इस अंक के रचनाकार

इस अंक के रचनाकार आलेख : साहित्य में पर्यावरण चेतना : मोरे औदुंबर बबनराव,बहुजन अवधारणाः वर्तमान और भविष्य : प्रमोद रंजन,अंग्रेजी ने हमसे क्या छीना : अशोक व्यास,छत्तीसगढ़ के कृषि संस्कृति का पर्व : हरेली : हेमलाल सहारे,हरदासीपुर दक्षिणेश्वरी महाकाली : अंकुुर सिंह एवं निखिल सिंह, कहानी : सी.एच.बी. इंटरव्यू / वाढेकर रामेश्वर महादेव,बेहतर : मधुसूदन शर्मा,शीर्षक में कुछ नहीं रखा : राय नगीना मौर्य, छत्तीसगढ़ी कहानी : डूबकी कड़ही : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,नउकरी वाली बहू : प्रिया देवांगन’ प्रियू’, लघुकथा : निर्णय : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’,कार ट्रेनर : नेतराम भारती, बाल कहानी : बादल और बच्चे : टीकेश्वर सिन्हा ’ गब्दीवाला’, गीत / ग़ज़ल / कविता : आफताब से मोहब्बत होगा (गजल) व्ही. व्ही. रमणा,भूल कर खुद को (गजल ) श्वेता गर्ग,जला कर ख्वाबों को (गजल ) प्रियंका सिंह, रिश्ते ऐसे ढल गए (गजल) : बलबिंदर बादल,दो ग़ज़लें : कृष्ण सुकुमार,बस भी कर ऐ जिन्दगी (गजल ) संदीप कुमार ’ बेपरवाह’, प्यार के मोती सजा कर (गजल) : महेन्द्र राठौर ,केशव शरण की कविताएं, राखी का त्यौहार (गीत) : नीरव,लाल देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की नवगीत,अंकुर की रचनाएं ,ओ शिल्पी (कविता ) डॉ. अनिल कुमार परिहार,दिखाई दिये (गजल ) कृष्ण कांत बडोनी, कैलाश मनहर की ग़ज़लें,दो कविताएं : राजकुमार मसखरे,मंगलमाया (आधार छंद ) राजेन्द्र रायपुरी,उतर कर आसमान से (कविता) सरल कुमार वर्मा,दो ग़ज़लें : डॉ. मृदुल शर्मा, मैं और मेरी तन्हाई (गजल ) राखी देब,दो छत्तीसगढ़ी गीत : डॉ. पीसी लाल यादव,गम तो साथ ही है (गजल) : नीतू दाधिच व्यास, लुप्त होने लगी (गीत) : कमल सक्सेना,श्वेत पत्र (कविता ) बाज,.

मंगलवार, 29 नवंबर 2022

 प्रकृति की खूबसूरंती का संकल्प है : बसंत ऋतु

बलविंदर बालम गुरदासपुर

     माघ शुक्ल पंचमी के दिन बसंत का जन्म हुआ था। बसंत पंचमी के दिन कला और संगीत की देवी सरस्वती की पूजा होती है। भव्य फूल,स्वस्थ फल लताएं बन्दनवार से ऋतु रानी बसंत का अभिनंदन करती हैं। यह त्यौहार में ऋतुओं की रानी बसंत के नेतृत्व की सूचना देता है।
     बसंत फबीले मौसम का महामेला है। प्रकृति की खूबसूरती का संकल्प है बसंत। सुन्दर - सुन्दर खिलते फूलों को चूमते शबनम के कतरे जिंदगी के हकीकी जान पहचान करवाते नजर आते हैं। खेतों में दूर - दूर तक सरसों की पीली सोने जैसी चमकती फसलें आँखों के लिए एक तंदरूस्त खुराक,भव्य नज़ारों की तृप्ति में बदलती है।
     मौसम के खूबसूरत परिवर्तन का नाम है बसंत। सूर्य जब तड़क सबेरा लेकर सुन्दर प्रभा बांटता है तो मौसम की अंगड़ाई में सुरभियां प्यार उड़ेलती हैं। लहलहाते हरे.भरे खेत, फूलों के रंगों की सुन्दर झलक, आमों के ऊपर पड़ा बूर किसी मतवाली कोयल का इकरार, मनमोहनी आवाज को तरसता है। फिर बसंत में रंग जाता है सारा संसार, काएनात समस्त मानवता।
     तुर्ले वाली पीली पगड़ी, परिधान गुलाबी लाचा (तहमत) किसी मूंछ फूट जवान के गोरे - गोरे मुख पर तैरती सूर्य जैसी हंसी, हाथ में सुन्दर लाठी (खूंटा) गले में सफेद माला, छाती के ऊपर मचलता सोने का कैंठा (अलंकार ) मुकम्मल सभ्याचार में बसंत का स्वरूप। लहलहाते खेतों में एक सुन्दर नारी, सिर के ऊपर पीला दुपट्टा घटाओं जैसा लहराता, पैरों में पाजेबों की पच - पज, लम्बे परादें वाली चोटी में सुसज्जित फुम्मन, मटक - मटक पब छोड़ती जाती जन्नत के बीच। बसंत की आमद का प्यार उमड़ता।
     फसलें लहलहा कर हंसती जोबन ( यौवन) ऋतु में। कोमल - कोमल शखाओं पर फूटते सूर्ख आनार। मौसम का गुलाबी रंग। सर्दी तथा गर्मी आपस में आँख मचोली खेलते हुए मर्मस्पर्शी मौसम के नाम पतझड़ क्रियाओं को अलविदा कहते हुए अतीत के पैरों में वर्तमान के अति सुन्दर चिन्ह छोड़ जाते। किसान - जिमींदार अपनी कमाई की खुशी के चिन्ह, जवान भरपूर खिलती पक रही फसलों के सुनहरी दृश्य देखता हुआ, घरेलू मजबूरियों तथा ऋण से निजात पाने की ललक में तत्पर होते हैं।
     बसंत ऋतु सुन्दरता की असली परिभाषा तथा मौसम में कामोद दीपक होता है। इसके प्रमुख देवता काम तथा रति हैं। अतएव काम तथा रति के प्रधानतया पूजा करनी चाहिए। सरस्वती देवी विद्या, वृद्धि देती है। घरों में सरस्वती की पूजा की जाती है। इस दिन  धमार गीत गाए जाते हैं गेहूं तथा जो की स्वर्णिम वालियां भगवान को अर्पित की जाती हैं। इन दिनों भगवती सरस्वती के पूजन की विशेष फल है। इस मौसम में कामोत्तेजना हृदय में जगा जाती है अभिलाषा। बागों में तितलियां, भंवरे, कोयलें, मोर, पपीहे, अन्य पक्षी उपवन से दिलकश कलोल करते हुए बसंत की बसंती बना देते हैं। भव्य फूल तथा कलियों के सफेद जिस्म बसंत ऋतु को दिव्यता बख्शते। पक्षियों की चहचहाटट, सूर्य की किरणों के साथ मानवता को प्रसन्नता का संदेश देती है। बसंत ऋतु में एकता,सद्भावना,नेतृत्व दृढ़ता, आपसी भाईचारे का संदेश देते हैं परवासी पक्षियों के झुंड। यही बसंत की खूबसूरती हैं।
     शुभ - शकुन की पवित्र परम्परा है बसंत ऋतु। इस दिन सारी प्रकृति, का नात तथा बनस्पति मानवता को सत्यम शिवम सुन्दरता का संदेश देती है। निर्झर नदी नालों में पानी की शुद्धता बड़ती हुई खुशहाली का संदेश देती है। पहाड़ों की खूबसूरती में बसंत की ऋतु दुल्हन जैसी सजती हुई जन्नत का आभास करवाती है। यह ऋतु मानव की खुशहाली की प्रतीक है। नील गगन की चूमती पहाड़ों की चोटियों के ऊपर खितली बंसत में तरह - तरह के फूलों की महक टेढ़ी - मेढ़ी पगडंडियों की जिंदगी का नाम देती है। पहाड़ों की खूबसूरती में भी बसंत की ऋतु एक विलक्षण परिवर्तन करती है। बर्फ के घुलने से शुद्ध पानी अपनी परिवर्तनशीतला में नवीनता उत्पन्न करता है। निर्झरों का शुद्ध दुधिया पानी ऊपर से बहता हुआ नीचे जब धरती को चूमता है तो दर्पण की किरचियों जैसा टूट कर फैलता हुआ अनेक प्रतिबिम्ब उत्पन्न करता है जो जवानी, भव्यता और जन्नत का स्वरूप लेता है। इस दिन चारों और बसंती रंग की सुन्दरता बिखर जाती है।
      बसंत ऋतु के सबंध में श्री गुरू अमरदास जी ने अपनी वाणी में कहा है कि वनसपति मऊली चढ़िआ बसंत। ऐह मन मऊलिया सतिगुरू संग। तुम साच ध्यावह मुगध मना। तां सुख पावहु मेरे मनां। यह पक्तियां जीवन के सुखद पलों की दर्शाती हैं। वनस्पति आने पर बसंत की आमद तथा सुख की प्राप्ति सतगुरू की उपासना से ही है।
     भक्त कबीर जी अपनी वाणी में लिखते हैं - मऊली धरती मऊलेआ आकास। घटि घटि मऊलेआ आतम प्रगास आदि।
श्री गुरू अर्जुन देव जी अपनी वाणी में कहते हैं तिस बसंत जिस प्रभु कृपाल। तिस बसंत जिस और दयाल।।
 मंगल तिसकै जिस एक नाम।। तिस सद बसंत जिस रिदै नाम।। 2।। आदि।
श्री गुरू अमरदास जी लिखते हैं बसंत चढ़िआ फूली बनराय।। ऐह जीअ जंत फूलहि हरि चित लाए।।
     आध्यात्मिक संदर्भ में आत्म विकास की अवस्था ही बसंत है जो गुरू कृपा से ही उपलब्ध है। इस दिन आसमान में पतंगे ( गुड्डिया) तथा डोरे इस तरह पेचे लड़ाती हैं कि सारा आसमान ऐसे नजर आता है जैसे किसी चित्रकार ने हवा में चित्रकारी कर रखी हो। रंग बरंगी पतंगों की खूबसूरती आसमान को सौंदर्य बख्शती है। आ.बो.ई.ओ की लम्बी ध्वनियां फिजा में जब गूंजती हैं तो जवानी की परिभाषा उपड़ती हैं। बसंत में बढ़ौतरी होती है।
     बसंत वाले दिन सारे भारत में ही दीर्घ - लघु मेले, पतंगबाजी के लाखों के मुकाबले होते हैं। विशेष तौर पर लखनऊ आदि शहरों में पतंगबाजी की शर्त लगती हैं। विशेष तौर पर पंजाब के अमृतसर में तथा फिरोजपुर आदि शहरों में पतंगबाजी की शर्तें लगती हैं तथा देर रात तक पतंगों के पेचे चलते हैं। पतंगबाजी का त्यौहार भी इस दिन धूमधाम से मनाया जाता है। लड़कियां भी पतंगे उड़ाती हैं। माता - पिता अपनी प्यारी - प्यारी बेटियों को स्वंय पतंगे,डोर खरीद कर देते हैं तो जो लड़कियों में बराबरता का आत्म विश्वास बढ़े।
     भाई गुरदास जी ने जीवन से तशबीह ( उपमा ) देते हुए अपनी कविता में पतंग ( गुड्डी ) के सबंध में कमाल का लिखा है।
पवन गवन जैसे लटूटा फिरत रहे,
पवन रहित गुड्डी उड़ न सकत है।
डोरी को मरोर जैसे लटूआ फिरत रहै,
ताऊ हाऊ गिर परै थकत है।।
कंचन असुध जिऊ कुठारी ठहगत नाही,
शुद्ध भ, निहचल छवि कै छकत है।
दुरमति दुविधा भ्रमत है चतुर कुंट,
गुरू भति एक टेक मौन न बकत है।।
     यह कविता मानव और प्रभु के सबंध है परन्तु गुड्डी की उदाहरण कमाल की है। बसंत के दिन घरों - धार्मिक स्थानों, संस्थाओं आदि में पीले रंग का प्रसाद, पीले रंग के मीठे चावल बनाए जाते हैं। प्रत्येक शहर, नगर गांव में मेले लगते हैं। काम तथा रलि की प्रधानतया पूजा की जाती है। ब्रह्मा जी ने देवी से वीणा बजा कर संसार की भूकता तथा उदासी दूर की। देवी ने वीणा के मधुर नाद से सब जीवों को वाणी प्रदान की, इसलिए उस देवी को सरस्वती कहा गया। यह देवी विद्या, बुद्धि को देने वाली है। इसलिए बसंत के दिन घरों में सरस्वती की पूजा की जाती है।
     यौवन हमारे जीवन का बसंत है तो बसंत इस सृष्टि का यौवन मानव को अपने अस्वस्थ देह को स्वस्थ बनाने के लिए प्रकृति के सान्निध्य में जाना चाहिए। प्रकृति सुख दुख के द्वद्वों से परे है। इस में प्रभु की विधमानता संदेश भासती रहती है क्योंकि प्रभु - स्पर्श जीवन में सदैव एक ही ऋतु रहती है और वह है बसंत और प्रभु - स्पर्शी जीवन में एक ही अवस्था रहती है और वह है यौवन। प्रकृति के सम्मोहन में मानव के तन में स्फूर्ति, मन में उल्लास, बुद्धि में प्रसन्नता और हृदय में चेतना प्रगट होती है सृष्टि की सुन्दरता और यौवन की रसिकता का यहां सुमेल होता है। वहां निराशा, नीरसता, निश्कि्रयता जैसी बातों का स्थान ही कहां। यही बसंत का वैभव है। बिना वर्षा के सृष्टि को पुन नवपल्लवित करने का प्रभु का चमत्कार बसंत में साकार होता दिखाई देता है। जीवन और बसंत को जिसने एक रूप कर दिया ऐसे मानव को हमारी संस्कृति में संत कहा गया है जो जीवन में बसंत लाए वही संत है।
     यौवन और संयम, आशा और सिद्धि और वास्तविकता जीवन और मौसम, भक्ति और शक्ति, सर्जन और विसर्जन - इन सब में समन्वय करने वाला, जीवन में सौंदर्य, संगीत स्नेह निर्माण करने वाला बसंत हमारे जीवन में साकार बने, तभी हमने बसंत को जाना है। पाया और पचाया है,  ऐसा कहा जाएगा। सम्भवतः इसी सार तत्व को जान कर बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहा जाता है। श्री का अर्थ है शोभा, सौंदर्य, रमणीकता। यह बाहर तथा आन्तरिक दोनों में ही व्यक्त है। इसी में जीवन की सार्थकता है।
     बसंत में प्रदूषण दूर होता है। बसंत जीवन में हर्षोल्लास तथा आशाओं के गुलदस्ते लाती है। बच्चों में बसंत ऊर्जा, इच्छा शक्ति, खुशी की किलकारियां भरती हैं। बसंत प्रफुल्लता था ताजगी का संदेश देती है।
      भगवत गीता में अर्जुन से भगवान कृष्ण ने कहा था - मैं ऋतुओं में सबंत हूं। बसंत समता की पर्याय है। इस दिन बंगाल, उत्तरी भारत तथा बंगला देश में पीले तथा गुलाबी रंग में होली भी खेली जाती है।
     इस दिन के साथ कई ऐतिहासिक घटनाओं का भी सम्बन्ध है। विशेष तौर पर वीर हकीकत राय की शहादत का। वीर शहीद हकीकत राय की समाधि बटाला ( गुरदासपुर, पंजाब) में है यहां भारी मेला लगता है। नामधारी कूका लहर की कुर्वानियां, जरनैल शाम सिंह अटारी की शहीदी आदि घटनाएं तथा शुभकार्यों का भी इस के साथ सम्बंध है।
      इस दिन धार्मिक स्थानों में कीर्तन, शब्द गायन तथा प्रवचनों का आयोजन भी किया जाता है।
विशेषतः श्री हरि मन्दिर साहिब (श्री दरबार साहिब, अमृतसर) पंजाब में सारा दिन बसंत की स्तुति में शब्द गायन (कीर्तन) किया जाता है।
बसंत ऋतु समस्त ऋतुओं की महारानी है। मानवता के जीवन में इसकी महानता हृदय में उतरने वाली तथा शुद्धता,सुन्दरता, शान्ति तथा हर्षोल्लास की प्रतीक है।

ओंकार नगर,गुरदासपुर (पंजाब)
मोः 9815625409

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें