इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

बुधवार, 13 जुलाई 2022

दो छत्‍तीसगढ़ी गीत

 डॉ.पीसी लाल यादव

 कथरी-गोदरी म जऊन पले हे

कथरी-गोदरी म जऊन पले हे।
तन ओखर लोहा कस ढले हे।।
पर के हँसी-खुसी खातिर ओ,
बेरा-बखत पानी कस गले हे।।

सुख का ये?कभू जानिस नहीं,
दुख ल दुख कभू मानिस नहीं।
जेठऊरी म घलो हाँसत रहिथे,
छाँव सेती छतरी तानिस नहीं।।
आमा सही लहस के फले हे।कथरी-गोदरी म जऊन पले हे।।

तन ले जब पछिना ओगरथे,
पथरा ले घलो पानी पझरथे।
तब दुनिया पाथे सोन-सिथा,
महल-देऊँर म अंजोर बगरथे।।
आँधी म घलो दीया कस जले हे।कथरी-गोदरी म जऊन पले हे।।

करम ह जेखर रामायेन-गीता,
जिनगी जेखर कथा-कविता।
हक येखर कोनो नंगावय झन,
कोनो लूटे झन सुख-सुभिता।।
गंगा भगीरथ के पाछु चले हे।कथरी-गोदरी म जऊन पले हे।।

जांगर पेरइया ललावत काबर?
ठलहा बइठइया पगुरावत काबर?
परपोसी अमरबेल के खातिर-
पेट-पीठ म फोरा परत काबर?
चिन्हव ओला कोन-कोन छ्ले हे।कथरी-गोदरी म जऊन पले हे।।

मैं बीजा अँव.....

मैं बीजा अँव....मया के बीजा अँव।
अक्ती हरेली भोजली जँवारा,
छेरछेरा पोरा-तीजा अँव।।
मैं बीजा अँव.....

माटी तो माटी ये मोर बर,
पथरा संध म घला जाम जथँव।
जर मोर जतके माटी भीतरी,
ओतके अगास म लाम जथँव।।
तुलसी कबीरा के साखी दोहा,
वेद-पुरान के रिचा अँव।
मैं बीजा अँव.....

दुख-पीरा सहिके जग खातिर,
जेन हा हांसी-खुसी ल बोंथे।
नांगर जोतइया के पाँव चूम,
धन-धन मोर जिनगी होथे।।
दाई - ददा के मया -  दुलार,
डोकरा बबा के खिझा अँव।
मैं बीजा अँव.....

माटी महतारी दुलारे मोला,
सुरुज किरन हा गुदगुदाय।
पिरीत पानी पलोवय बादर,
पवन पुरवाही झुलना झुलाय।
सुख-सुम्मत के फुलवारी मैं,
भाईचारा बाग बगीचा अँव।
मैं बीजा अँव.....

परमारथ बर जिथँव-मरथँव,
रुखवा बनके फुलथँव फरथँव।
नान्हे काया म सिरजन समाय,
सुरुज अंजोर मुठा म धरथँव।
देवारी के दीया-बाती नोहर,
अरथदूज परब गोडिंचा अँव।
मै बीजा अँव.....

मान-गऊन के लोभ ना संसो,
आस-बिसवास जिनगी धारन।
भूख-दुख सहि के पीका फोरँव,
साँस सिरावे झन मोर अकारन।।
माटी बर जेन घेंच कटाइस ओ
बीर नारायण बेटा बीजा अँव।
मैं बीजा अँव.....

            डॉ.पीसी लाल यादव

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें