघव के पास पहुंच गयी। शिवानी और बच्चे खुश थे क्योंकि कितने महीनों बाद वे सब एक साथ कहीं बाहर जा रहे था। शिवानी को दूसरी बार हैरानी तब हुई जब राघव किसी बड़े होटल की बजाए उन्हें एक पंजाबी ढाबे में ले गया। शिवानी राघव को देख कर मुस्कुराई क्योंकि शिवानी को ढाबे का खाना बहुत पसंद था और इसीलिए राघव आज सालों बाद उसे यहाँ ले कर आया था। सबने खाना खाया, खूब मस्ती की और देर रात को घर पहुंचे। 
      आज कितने दिनों बाद शिवानी राघव से वैसे ही लिपट कर सोई थी जैसे अपने प्यार के दिनों में थक जाने पर राघव से लिपट जाया करती थी। राघव उसके सर को सहला रहा था। उसके चेहरे पर आज सालों बाद इतनी सुकून भरी मुस्कराहट थी। आज जब उसने शिवानी को खिलखिलाते देखा तब उसे ऐसा महसूस हुआ था जैसे किसी बच्चे को कई दिनों बाद अचानक से उसका खोया हुआ सबसे प्यारा खिलौना मिल गया हो। राघव मन ही मन सोच रहा था कि वो कितना बेवकूफ था जो इतने कीमती पलों को खुद की ज़िन्दगी से दूर करता जा रहा था। यही सब सोचते - सोचते उसे कब नींद आ गयी पता ही नहीं चला। आज अरसे बाद वो इतनी सुकून भरी नींद सोया था। 
अगले दिन ऑफिस जाते हुए चौकीदार ने गेट खोलते हुए राघव को गुड मार्निंग विश की। राघव ने भी मुस्कुरा कर जवाब दिया और गाड़ी आगे बाढ़ा ली मगर कुछ सोच कर उसने गाड़ी बैक की।
- घनश्याम इधर सुनो ज़रा। राघव ने गाड़ी का कांच नीचे कर के चौकीदार को आवाज़ दी।
- जी साहब। चौकीदार जल्दी से राघव के पास पहुंचा। 
- आज तुम्हारा और तुम्हारे परिवार का खाना हमारे यहाँ है। शायद नौ बजे तुम लोग खाना खाते हो तो मैं साढ़े आठ तुम लोगों को लेने आ जाऊंगा।
- ठीक है। घनश्याम को कुछ समझ ही नहीं आ रहा था कि ये सब अचानक से क्यों? क्योंकि बहुत बार हुआ है कि कालोनी के किसी साहब ने उसे कुछ बचा खुचा दिया, कोई ज़्यादा खुश हुआ तो कुछ टिप दे दी मगर ऐसे किसी ने अपने घर खाने पर नहीं बुलाया। इसीलिए राघव से ये सुन कर घनश्याम विश्वास ही नहीं कर पा रहा था कि ये सच है।
- अरे भाई कहाँ खो गए? तैयार रहना मैं साढ़े आठ आऊंगा। अब बहाना मत बनाना कि तुम भूल गए। अच्छा अब मैं चलता हूँ। घनश्याम बस अपने आंसुओं को रोक कर हल्का सा मुस्कुरा पाया था। घनश्याम को क्या पता था कि उसने अंजाने में राघव के परिवार की खुशियाँ लौटा दी हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें