इस अंक के रचनाकार

आलेख दान देने का पर्व छेरछेरा / सुशील भोले भारत में लोक साहित्य का उद्भव और विकास / डॉ.सुशील शर्मा राज धरम यहै ’सूर’ जो प्रजा न जाहिं सताए / सीताराम गुप्ता स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रवाद / मधुकर वनमाली मड़वा महल शिव मंदिर भोरमदेव / अजय चन्द्रवंशी शोघ लेख भक्ति में लालसा का लिंग निर्धारण, पश्चिमी ज्ञान मीमांसा और मीरा / माधवा हाड़ा कहानी इक्कीस पोस्ट / डॉ. संजीत कुमार जिन्‍दगी क्‍या है / बलवीन्‍दर ' बालम ' लघुकथा स्टार्ट अप / विनोद प्रसाद सबक / श्रीमतीदुर्गेश दुबे मदद / रीतुगुलाटी ऋतंभरा बिल्ली / सुनिता मिश्रा सूत्र / सुरेश वाहने छत्तीसगढ़ी व्यंग्य झन्नाटा तुँहर द्वार / महेन्द्र बघेल गीत / गजल/ कविता खुशियों का संसार बना लें (बाल कविता) ओंकार सिंह ’ ओंकार’ बेबसी को दर्द की स्याही में / गजल/ प्रिया सिन्हा ’ संदल’ जड़ से मिटाओ/गीत/ अशोक प्रियबंधु, सहरा में जब भी ... / गजल/ स्वरुप , जब - जब हमनें दीप जलाये / गीत / कमल सक्सेना कवि एवं गीतकार आशा की उजियारी / गीत / जनार्दन द्विवेदी बगुला यदि सन्यासी हो तो समझो /गजल/ नज्¸म सुभाष कितना कुछ कह रहा है .../ गजल / पारुल चौधरी अपने - अपने ढंग से ही सब जीते हैं /नवगीत /जगदीश खेतान आदमियत यदि नहीं तो .../कविता/ राघवेन्द्र नारायण मिले थे यक - ब - यक/ गजल / किसन स्वरुप अनदेखे जख्¸म/ गजल / गोपेश दशोरा छन्द युग आएगा/ गीत/ डॉ. पवन कुमार पाण्डे प्यारी बिटिया / गीत/ नीता अवस्थी इश्क में मुमकिन तो है ...गजल/ तान्या रक्तिम अधरों के पंकज उर / गीत/ संतोष कुमार श्रीवास हे वीणा वादिनी माँ / गीत /स्वामी अरुण अरुणोदय प्रेरणा/ कविता/ नरेश अग्रवाल, बसन्त फिर से .../ नवगीत / डॉ सीमा विजयवर्गीय नवीन माथुर पंचोली की रचनाएँ तोड़ती रहती हर रोज/ कविता/ कविता चौहान कितना सूना है जीवन / कविता/ उषा राठौर उम्मीदों की झड़ी से लब दब गया किसान / कविता/ सतीश चन्द्र श्रीवास्तव परेश दबे ’साहिब’ की ग़ज़लें पाँव में छाले हैं ... / कविता/ यशपाल भल्ला बुरे हैं भले हैं ... कविता/ एल एन कोष्टी पीली पीली सरसों फूली/ नवगीत /हरेन्द्र चंचल वशिष्ट तुम/ नवगीत जिंदगी क्या थी .../ नरेन्द्र सिंह दीपक लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की कविताएँ केशव शरण की कविताएं मोह - गँधी गीत बन/गीत/ कृष्ण मोहन प्रसाद ’मोहन’, चाहता वो हमें इस दिल में .../ गीत/ प्रदीप कश्यप आत्ममंथन / गीत / दिनेश्वर दयाल मुस्कुराया बहुत / गीत/ किशोर छिपेश्वर ’ सागर’ इजहार / गजल /मधु’ मधुलिका’ मदारी और बंदर काका / बाल गीत / कमलेश चन्द्राकर मन का भटका कविता राजेश देशप्रेमी आया जाया करो / कविता / ऋषि कुमार पुस्तक समीक्षा संदेशो इतना कहियो जाय :कहानी संग्रह .

रविवार, 23 जनवरी 2022

ज्ञान प्रकाश पाण्डेय की ग़ज़लें

1

झूठ के हैं वो परस्तार ख़ुदा खैर करे,
कैसे - कैसे यहां किरदार ख़ुदा खैर करे ।
डर के मारे हैं जो , निकले ही नहीं हैं घर से
अब वह लोग हैं सरदार ख़ुदा खैर करे ।
हम अबस दोष दें क्यों गैर को बर्बादी की,
अपने घर हमें हैं गद्दार ख़ुदा खैर करे ।
कैसे - कैसों को सजाकर किसी नायक की तरह,
पेश करते हैं ये अखबार ख़ुदा खैर करे ।
अब - वो मेयार न वो आन पे मिटने का ज़ुनूँ ,
सब यहां बिकने को तैयार ख़ुदा खैर करे ।


2-

यूं तो लहज़ा तल्खतर तेरा भी है मेरा भी है,
अलहदा मक़सद मगर तेरा भी है मेरा भी है ।
खा-रह है ये वबा जिनको निवाले की तरह,
उनमें इक लख़्ते- जिगर तेरा भी है मेरा भी है ।
गोद में मरियम की वो नूरे-नज़र मरयम का था,
चढ़ गया जो दार पर तेरा भी है मेरा भी है ।
कुछ सराबों के भाँवर में दब गई हैं मंजिलें,
लम्हा - लम्हा इक सफ़र तेरा भी है मेरा भी है ।
क्या पता कब पीठ में ख़जर घ़ुसा दे दोस्ती,
म़ुद्दतों से ये ह डर तेरा भी है मेरा भी है ।



3-

च़ुप क्यों है इतने आप ज़रा ख़ुल के बोलिए
अब मत छुपाएं पाप ज़रा ख़ुल के बोलिए ।
इसको भी जी ह़ुजूर है उसको भी जी ह़ुजूर
हैं किसके साथ आप ज़रा ख़ुल के बोलिए ।
इतना तो ख़ुल के आप कभी बोलते न थे,
किसका है ये प्रताप ज़रा ख़ुल के बोलिए ।
इतनी मिठास लफ़्जों में पहले तो थी नहीं ,
म़ुद्दे पे आएं आप ज़रा ख़ुल के बोलिए ।
जमहूरियत के नाम पे जो चल रहा जनाब,
वरदान है या शाप ज़रा ख़ुल के बोलिए ।


4-


सब गिर गये मेयार मगर शेष कुशल है,
बिकने को है दस्तार मगर शेष कुशल ।
सिस्टम को तपेदिक है बवासीर है यारों,
म़ुश्किल है ये उपचार मगर शेष कुशल है ।
कोने में पडा है कहीं सच बोलने वाला
चमचों का है दरबार मगर शेष कुशल है ।
जनता की अदालत के हैं अधिकार निराले,
बोलूं जो तडीपार , मगर शेष कुशल है ।
बाँटती है यहां रोज ह खैरात सियासी,
बस मर रहे ख़ुद्दार मगर शेष कुशल है ।


5-


खबर में रह , नयी रफ़्तार बन जा,
निकल ह़ुजरे से अब बाज़ार बन जा ।
पसीने की कमाई का मजा ले,
कभी दो पल को तो ख़ुद्दार बन जा ।
म़ुसलसल ये द़ुकॉं चलती रहेगी,
कभी टोपी कभी ज़़ुन्नार बन जा ।
तू अपना मर्तबा भी जान लेगा,
किसी के वास्ते बेकार बन जा ।
यहॉं किसको समझ है शायर की,
अगर बिकना है तो अखबार बन जा ।


6-

म़ुसलसल जंग जारी है बहारों अब तो आ जाओ,
खिजॉं का रंग तारी है बहारों अब तो आ जाओ ।
हवा ख़ुशबू कली तितली ग़ुलों की भी तो कुछ सोचो,
यहॉं बस बे - करार है बहारों अब तो आ जाओ ।
उन्हें क्या वे तो जब चाहें जहॉं चाहें मचल जाएं,
हमीं पे वक्त भार है बहारों अब तो आ जाओ ।
त़ुम्‍हीं से जिंदा है उम्मीद बूढ़े बागबानों की,
कसम त़ुमको हमारी है बहारों अब तो आ जाओ ।
उन्हें क्या ? आज भी गर फूल कोई खिल नहीं पाया।
यहॉं पर अश्‍कबारी है , बहारों अब तो आ जाओ ।

7-


गॉंव से क्या नगर गई गंगा,
दलदलों में उतर गई गंगा ।
क्यों भला इन सगर के बेटों को,
देखते ही सिहर गई गंगा ।
भागिरथियों का दौरे - हाजिर में,
वो इरादा कि डर गई गंगा ।

म़ुझको लगता है म़ुझमें जिंदा है,
आप कहते हैं मर गई गंगा ।
ये तो बाज़ार की रिवायत है,
क्यों नज़र से उतर गई गंगा ।

8-

गाम - दर - गाम है खडा जंगल,
या कहूं साथ चल रहा जंगल ।
पहले जंगल था सिर्फ जंगल में,
अब तो नगरों में आ-गया जंगल ।
शह्र शघ़ुसपैठ कर रहा दिन-दिन,
जंगलों में कहां बचा जंगल ।
'एक तोता था एक मैना थी'
कह रहा है कोई कथा जंगल ।
सरसराती ह़ुई हवा ग़ुज़र ,
डर के मारे सिहर गया जंगल ।
वो नदी इधर फिर नहीं आई,
कब से है राह तक रहा जंगल ।
वक़्त तब्‍दीलियों में माहिर है,
रह गया बूढ़ा सा पिता जंगल ।
ग़ुमश़ुदा एक छोटे बच्चे सा,
दे रहा है किसे सदा जंगल ।
देख पाओ तो देख लो त़ुम भी,
मर रहा है ज़रा - ज़रा जंगल ।


96,T.N.B ROAD
P.O--SUKCHAR(GHOSH PARA)
24 PARGANAS(NORTH)(SODEPUR)
KOL---115(W.B)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें