इस अंक के रचनाकार

आलेख हिन्दी साहित्य गगन के चमकदार सितारेः डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी : स्वराज करुण जब मनुष्य की करुणा का विस्तार होता है,तभी वे सही अर्थों में मनुष्य बनता है / सीतराम गुप्ता प्रकृति और दाम्पत्य प्रेम का बिरला अनूठा प्रेमी गायक - केदारनाथ सिंह काशीनाथ सिंह की कहानी ’ गुड़िया’ का पाठ भेद यानि भुनगे का आदमी में पुर्नजन्म -संजय सिंह कहानी दीया जलता रहने देः बलविन्दर’ बालम’ प्रेम की जीतः श्यामल बिहारी महतो शिकारः अरूण कुमार झा ’ विनोद’ व्यंग्य चलो चिंता करें : रीझे यादव लघुकथा अपराध के प्रकार : मधु शुक्ला खिलौना : रविकांत सनाड्य भिक्षा : कमलेश राणा बारिस : अंजू सेठ विजय कुमार की लघुकथाएँ फायर्ड : सविता गुप्ता समीर उपाध्याय ’ समीर’ की लघुकथाएं दो लघुकथाएं :अनूप हर्बोला पालतू कौए : शशिकांत सिंह ’ शशि’ जयति जैन ’ नूतन’ की दो लघुकथाएं संतोष का सबक : ज्ञानदेव मुकेश गीत / ग़ज़ल / कविता दो छत्तीसगढ़ी गजल : डॉ. पीसीलाल यादव मोहब्बत की अपनी (गजल) महेन्द्र राठौर हार के घलो जीत जाथे (छत्तीसगढ़ी गीत) डॉ. पीसीलाल यादव चिरई खोंदरा (छत्तीसगढ़ी कविता) शशांक यादव महर - महर ममहावत (छत्तीसगढ़ी गीत) बिहारी साहू ’ सेलोकर’ दिल लगा के आपसे (गजल) : बद्रीप्रसाद वर्मा हमीद कानपुरी : दो गजलें यह घेरे कुछ अलग से हैं (गजल) आभा कुरेशिया बोझ उठते नहीं (गजल) विष्णु खरे प्रीति वसन बुनने से पहले (नवगीत) : गिरधारी सिंह गहलोत अवरोधों से हमें न डरना है (नवगीत) लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव पंख कहां छोड़ आई लड़की (कविता) शशिकांत पाठक सुनो (कविता ) सरोज अग्रवाल खुशी को खुशी देखकर मैंने पूछा (कविता ) शिव किशोर दीप मुझ पर हावी हो जाए (गजल ) सीमा सिकंदर निःशब्द हूं मैं (कविता ) रीना तिवारी पहचान (कविता) प्रगति रावत हक के लड़ने का (गजल) राज मंगल ’राज’ कवि (कविता) डॉ. रामप्रवेश रजक आम आदमी का न रहा (नवगीत) रमेश मनोहरा भंवरे का सफर (गीत) रणवीर सिंह बलवदा मेरा प्यार (कविता) संदीप कुमार सिंह जेठ का महीना (कविता) बृजनाथ श्रीवास्तव अगर खामोश हूं (गजल) असीम आमगांवी तेरे लब यूँ (गजल) प्रो. जयराम कुर्रे रिश्ते (कविता) नीता छिब्बर आपका ये मशवरा (गजल) प्रशांत ’ अरहत’ वह है तो हम है (कविता) तुलेश्वर कुमार सेन मेरी कहानी शिक्षा ’ मेरी जिंदगी के रंग’ : गोवर्धन दास बिन्नाणी पुस्तक समीक्षा आज का एकलव्य- मानवीयता का सहज सम्प्रेषणः अजय चंद्रवंशी .

मंगलवार, 2 अगस्त 2022

प्रेमचंद जयंती 2022 : पाठक मंच खैरागढ़

संयोजक -  डॉ. प्रशांत झा

      दिनाँक 31/07/2022 दिन रविवार को प्रेमचंद जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ प्रदेश हिन्दी साहित्य सम्मेलन  की पाठक मंच खैरागढ़ के तत्वावधान में " प्रेमचंद को याद करते हुए 'विषय पर परिचर्चा  सम्पन्न हुई  ।

       परिचर्चा में  डॉ. वीरेन्द्र मोहन ने कहा कि मूलतः उर्दू के लेखक थे। 1905 के आसपास डॉ. हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का हिन्दी आन्दोलन चल रहा था , उनसे प्रेमचंद जी का पत्र व्यवहार था , पत्र व्यवहार और सम्पर्क के कारण हिन्दी में आए। वे केवल कथाकार ही नहीं,सतत्  वैश्विक दृष्टि वाले पत्रकार थे । उनकी रचनाओं की धुरी राष्ट्र और हासिए का समाज है ,जो नवजागरण का विस्तार करता है । स्वाधीनता आंदोलन में उनका योगदान रचना के स्तर पर था । उस समय उपनिवेशवाद तो था ही, फासीवाद भी उभार पर था ।  चर्चिल को पत्र-पत्रिका के माध्यम से प्रतिकार करते हैं-' संसार में जो कुछ हो रहा है उससे प्रभावित हुए बिना भारत नहीं रह सकता।' इस तरह स्वाधीनता आंदोलन में उनका योगदान रचना के स्तर पर था । विखंडन-विस्थापन की बुनियाद उसी समय की है । अंग्रेजों के भी मजदूर को मजदूर से लड़वाया जाता था । यह जड़ों को खोखला कर रहा है । भविष्य के इन खतरों को प्रेमचंद की रचनाओं में पाते हैं । आज भी यही हो रहा है क्योंकि सत्ता का चरित्र यही है और यह पूंजी कमाने और उसकी सनक से पैदा होती है ,और जब यह सनक बढ़ जाती है तो पूंजीपति सत्ता को नियंत्रित करते हैं । इस हम आज के परिवेश में भी देख सकते हैं । इस तरह की तमाम असमानता की चिंता को प्रेमचंद जी रचनाओं में व्यक्त हुआ देखते  हैं।

       डॉ.जीवन यदु ने कहा कि कोई भी रचनाकार इतिहासकार नहीं है तो वह सफल रचनाकार नहीं हो सकता । प्रेमचंद जी की रचनाएं उस कालखंड की शिलालेख है ।  उस काल को जानने -समझने के लिए प्रेमचंद जी को पढ़ते हैं।आगे कहा कि गाँधीवादी दर्शन कि सरल भाष्य प्रेमचंद की रचनाएं हैं । श्री विनयशरण सिंह ने कहा कि प्रेमचंद जी को याद करते हैं तो सही मायने में साहित्य की आवश्यकता महसूस होती है । ग्रामीण समाज, किसान-समस्या, राष्ट्रीय के स्वर और मनुष्यता का पुजारी आदि हम  प्रेमचंद की रचनाओं  में  पाते हैं ।

        श्री टी.के.चंदेल ने कहा कि प्रेमचंद जी को याद करते हैं तो ग्रामीण परिवेश को पाते हैं और अपने आसपास को पाते हैं। डॉ.प्रशांत झा ने कहा कि उन्हें याद करते हुए तब का और अब का  ,पूरे मानव समाज को  देखना होता है । उनके समय अंग्रेज बहादुर कम्पनी ही थी,आज तो कम्पनी-कम्पनी है। इसे देखते हुए लगता है कि व्यवस्था चाहे जो भी हो ,प्रेमचंद जी याद आते रहेंगे।
        श्री यशपाल जंघेल ने कहा कि प्रेमचंद जी को याद करते हैं तो लगता है कि उन्हें पढना कितना जरूरी है।आज इसलिए प्रासंगिक है क्योंकि यंत्र बदल गए हैं,पर तंत्र है । श्री संकल्प यदु ने कहा कि प्रेमचंद जी को याद करते हैं तो भारत का स्वरूप याद आता है । हम अपने बारे सोचते हैं क्योंकि उनके पात्र में हमारा आसपास  जीवित हो उठता है। उनको पढ़ते हुए हम अपने आप को अकेला नहीं पाते,बल्कि अपना विस्तार पाते हैं।

      श्री अनुराग तुरे ने कहा कि प्रेमचंद जी को याद करते हैं तो उनके विचार याद आते हैं और विचारों से जीवन चलता है। इस तरह वे समसामयिक और प्रासंगिक बने हैं । श्री विप्लव साहू ने कहा कि वे आधुनिक काल के युगपुरुष की तरह याद आते हैं । भारतीय जनमानस की बातों को उनकी रचनाओं में पाते हैं। जितना उनको पढ़ते हैं ,उतनी ही समाज की परतें खुलती है । श्री रवि यादव ने कहा कि उनको याद करते हैं तो लगता है कि वे तीसरे नेत्र वाले व्यक्ति थे जिनका तीसरा नेत्र खुल चुका था । श्री बलराम यादव ने कहा कि प्रेमचंद जी  शोषित वर्ग के पक्षधर के रूप में याद आते हैं ।

        
इस आयोजन में श्री सुविमल श्रीवास्तव , श्री दूजराम साहू ने अपनी उपस्थिति दी । कार्यक्रम का संचालन डॉ. प्रशांत झा और श्री संकल्प यदु ने आभार प्रदर्शन किया ।     


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें